प्रोत्साहन पैकेज की उम्मीद को लगाए पंख

दिलाशा सेठ | नई दिल्ली Oct 05, 2017 10:28 PM IST

सरकार का उत्पादन में वृद्धि और रोजगार बढ़ाने पर जोर

► प्रोत्साहन पैकेज पर विचार कर रही सरकार
औद्योगिक नीति पर भी हो रहा है काम

अर्थव्यवस्था में गिरावट थामने के उपाय करने की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की घोषणा के एक दिन बाद वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री सुरेश प्रभु ने गुरुवार को प्रोत्साहन पैकेज की उम्मीदों को पंख लगा दिए। प्रभु ने विश्व आर्थिक मंच के सम्मेलन भारतीय आर्थिक मंच में कहा कि सरकार औद्योगिक विकास में तेजी लाने और रोजगार बढ़ाने के लिए प्रोत्साहन पैकेज  पर विचार कर रही है। उन्होंने कहा कि उनका मंत्रालय इस बारे में नीति बनाने के लिए वित्त मंत्रालय और दूसरे विभागों के साथ काम कर रहा है।

भारतीय उद्योग परिसंघ की साझेदारी में आयोजित इस तीन दिवसीय सम्मेलन में प्रभु ने कहा, ' मैं निजी तौर पर जरूरी नीतिगत समर्थन और वित्तीय समर्थन उपलब्ध कराने के लिए वित्त मंत्रालय, नीति आयोग और अन्य सरकारी संस्थानों के साथ मिलकर काम कर रहा हूं ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि उद्योग आज की तुलना में ज्यादा उत्पादन करें और रोजगार बढ़ाएं।' उन्होंने कहा कि सरकार विभिन्न क्षेत्रों का अध्ययन कर रही है ताकि यह पता लगाया जा सके कि कहां सुधार की गुंजाइश है। प्रोत्साहन पैकेज पर प्रभु का बयान ऐसे वक्त आया है जब केंद्र का राजकोषीय घाटा अगस्त में बजट अनुमान का 96 फीसदी पहुंच चुका है।

नोटबंदी और जीएसटी के कारण देश की अर्थव्यवस्था वित्त वर्ष 2018 की पहली तिमाही में 5.7 फीसदी की दर से बढ़ी जो कि मोदी सरकार के कार्यकाल में सबसे कम है। इसे देखते हुए रिजर्व बैंक को अर्थव्यवस्था की वृद्घि के बारे में अपने अनुमान में कटौती करनी पड़ी। जीएसटी लागू होने के बाद पहले महीने जुलाई में औद्योगिक उत्पादन सूचकांक महज 1.2 फीसदी बढ़ा जबकि जून में इसमें कमी आई थी। इसके बाद अगस्त में बुनियादी क्षेत्रों में करीब 5 फीसदी बढ़ोतरी दर्ज की गई जो 5 महीने में सर्वाधिक थी। इसे आईआईपी में मजबूत बढ़ोतरी की उम्मीदें जगी हैं। प्रभु ने कहा कि निजी क्षेत्र को आगे बढ़ाने के लिए सक्षम कानून और उपायों की जरूरत है और सरकार इसी दिशा में आगे बढ़ रही है। प्रभु ने साथ ही कहा कि उनका मंत्रालय औद्योगिक नीति पर भी काम कर रहा है।

कीवर्ड सरकार, उत्पादन, वृद्धि, रोजगार, प्रोत्साहन पैकेज, औद्योगिक नीति, अर्थव्यवस्था,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक