400 अरब की लागत से बनेगा पेट्रोरसायन पार्क

शाइन जैकब | नई दिल्ली Jun 14, 2018 11:32 AM IST

ताइवानी कंपनी और अदाणी के बीच हुआ करार
मुंद्रा सेज में बनेगा पेट्रोरसायन पार्क
जनवरी में हो सकते हैं करार पर हस्ताक्षर
गुजरात में प्रस्तावित निवेश में 40 फीसदी बढ़ोतरी

ताइवान की दिग्गज सरकारी कंपनी चाइना पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन (सीपीसी) ने गुजरात के मुंद्रा एसईजेड में 400 अरब रुपये के पेट्रोकेमिकल पार्क की स्थापना में दिलचस्पी दिखाई है। यह राज्य में हाल में वर्षों में सबसे बड़ा प्रत्यक्ष विदेशी पूंजी निवेश होगा।  ताइवान की कंपनी इस परियोजना के लिए अदाणी समूह के साथ हाथ मिला सकती है। एक सूत्र ने बताया कि इस बारे में दोनों कंपनियों के बीच बातचीत अंतिम चरण में है और वाइब्रेंट गुजरात के दौरान करार पर हस्ताक्षर हो सकते हैं।

परियोजना के लिए करीब 800 हेक्टेयर जमीन की जरूरत पड़ सकती है। ताइवान के विदेश कारोबार विकास परिषद के चेयरमैन जेम्स हुआंग का कहना है कि उनके देश की कंपनियों को भारत में कारोबार के मौकों को भुनाने के लिए स्थानीय कंपनियों के साथ साझेदारी करनी चाहिए।  हुआंग ने ताइपे टाइम्स से कहा कि अदाणी समूह और सीपीसी के बीच पेट्रोकेमिकल पार्क की स्थापना के लिए बातचीत चल रही है।  

सूत्र ने कहा कि यह हाल के वर्षों में गुजरात में सबसे बड़ा विदेशी प्रत्यक्ष निवेश होगा और संयंत्र में एथिलीन जैसे उत्पादों का उत्पादन होगा। साथ ही इसमें नैफ्था क्रेकर यूनिट भी होगी। हालांकि बिज़नेस स्टैंडर्ड ने सीपीसी ताइवान और अदाणी समूह ने इस बारे में पूछे गए सवालों का जवाब नहीं दिया। ताइवानी कंपनी के अधिकारियों की गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी के साथ एक बार बैठक हो चुकी है।

सीपीसी चाहती है कि अदाणी समूह परियोजना में बड़ी हिस्सेदारी ले लेकिन भारतीय कंपनी ने अभी इस बारे में अंतिम फैसला नहीं लिया है। सूत्रों का कहना है कि सीपीसी ताइवान की परियोजना के बारे में आंध्र प्रदेश की सरकार से भी बात चल रही है। इस बीच सीपीसी के चेयरमैन ताई चेन ने इस परियोजना पर आपत्ति जताई है। उनका कहना है कि अदाणी को इस परियोजना में 26 फीसदी हिस्सेदारी लेनी थी लेकिन भारतीय कंपनी ने अपनी योजना बदल दी है। साथ ही टैरिफ ढांचे और भारत से परिवहन की ऊंची लागत पर भी आपत्ति उठाई गई थी।

लेकिन सूत्रों के मुताबिक अगले साल जनवरी में गांधीनगर में होने वाले वाइब्रेंट गुजरात सम्मेलन में इस बारे में करार पर हस्ताक्षर होने की उम्मीद है।  गुजरात में 2017 में प्रस्तावित निवेश में 2016 की तुलना में 40 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। 2017 में राज्य में 790.68 अरब रुपये के निवेश प्रस्ताव आए जबकि 2016 में यह आंकड़ा 571.56 अरब रुपये था।

इस साल राज्य को मार्च तक 83.65 अरब रुपये के 105 निवेश प्रस्ताव मिले हैं। ताइवान 100 स्मार्ट शहरों से जुड़ी परियोजनाओं में भी निवेश की योजना बना रहा है। सीपीसी का कारोबार तेल एवं गैस उत्खनन एवं उत्पादन, रिफाइनिंग, पेट्रोकेमिकल, लुब्रिकेंट, सॉल्वेंट और केमिकल के क्षेत्र में फैला है। यह प्राकृतिक गैस का आयात और आपूर्ति करने वाली ताइवान की एकमात्र कंपनी है। 

कीवर्ड oil, gas, IOC, CPC, ताइवान, चाइना पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन, सीपीसी, मुंद्रा एसईजेड, पेट्रोकेमिकल पार्क,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक