अगस्त के लिए 30 लाख जीएसटी रिटर्न, जुलाई से कम

इंदिवजल धस्माना और भाषा | नई दिल्ली Sep 21, 2017 09:32 PM IST

अगस्त महीने में करीब 29.7 लाख करदाताओं ने इनपुट-आउटपुट रिटर्न जीएसटीआर 3वी का सारांश दाखिल किया है, जो जुलाई महीने में दाखिल  46 लाख जीएसटीआर 3बी की तुलना में बहुत कम है। रिटर्न दाखिल करने वाले करीब 46 प्रतिशत लोगों ने 20 सितंबर को रिटर्न दाखिल किया, जो इसके लिए अंतिम तिथि थी। इसकी वजह से आखिरी दिन होने वाली भीड़ के कारण समस्याएं भी आईं।
बहरहाल यह भी ध्यान रखना होगा कि जुलाई में रिटर्न की मात्रा इसलिए भी बढ़ी क्योंकि करदाताओं को 5-8 दिन अधिक समय दिया गया था, जो इसके लिए था कि वे जीएसटी के पहले के स्टॉक पर इनपुट टैक्स क्रेडिट का दावा करना चाहते हैं या नहीं। जीएसटीएन को उम्मीद है कि रिटर्न फाइलिंग जुलाई के बराबर पहुंच जाएगी।
अगर अगस्त महीने में रिटर्न दाखिल करने वालोंं की संख्या जुलाई के बराबर रहती है तो यह अनुपातिक रूप से कम होगा। ऐसा इसलिए  कि जुलाई में जीएसटी के तहत पंजीकरण  सिर्फ 59.5 लाख थे, जिसमें वे लोग शामिल नहीं हैं, जिन्होंने कंपोजिशन योजना का विकल्प चुना था। अब करीब 90 लाख पंजीकरण हैं। इसमें से करीब 10 लाख कंपोजिशन योजना में हैं, जो तिमाही रिटर्न दाखिल कर सकते हैं। जुलाई महीने में 95,000 करोड़ रुपये एकत्र हुए थे। केंद्रीय जीएसटी और राज्य जीएसटी अधिनियम के मुताबिक कर के भुगतान मेंं देरी पर 18 प्रतिशत ब्याज भुगतान करना होगा। देरी से एसजीएसटी और सीजीएसटी दाखिल करने पर 100 रुपये प्रतिदिन जुर्माना लगेगा।
जीएसटीएन के चेयरमैन अजय भूषण पांडे ने कहा कि जीएसटी नेटवर्क काफी मजबूत स्थिति में है और अभी तक जितने रिटर्न दाखिल किए गए हैं उनसे पता चलता है कि नेटवर्क बेहतर तरीके से काम कर रहा है। उन्होंने कहा कि जिन क्षेत्रों में समस्याएं या अड़चनें आ रही हैं उन्हें तेजी से हल किया जाएगा। पांडे ने कहा कि अभी तक अगस्त महीने के लिए कुल 29.41 लाख जीएसटी रिटर्न दाखिल किए गए हैं। उन्होंने बताया कि जीएसटीएन ने कल हर घंटे 85,000 रिटर्न स्वीकार किए। यह अगस्त के लिए जीएसटीआर-3बी रिटर्न दाखिल करने का अंतिम दिन था। कल तक 75 प्रतिशत पंजीकृत इकाइयों ने अपने रिटर्न जमा नहीं कराए थे।

कीवर्ड GST, Returen, tax,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक