आटा, दाल, दवा भी बेचेगी फ्लिपकार्ट!

करण चौधरी | नई दिल्ली May 25, 2018 11:30 AM IST


सोलह अरब डॉलर में हिस्सेदारी बेचने, शीर्ष प्रबंधन बदलने और वॉलमार्ट जैसी दिग्गज रिटेलर के हाथ में अपनी कमान देने के बाद अब फ्लिपकार्ट को अहसास हुआ कि केवल स्मार्टफोन और इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के बल पर वह ग्राहकों को जोड़कर नहीं रख पाएगी। वह यह भी समझ गई है कि इन्हीं सामान तक सीमित रहने से उसका राजस्व भी बहुत नहीं बढ़ेगा।

इसलिए वॉलमार्ट का साथ मिलने के बाद अब यह देसी खुदरा दिग्गज राशन के सामान से लेकर बड़े उपकरणों, फर्नीचर और दवा की बिक्री में भी लंबे हाथ मारने की योजना बना रही है। वॉलमार्ट के साथ विलय के बाद बैठकों का जो दौर चला, उसमें फ्लिपकार्ट के शीर्ष प्रबंधन को समझा दिया गया है कि अगर कंपनी को अपनी ग्रॉस मर्केंडाइज वैल्यू (जीएमवी) बढ़ानी है तो उसे स्मार्टफोन के अलावा श्रेणियों पर भी ध्यान देना होगा।

फिलहाल कंपनी की जीएमवी करीब 7.5 अरब डॉलर है। फ्लिपकार्ट के एक करीबी सूत्र ने बताया कि कंपनी किराने के सामान, बड़े उपकरणों और फर्नीचर की श्रेणी में व्यापक विस्तार की योजना बना रही है ताकि 2020 तक जीएमवी बढ़ाकर 15 अरब डॉलर हो सके। स्मार्टफोन में जीएमवी करीब 2 अरब डॉलर है जो अधिकतम 4 अरब डॉलर तक पहुंच सकती है। फैशन में भी जीएमवी यहीं तक पहुंच सकती है।

वॉलमार्ट के लक्ष्य को हासिल करने के लिए कंपनी को नए क्षेत्रों में उतरने की जरूरत है। फ्लिपकार्ट ने इस बारे में कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया। जो योजना बनाई जा रही है, उसके मुताबिक अगले एक साल के अंदर फ्लिपकार्ट बड़े घरेलू इलेक्टॉनिक्स उपकरणों के लिए गोदाम बढ़ाएगी। कंपनी ने अपने गोदामों की संख्या कभी नहीं बताई, लेकिन फिलहाल उसके पास 21 गोदाम हैं। अगले डेढ साल में कंपनी इस संख्या को 35 तक पहुंचा सकती है।

कंपनी बिलियन ब्रांड के तहत अपने एयरकंडीशनर, रेफ्रिजरेटर और एलईडी टेलीविजन उतारने की योजना बना रही है, जिसके लिए उसे विशेष गोदामों की जरूरत है। कंपनी बेंगलूरु के बाहरी इलाके में एकीकृत लॉजिस्टिक्स पार्क बनाने की योजना बना रही है। यह देश में अपनी तरह का सबसे बड़ा और अनोखा केंद्र होगा। कंपनी इसके लिए 100 एकड़ जमीन खरीदने में जुटी है। इसमें बड़े-बड़े गोदाम होंगे जो एमेजॉन और अलीबाबा द्वारा अमेरिका और चीन में बनाए गए गोदामों की टक्कर के होंगे।

फ्लिपकार्ट किराने के सामान, फर्नीचर कारोबार और बड़े उपकरणों के लिए आपूर्ति शृंखला पर काम कर रही है। सूत्र ने कहा कि किराने के सामान के लिए अलग आपूर्ति शृंखला होगी क्योंकि इसके लिए अलग तरह के लॉजिस्टिक्स की जरूरत है। कंपनी ने बेंगलूरु में एक प्रायोगिक परियोजना शुरू की है और जब इसका विस्तार होगा तो आपूर्ति शृंखला भी बढ़ेगी। इसी तरह फर्नीचर और बड़े उपकरणों के लिए भी अलग आपूर्ति शृंखला होगी।

कंपनी ने एक निजी फर्नीचर लेबल परफेक्ट होम्स शुरू किया है और वह साल के अंत तक 11 करोड़ डॉलर जीएमवी का लक्ष्य लेकर चल रही है। फ्लिपकार्ट की योजना अगले कुछ महीनों में दवा आपूर्ति के क्षेत्र में भी उतरने की है। वॉलमार्ट के साथ विलय के बाद फ्लिपकार्ट के मुख्य कार्याधिकारी कल्याण कृष्णमूर्ति ने कहा कि कंपनी दवा आपूर्ति के क्षेत्र में उतर सकती है क्योंकि यह अभी भारत में शैशवावस्था में है।

सूत्रों का कहना है कि फ्लिपकार्ट ने निवेश, विलय और अधिग्रहण के लिए करीब एक अरब डॉलर रखे हैं। कंपनी की स्विगी, बुकमाईशो, पेपरफ्राई, ऑनलाइन किराने का सामना मुहैया कराने वाली एक कंपनी और बीमा कंपनियों सहित कई छोटी कंपनियों में निवेश के लिए बातचीत फिर से शुरू करने की योजना है। साथ ही कंपनी ई-कॉमर्स क्षेत्र की अन्य कंपनियों के साथ भी मिलकर काम करना चाहती है।

कीवर्ड walmart, flipkart, e commerce, amazone, वॉलमार्ट, फ्लिपकार्ट, स्मार्टफोन, इलेक्ट्रॉनिक उपकरण,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक