इंडियन ओवरसीज बैंक को 3,606.73 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा

भाषा | नई दिल्ली May 30, 2018 02:21 PM IST

सार्वजनिक क्षेत्र के इंडियन ओवरसीज बैंक को मार्च में समाप्त वित्त वर्ष 2017-18 की चौथी तिमाही में 3,606.73 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ है। इसकी प्रमुख वजह फंसे हुए कर्ज के प्रावधान में वृद्धि होना है। इससे पिछले वित्त वर्ष 2016-17 की जनवरी-मार्च तिमाही में बैंक को 646.66 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ था। शेयर बाजार को दी जानकारी के अनुसार समीक्षाधीन अविध में बैंक को 5,814.42 करोड़ रुपये की शुद्ध आय हुई है, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि में 5,661.70 करोड़ रुपये थी।

बैंक का इस अवधि में फंसे कर्ज के लिए प्रावधान बढ़कर 6,774.55 करोड़ रुपये हो गया जो इससे पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि में केवल 1,789.74 करोड़ रुपये था। बैंक की सकल गैर निष्पादित आस्तियां (एनपीए) इस दौरान उसके सकल ऋण का 25.28 प्रतिशत रही हैं जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में 22.39 प्रतिशत थी। बैंक का शुद्ध एनपीए उसके शुद्ध ऋण का 15.33 प्रतिशत रहा है। पूरे वित्त वर्ष 2017-18 में बैंक को 6,299.49 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ है जो 2016-17 में 3,416.74 करोड़ रुपये था।

कीवर्ड IOB, bank, loss, NPA, इंडियन ओवरसीज बैंक, शुद्ध घाटा, एनपीए,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक