कंप्यूटर व सिगरेट की कीमतें तेज, सोना मंद

इंदिवजल धस्माना | नई दिल्ली Aug 22, 2017 09:38 PM IST

मई और जून के मुकाबले जुलाई में पर्सनल कंप्यूटर, बिस्कुट, लैपटॉप, सिनेमा टिकट और सिगरेट की कीमतें महंगी हुईं जबकि सोने की कीमतों में गिरावट जारी रही। जुलाई से ही वस्तु एवं सेवा कर लागू हुआ है। मई और जून की तुलना में जुलाई महीने में सोने की कीमतों में ऊंची दर की गिरावट दिखी।
आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक जुलाई महीने में इंटरनेट से जुड़े खर्चों में भी 1.83 फीसदी की बढ़ोतरी देखी गई जबकि मई में यह बढ़ोतरी 1.22 फीसदी और जून में 1.39 फीसदी थी। ये आंकड़ें मई और जून महीने के उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) के आधार पर लिए गए हैं क्योंकि जून महीने तुलनात्मक दृष्टि से सही नहीं था क्योंकि अगले महीने जीएसटी लागू होने की संभावनाओं के बीच जून में कंपनियों ने अपना माल खत्म करना शुरू कर दिया था।
इस तर्क की पुष्टि बेवरिजेज मसलन कोकोआ और चॉकलेट से जुड़े पेय पदार्थों के महंगाई आंकड़ों से होती है। इनकी दर जुलाई में 2.98 फीसदी थी जो जून महीने में 2.91 फीसदी थी। यह मई के 3.16 फीसदी के मुकाबले कम थी। यह बात गौर करने लायक है कि कर भी एक कारक था जिससे महंगाई का अंदाजा मिलता है।
जीएसटी लागू होने के बाद पहले के मुकाबले सोने पर कर थोड़ा ज्यादा था लेकिन जुलाई में सोने की कीमतों में7.44 फीसदी की गिरावट रही जो जून में 5.36 फीसदी और मई में 4.98 फीसदी था। टैक्समैन के सुमित दाहिया का कहना है कि जीएसटी का असर दूसरी वस्तुओं के मुकाबले आभूषण उद्योग पर सबसे ज्यादा पड़ा क्योंकि सोने पर अप्रत्यक्ष कर की दर में 50 फीसदी की वृद्धि हुई जो पहले के 2 फीसदी से बढ़कर 3 फीसदी हो गया। लेकिन आखिरकार सोने की कीमतों में गिरावट क्यों जारी रही?
डेलॉयट के एम एस मणि का कहना है कि जुलाई में सावन के वक्त देश के कई हिस्सों में सोने की खरीदारी अशुभ मानी जाती है। नए कराधान के तहत फ्रिज, वॉशिंग मशीन, एयर कंडीशनर और एयर कूलर के कर में बढ़ोतरी देखी गई लेकिन जुलाई में एसी और एयर कूलर की कीमत कम हो गई जबकि फ्रिज और वॉशिंग मशीन की कीमतें इस दौरान भी बढ़ीं।

कीवर्ड Gold, computer, cigarette,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक