'एमेजॉन का भारत में अभी पहला दिन'

करण चौधरी | नई दिल्ली Jun 07, 2018 02:06 PM IST

ऑनलाइन मार्केटप्लेस एमेजॉन भले ही भारत में सबसे ज्यादा देखी जाने वाली शॉपिंग साइट है, लेकिन इसके संस्थापक और सीईओ जेफ बेजोस का मानना है कि अभी भी यहां कंपनी का पहला दिन है। अमेरिका के बाहर एमेजॉन के लिए भारत दूसरा सबसे महत्त्वपूर्ण बाजार है। एमेजॉन इंडिया स्थानीय भारतीय भाषाओंं पर काम कर ग्रामीण इलाकों में अपनी पैठ मजबूत करने की कवायद में लगी है।

एलेक्सा के माध्यम से धार्मिक गीतों की स्थानीय भाषाओं में प्रस्तुति से लेकर स्थानीयकरण के माध्यम से ऑनलाइन मॉर्केटप्लेस देश की संस्कृति का हिस्सा बन गई है और उसी के मुताबिक अपनी सभी सेवाएं व पेशकश दे रही है। बेजोस ने साफ किया कि एमेजॉन इंडिया अभी नहीं बल्कि पिछले दो साल से भारत में सबसे ज्यादा देखी जाने वाली वेबसाइट बनी हुई है।

एमेजॉन ने भारत मेंं 5 साल पूरे कर लिए हैं। वह स्थानीय लोगों मेंं लोकप्रिय स्नैपडील और फ्लिपकॉर्ट के मुकाबले आगे बढऩे में सफल रही है। उपभोक्ताओं को लिखे पत्र मेंं बेजोस ने कहा है कि एमेजॉन की पहुंच अब देश में सेवा योग्य 100 प्रतिशत पिनकोड तक है और 13 राज्योंं में स्थित 50 से ज्यादा  गोदामों से सामान पहुंचा रही है।  

पत्र में उन्होंने कहा है, 'हमने अपनी यात्रा के 5 साल पूरे किए हैं, लेकिन हम कहना चाहते हैं कि एमेजॉन का यह पहला दिन है। मैं आगे की संभावनाओं को लेकर उत्साहित हूं। एमेजॉन डॉट इन इंडिया की की अपनी दुकान है।' बेजोस ने यह भी कहा है कि कंपनी 'दसियों हजार' थर्ड पार्टी डेवलपरों के साथ काम कर रही है, जिससे एलेक्सा वायस असिस्टेंट की क्षमता बढ़ाई जा सके।  पिछले 5 साल के दौरान एमेजॉन ने एक विक्रेता के साथ काम शुरू करने के बाद 3,00,000 विक्रेता जोड़े हैं।

उन्होंने कहा कि पिछले एक साल मेंं ही एमेजॉन डॉट इन ने अपने थर्ड पार्टी नेटवर्क और सेवा प्रदाताओं का विस्तार किया है, जिससे यह सुनिश्चित हो सके कि छोटे शहरों और कस्बों के विक्रेता आसानी से पहुंच सकें और उन्हें अपने ऑनलाइन कारोबार को शुरू करने व उसके प्रबंधन में मदद मिल सके। उद्योग के विश्लेषकों के मुताबिक भारत के कारोबार में एमेजॉन ने 3 अरब डॉलर से ज्यादा निवेश किया है। भारत के कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय मेंं दाखिल दस्तावेजों के मुताबिक भारत में उसकी एक इकाई एमेजॉन इंडिया सर्विस को ही वित्त वर्ष 2017-18 में अमेरिका के उसके मूल संस्थान से 1.28 अरब डॉलर से ज्यादा मिले हैं।  

बेजोस ने भारत के बाजार मेंं 5 अरब डॉलर निवेश की प्रतिबद्धता जताई थी। बहरहाल उद्योग के आंतरिक जानकारों का मानना है कि अगले कुछ महीनों में कंपनी का निवेश बढ़ सकता है क्योंकि वालमॉर्ट भारत में फ्लिपकॉर्ट के परिचालन का विस्तार करना चाहती है। एमेजॉन की अन्य भारतीय इकाइयों में निवेश किया गया है, जिसमें एमेजॉन पे और यहां स्थित इसका थोक कारोबार शामिल है।

सूत्रों के मुताबिक वैश्विक ई कॉमर्स दिग्गज ने भारत से सुपरमार्केट, हाइपरमार्केट और खुदरा कंपनियों से हिस्सेदारी खरीदने के लिए बातचीत शुरू की है। कंपनी की योजना भारत में अपनी ऑफलाइन पहुंच बढ़ाने की है।  इस दिशा में बातचीत अभी शुरुआती दौर में है, लेकिन सूत्रों ने कहा कि बड़े खुदरा कारोबारियों ने एमेजॉन के साथ बातचीत की है। हाल ही में फ्लिपकॉर्ट वालमार्ट सौदे की घोषणा के बाद फ्यूचर ग्रुप के संस्थापक किशोर बियाणी ने संकेत धिए थे कि वह मजबूद वैश्विक खुदरा कारोबारी को हिस्सेदारी बेचने को तैयार हैं।

सूत्रों ने कहा कि बियाणी ने एमेजॉन और वालमॉर्ट के साथ बातचीत की है। कुछ क्षेत्रीय हाइपरमार्केट और सुपरमार्केट चलाने वालों के साथ भी एमेजॉन ने बातचीत की है। सूत्रों ने कहा कि यह वालमॉर्ट द्वारा फ्लिपकार्ट में 16 अरब डॉलर निवेश की प्रतिक्रिया नहीं है बल्कि कंपनी पहले से ही ऑफलाइन कारोबार की योजना बना रही है। एक सूत्र ने कहा, 'अमेरिका की ही तरह वह भारत में खुदरा क्षेत्र में विस्तार चाहती है।

एमेजॉन ने कुछ कंपनियों के साथ बाद की है, लेकिन अभी यह शुरुआती अवस्था में है। अगर चीजें सही दिशा में जाती हैं तो इस साल के आखिर तक एक बड़े खुदरा कारोबारी के साथ सौदा हो सकता है।' बहरहाल एमेजॉन इंडिया ने इस पर कुछ भी कहने से इनकार किया है। 

कीवर्ड e commerce, amazon, sale, ऑनलाइन मार्केटप्लेस, एमेजॉन, भारत, जेफ बेजोस, एलेक्सा,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक