टाटा-टिसेनक्रुप सौदे में अड़चन

देव चटर्जी और एजेंसियां | मुंबई Jun 12, 2018 10:10 AM IST

टाटा स्टील यूरोप का मामला

टिसेनक्रुप के शेयरधारक टाटा स्टील यूरोप संग विलय के लिए बेहतर डील की कर रहे मांग
टिसेनक्रुप के मुनाफे में तेजी, टाटा स्टील यूरोप का घटा मुनाफा
टिसेनक्रुप के मूल्यांकन में आएगी 2.2 अरब डॉलर की कमी
प्रस्तावित विलय से 4,000 लोगों की जाएगी नौकरियां
टिसेनक्रुप के शेयरधारक उठा रहे हैं सौदे पर सवाल

टाटा स्टील यूरोप और जर्मनी की कंपनी टिसेनक्रुप के संयुक्त उपक्रम की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही हैं। कंपनी के मुख्य शेयरधारकों ने टिसेनक्रुप प्रबंधन से बेहतर सौदे के लिए दोबारा बातचीत करने को कहा है क्योंकि टिसेनक्रुप के मुनाफे में सुधार हो रहा है, वहीं टाटा स्टील यूरोप में पिछले साल सितंबर से ही नरमी बनी हुई है। सितंबर में ही दोनों कंपनियों ने अपने यूरोपीय कारोबार का विलय करने का प्र्रस्ताव किया था।

टिसेनक्रुप एजी मैनेजमेंट की इलियट कैपिटल मैनेजमेंट जिसके पास कंपनी में 3 फीसदी हिस्सेदारी है, उसने टाटा स्टील यूरोप और टिसेनक्रुप के स्टील कारोबार के प्रदर्शन की जानकारी दी है। उन्होंने कहा कि टाटा स्टील यूरोप के प्रदर्शन में नरमी से टिसेनक्रुप के लिए यह साझेदारी उतनी फायदेमंद नहीं रह गई है। मामले के जानकार सूत्र ने बताया कि इससे पहले टिसेनक्रुप में 15 फीसदी हिस्सेदारी रखने वाले केविन कैपिटल ने भी इसी तरह की अपील की थी।

टिसेनक्र्रुप और टाटा अपने यूरोपीय स्टील कारोबार का विलय करने के लिए प्रारंभिक शर्तों पर पिछले साल सितंबर में सहमत हुई थी। लेकिन उसके बाद से ही टाटा स्टील यूरोप के कारोबार में दबाव देखा जा रहा है। कच्चे माल की लागत बढऩे से टाटा स्टील यूरोप की कमाई भी घट गई है जबकि टिसेनक्रुप का मुनाफा बढ़ा है। इसके साथ ही विलय से 4,000 लोगों की नौकरियां जाएंगी जिसका कर्मचारी संगठन विरोध कर रहे हैं।

इलियट ने कहा कि अगर सौदे की शर्त के तहत 50-50 फीसदी की हिस्सेदारी रहती है तो इससे टिसेनक्रुप के मूल्यांकन में करीब 2.2 अरब डॉलर की कमी आएगी। उन्होंने अपने पत्र में कहा कि संयुक्त उपक्रम में टिसेनक्रुप की हिस्सेदारी 82 फीसदी होनी चाहिए। निवेशकों का यह रुख टिसेनक्रुप के मुख्य कार्याधिकारी हेनरिक हेनसिंगर मुश्किलें खड़ी कर सकता है क्योंकि उन्होंने टाटा के साथ मौजूदा शर्तों पर आगे बढऩे का वादा किया है।

हेनसिंगर को कंपनी के पर्यवेक्षी बोर्ड को संयुक्त उपक्रम के प्रस्ताव पर हस्ताक्षर करने के लिए मनाना होगा। इस बोर्ड में शेयरधारक और श्रमिकों के प्रतिनिधियों की समान संख्या है। हेनसिंगर को दोनों पक्षों को इस सौदे के लिए राजी कराना होगा। टाटा स्टील के विकास में बाधा बनी टाटा स्टील यूरोप के लिए अब टाटा को या तो सौदे में थोड़ा बदलाव करना पड़ सकता है या नए विकल्प तलाशने पड़ सकते हैं।

इलियट ने कहा, 'सौदे की अंतिम शर्तों में मूल्यांकन में आए बदलाव को समुचित तरीके से शामिल किया जाना चाहिए।' हालांकि इस बारे में जब एक समाचार एजेंसी ने इलियट और केविन से संपर्क किया तो उसने कोई टिप्पणी नहीं की। टाटा स्टील और टिसेनक्रुप के बीच औपचारिक समझौता अभी लंबित है। टाटा स्टील यूरोप के भविष्य को लेकर आशंका के बीच भारत में टाटा स्टील का शेयर सोमवार को 2 फीसदी की गिरावट के साथ 588 रुपये पर बंद हुआ।

टाटा स्टील ने 2007 में 13 अरब डॉलर में इस कंपनी का अधिग्रहण किया था। इस बारे में संपर्क करने पर टाटा स्टील के एक प्रवक्ता ने कहा, 'आपसी समझौते के मुताबिक दोनों कंपनियां 50-50 फीसदी हिस्सेदारी वाले संयुक्त उपक्रम में अलग तरह परिसंपत्तियां लाएंगी।' 16 मई को विश्लेषकों के साथ बैठक में टाटा स्टील ने कहा था कि टिसेनक्रुप के साथ प्रस्तावित संयुक्त उपक्रम सही दिशा में चल रहा है। टाटर स्टील के वैश्विक मुख्य कार्याधिकारी एवं प्रबंध निदेशक टीवी नरेंद्रन ने कहा, 'हमें उम्मीद है कि जल्द ही इस सौदे पर हस्ताक्षर हो जाएंगे। साल के अंत तक सौदा पूरा होने की उम्मीद है।'

 

कीवर्ड tata steel, THYSSENKRUPP, deal, profit, टाटा स्टील, टिसेनक्रुप, विलय,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक