'हम कौशल नहीं, आईपी के लिए करते हैं अधिग्रहण'

रोमिता मजूमदार |  Apr 23, 2018 01:52 PM IST

बीएस बातचीत

देश की सबसे बड़ी आईटी सेवा कंपनी टाटा कंसल्टैंसी सर्विसेज (टीसीएस) लगातार बेहतर वित्तीय प्रदर्शन करने की अपनी क्षमता का प्रदर्शन करती रही है। टीसीएस के मुख्य परिचालन अधिकारी एन गणपति सुब्रमण्यन ने रोमिता मजूमदार से बातचीत में कंपनी की रणनीति, कौशल, अधिग्रहण आदि तमाम मुद्दों पर विस्तृत चर्चा की। पेश हैं मुख्य अंश:

टीसीएस ने डिजिटल कारोबार से करीब 24 फीसदी राजस्व के साथ डिजिटल सौदों में उल्लेखनीय वृद्धि दर्ज की है। क्या इन सौदों से मार्जिन को बल मिलेगा?
मूल्य निर्धारण का संबंध मूल्य वृद्धि के साथ-साथ मांग एवं आपूर्ति से है। डिजिटल दक्षता के लिए मांग-आपूर्ति में स्पष्ट अंतर होता है। इसलिए डिजिटल सेवा का मूल्य भी अधिक होता है और अन्य सेवाओं के मुकाबले उसका मार्जिन भी अधिक होता है। मार्जिन प्राप्तियां सौदे के ढांचे पर भी निर्भर करता है क्योंकि डिजिटल परियोजनाओं का दायरा छोटा होता है। हमने इस तिमाही (वित्त वर्ष 2018 की चौथी तिमाही) के दौरान करीब 250 डिजिटल सौदे हासिल किए जिनका मूल्य करीब 1 अरब डॉलर है। अगले दो तिमाहियों के दौरान हमें इन सौदों को निपटाना होगा। हम इन सौदों को बड़े सौदे में तब्दील करने की संभावनाएं लगातार तलाश रहे हैं।

आपने करीब 12 तिमाहियों तक डॉलर में लगातार दो अंकों की वृद्धि दर्ज की है। इसे बरकरार रखने के लिए क्या योजना है?
हम जो कुछ करते हैं उसमें मुद्रा की अहम भूमिका होती है। लेकिन यह कारोबार का महज एक कारक है जैसे वीजा, व्यापार नीतियां अथवा ब्रेक्सिट। हम इन कारकों के लिए निर्णय नहीं ले सकते और इसलिए हमें उन पर लगातार नजर रखना होगा। हमारे कारोबार के तहत कुछ सौदे संभावित हैं जिन्हें निष्पादित करने और राजस्व में तब्दील करने की जरूरत है। पहला, मैं लघु अवधि में इन अनुबंधों को राजस्व में तब्दील करना चाहता हूं। दूसरा, मुझे यह आश्वस्त होने की जरूरत है कि इन परियोजनाओं के लिए पर्याप्त कर्मचारी मौजूद है। तीसरा, हमें सबसे कुशल तरीके से इन परियोजनाओं को निष्पादित करने की जरूरत है।

विश्लेषक लगातार टीसीएस के विलय-अधिग्रहण के जरिये वृद्धि की रणनीति पर सवाल उठाते हैं जो अन्य प्रतिस्पर्धियों के मुकाबले काफी आक्रामक है। इस पर आप क्या कहेंगे?
हमारी बिल्कुल स्पष्ट रणनीति है कि हम अपने लोगों को नजरअंदाज नहीं कर सकते और उन्हें अपने ग्राहक के कारोबार संबंधी ज्ञान के साथ-साथ नए कौशल एवं नई प्रौद्योगिकी से लगातार प्रशिक्षित किया जा सकता है। यह प्रौद्योगिकी से अवगत लेकिन ग्राहक के लिए अनुपयुक्त लोगों को हासिल करने से बेहतर है। हमने कौशल वृद्धि कार्यक्रम के साथ-साथ 4.0 फ्रेमवर्क के साथ अपने ग्राहकों को बेहतर स्थिति में रखने का निर्णय लिया है। हम कौशल के लिए नहीं बल्कि आईपी मूल्य के लिए कंपनियों का अधिग्रहण करते हैं।

कीवर्ड TCS, share, IT company, share, market, टीसीएस, वित्तीय प्रदर्शन, मुख्य परिचालन अधिकारी, एन गणपति सुब्रमण्यन,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक