जीएसटी : 6 महीने तक प्रवर्तन कार्रवाई में ढील रखेंगे कर अधिकारी

भाषा | नई दिल्‍ली Jul 19, 2017 04:43 PM IST

राजस्व अधिकारी वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के पहले छह महीने में प्रवर्तन कार्रवाई पर जोर नहीं देंगे क्योंकि वे चाहते हैं कि उद्योग इस नई अप्रत्यक्ष कर प्रणाली के अनुसार स्थिर हो जाए। केंद्रीय उत्पाद कर व सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीईसी) की चेयरपर्सन वांजा सरना ने यह जानकारी दी है। उन्होंने कहा कि समझ की कमी के कारण शुरुआती दिनों में कुछ उचित त्रुटियां हो सकती हैं। सरना ने यहां सीआईआई के एक कार्यक्रम में कहा, 'सीबीईसी प्रवर्तन निकाय है और मैंने विशेष रूप से कहा है कि तीन से छह महीने तक धीरे ही चलना होगा। मैं नहीं चाहती कि छोटे मामले भी बनें।'

उन्होंने कहा कि लोगों को अनुपालन में समय लगेगा और सीबीईसी उन्हें इस दायरे में आने को प्रोत्साहित करेगा। सरना ने कहा कि जिस तरह के इनपुट टैक्स क्रेडिट की पेशकश की जा रही है उससे करदाताओं का आधार बढ़ेगा ही। मैं शुरुआत में निश्चित रूप से किसी तरह के कठोर रुख के पक्ष में नहीं हूं, हम चाहते हैं कि यह स्थापित हो। उन्होंने कहा कि जीएसटी को सफल बनाने के लिए सीबीईसी व्यापारियों व फर्मों की मदद कर रहा है।

कीवर्ड जीएसटी, प्रवर्तन, कार्रवाई, राजस्व, जीएसटी, सीबीईसी, वांजा सरना, इनपुट टैक्स क्रेडिट,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक