टाटा स्टील का लाभ 14,688 करोड़ रु.

बीएस संवाददाता/एजेंसियां | नई दिल्ली/मुंबई May 16, 2018 09:43 PM IST

घरेलू स्टील कंपनी टाटा स्टील का एकीकृत शुद्ध लाभ मार्च में समाप्त चौथी तिमाही में 14,688.02 करोड़ रुपये रहा। कंपनी ने पिछले साल की समान अवधि में 1,168.02 करोड़ रुपये का शुद्ध नुकसान दर्ज किया था। कंपनी की एकीकृत आय इस अवधि में 36,407.19 करोड़ ररुपये रही, जो पिछले साल की समान अवधि में 35,457.06 करोड़ रुपये रही थी। कंपनी का कुल खर्च तिमाही के दौरान 32,626.42 करोड़ रुपये रहा, जो पिछले साल की समान अवधि में 31,132.02 करोड़ रुपये रहा था। कंपनी के सीईओ व एमडी टी वी नरेंद्रन ने कहा, वित्त वर्ष 2018 में टाटा स्टील का प्रदर्शन मजबूत रहा है, जिसमें हमारी मजबूत क्रियान्वयन रणनीति और वैश्विक मांग-आपूर्ति की अनुकूल स्थिति का योगदान रहा। साल के दौरान हमारे भारतीय परिचालन की बढ़त की रफ्तार बाजार के मुकाबले बेहतर रही और इसमें कलिंगनगर संयंत्र की क्षमता में इजाफा और विपणन नेटवर्क में मजबूती व ब्रांड इक्विटी का योगदान रहा। उन्होंने कहा कि बढ़त विभिन्न बाजारों में अच्छी रही और मुद्रा के अवरोध के बावजूद टाटा स्टील यूरोप के लिए यह तिमाही अच्छी रही।नरेंद्रन ने कहा, यूके पेंशन योजना की पुनर्गठन प्रक्रिया भी पूरी हो गई। 

 
टुसनक्रप के साथ 50-50 संयुक्त उद्यम के लिए बातचीत आगे बढ़ रही है और हम यूरोपीय पोर्टफोलियो को मजबूत बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। उन्होंने कहा कि कंपनी भारत में अपनी मौजूदगी के विस्तार का क्रियान्वयन जारी रखे हुए है। नरेंद्रन कहा, कलिंगनगर के दूसरे चरण का विस्तार आगे बढ़ रहा है, जिससे हमारी क्षमता कच्चे स्टील में 130 लाख टन से बढ़कर 180 लाख टन हो जाएगी। भूषण स्टील के लिए समाधान योजना की एनसीएलटी से मंजूरी मिलने पर हमें खुशी है। हमें सीसीआई से भी मंजूरी मिल गई है। कार्यकारी निदेशक व सीएफओ कौशिक चटर्जी ने कहा, वित्त वर्ष 2018 कंपनी के लिए अच्छा साल रहा है और समूह ने मजबूत मुनाफा व राजस्व अर्जित किया।
 
जेएसडब्ल्यू स्टील का शुद्ध लाभ तीन गुना बढ़ा
 
जिंदल समूह की कंपनी जेएसडब्ल्यू स्टील का मार्च में समाप्त चौथी तिमाही में एकीकृत शुद्ध लाभ तीन गुना बढ़कर 2,879 करोड़ रुपये हो गया। इससे पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि में उसे 1,008 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ हुआ था। शेयर बाजार को दी जानकारी में कंपनी ने बताया कि समीक्षावधि में उसकी एकीकृत कुल आय 16 फीसदी बढ़कर 20,862 करोड़ रुपये हो गई जो इससे पिछले वित्त वर्ष की इसी तिमाही में 17,973 करोड़ रुपये रही थी। कंपनी का कुल व्यय इस दौरान 17,275 करोड़ रुपये हो गया जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में 16,578 करोड़ रुपये रहा था। कंपनी ने बताया कि इस अवधि में उसका कच्चे इस्पात का रिकॉर्ड 43.1 लाख टन उत्पादन हुआ है। यह सालाना आधार पर 5 फीसदी अधिक है। साथ ही कंपनी की बिक्री भी इस अवधि मे सर्वकालिक उच्च स्तर 42.2 लाख टन पर पहुंच गई।
 
हिंडाल्को इंडस्ट्रीज का शुद्ध लाभ घटा
 
आदित्य बिड़ला समूह की कंपनी हिंडाल्को इंडस्ट्रीज का मार्च में समाप्त चौथी तिमाही में एकल शुद्ध लाभ 24.98 फीसदी बढ़कर 376.97 करोड़ रुपये रहा। वित्त वर्ष 2016-17 की जनवरी  से मार्च तिमाही में कंपनी को 502.52 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ हुआ था। कंपनी ने शेयर बाजार को दी जानकारी में बताया कि समीक्षावधि में उसकी कुल एकल आय 11,886.02 करोड़ रुपये रही जो इससे पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि में 11,969.66 करोड़ रुपये थी। कंपनी का कुल व्यय इस दौरान 11,329.68 करोड़ रुपये रहा। अपने नई परियोजनाओं की जानकारी देते हुए कंपनी ने बताया कि समीक्षावधि में उसने तांबे के तार बनाने के अपने नए संयंत्र को शुरू किया है। वहीं उत्कल संयंत्र के 500 किलो टन तक क्षमता विस्तार का काम भी शुरु किया गया है। कंपनी ने कहा कि इसके 30 महीने में पूरा होने की उम्मीद है और इस पर करीब 1,300 करोड़ रुपये निवेश किए जाने हैं। कंपनी ने कहा कि पूरे वित्त वर्ष में उसकी एल्युमीनियम (हिंडाल्को प्लस उत्कल) से आय 21,089 करोड़ रुपये रही। वहीं तांबे से उसकी आय 22,371 करोड़ रुपये रही। 
 
टीवीएस मोटर का मुनाफा बढ़ा
 
टीवीएस मोटर कंपनी का एकल शुद्ध लाभ मार्च तिमाही में 30.63 फीसदी बढ़कर 165.61 करोड़ रुपये हो गया। कंपनी का कहना है कि आलोच्य तिमाही में अच्छी बिक्री के चलते उसका मुनाफा बढ़ा। कंपनी ने बीएसई को सूचित किया है कि पिछले साल मार्च में उसने 126.77 करोड़ रुपये का मुनाफा कमाया था। कंपनी की परिचालन आय 31 मार्च 2018 को समाप्त चौथी तिमाही में 3,992.76 करोड़ रुपये रही। जो एक साल पहले की समान समान अवधि में 3,076.02 करोड़ रुपये थी। इस दौरान कंपनी की कुल बिक्री 31.74 फीसदी बढ़कर 8,89,141 इकाई हो गई जो कि पिछले साल की समान तिमाही में 6,74,870 इकाई रही थी। कंपनी का कहना है कि उसने बीते वित्त वर्ष में दो अंतरिम लाभांश (कुल 3.30 रुपये प्रति शेयर) की घोषणा पहले की थी। बोर्ड ने किसी और लाभांश की सिफारिश नहीं की है। समूचे वित्त वर्ष 2017-18 के लिए कंपनी का एकल शुद्ध लाभ 18.72 फीसदी बढ़कर 15,472.88 करोड़ रुपये हो गया।
कीवर्ड tata steel, Q4, profit,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक