अनुमान के अनुरूप ही रहा नोटबंदी का असर : जेटली

भाषा | नई दिल्‍ली Aug 31, 2017 12:05 PM IST

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने आज कहा कि नोटबंदी का असर अनुमान के अनुरूप ही रहा है और इससे मध्यम और दीर्घकाल में अर्थव्यवस्था को फायदा पहुंचेगा। रिजर्व बैंक के यह कहने के एक दिन बाद कि बंद किए गए 500, 1000 रुपये के करीब-करीब सभी नोट बैंकिंग तंत्र में लौट आए हैं, जेटली ने कहा कि पैसा बैंकों में जमा हो गया है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि यह पूरा धन वैध है। उन्होंने कहा, यह कोई नहीं कह रहा है कि नोटबंदी के बाद कालाधन पूरी तरह से समाप्त हो गया है।' वित्त मंत्री ने कहा कि नोटबंदी के बाद जीएसटी लागू होने से प्रत्यक्ष कर राजस्व को अच्छा बढ़ावा मिलेगा, क्योंकि इसके बाद कई नए लोग कर के दायरे में आए हैं। उन्होंने कहा कि नोटबंदी के बाद काफी नकदी बैंकों में जमा की गई। यह सरकार के लिए चिंता की बात नहीं है क्योंकि यह अर्थव्यवस्था के लिए अच्छा है कि अधिक से अधिक धन औपचारिक तंत्र में आया है।

रिजर्व बैंक ने कल कहा कि 500 और 1,000 रुपये के पुराने 15.44 लाख करोड़ नोटों में से करीब 99 प्रतिशत धन बैंकिंग तंत्र में आ चुका है। वस्‍तु एवं सेवाकर (जीएसटी) के मामले में जेटली ने कहा कि इससे पडऩे वाले मुद्रास्फीतिक प्रभाव से बचा गया है और आने वाले समय में विभिन्न वस्तुओं की कर दरों में बेहतर तालमेल की गुंजाइश है। वित्त मंत्री ने कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों का एकीकरण का मामला सरकार के एजेंडे में है। देश को 'कम लेकिन मजबूत बैंकों की जरूरत है।' बैंकों के फंसे कर्ज का समाधान करने के मुद्दे पर जेटली ने कहा कि इसमें समय लगेगा। 'इसके लिए कोई सर्जिकल समाधान नहीं हो सकता है।' उन्होंने कहा कि यदि निजी क्षेत्र अपने कर्ज का भुगतान नहीं कर पाता है तो किसी अन्य को इसके अधिग्रहण का अवसर मिलना चाहिए। रिजर्व बैंक पहले ही कर्ज लेकर उसे लौटाने में अक्षम बड़े बड़े डिफाल्टर की सूची जारी कर चुका है और बैंकों को उनके खिलाफ दिवाला कारवाई शुरू करने की सिफारिश कर चुका है।

कीवर्ड अनुमान, नोटबंदी, वित्त मंत्री, अरुण जेटली, अर्थव्यवस्था, रिजर्व बैंक, नोट, बैंकिंग, कालाधन,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक