अक्‍टूबर में विनिर्माण पड़ा सुस्त, पीएमआई में आई गिरावट

भाषा | नई दिल्‍ली Nov 01, 2017 12:41 PM IST

देश में अक्‍टूबर में विनिर्माण गतिविधियों में कुछ सुस्ती देखने को मिली है। एक मासिक सर्वे के अनुसार, मुख्य रूप से वस्‍तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के नकारात्मक प्रभाव की वजह से मांग घटने से नए ऑर्डरों में कमी आई। निक्की इंडिया का विनिर्माण खरीद प्रबंधक सूचकांक (पीएमआई) अक्‍टूबर में घटकर 50.3 पर आ गया, जो सितंबर में 51.2 पर था। हालांकि यह लगातार तीसरा महीना रहा है, जबकि पीएमआई 50 से ऊपर रहा है। इसके 50 से ऊपर होने का आशय वृद्धि से और नीचे होने का संकुचन से है। इसमें कहा गया है कि विनिर्माण गतिविधियों की वृद्धि में कमी की मुख्य वजह जीएसटी के नकारात्मक प्रभाव की वजह से मांग पर असर है। यही नहीं सितंबर, 2013 के बाद से नए निर्यात ऑर्डरों में सबसे तेज गिरावट भी देखने को मिली है।

आईएचएस मार्किट की अर्थशास्त्री और रिपोर्ट की लेखिका आशना दोधिया ने कहा कि हाल में चले आ रहे वृद्धि के सिलसिले के बीच विनिर्माण उत्पादन की वृद्धि दर अक्‍टूबर में सबसे कम बढ़ी है। दोधिया ने कहा कि जीएसटी के नकारात्मक प्रभाव की वजह से नए ऑर्डर घटे हैं और मांग का स्तर भी कम हुआ है। यही नहीं विदेशी बाजारों में भारतीय उत्पादों की मांग सितंबर, 2013 के बाद सबसे कम रही है। हालांकि, एक सकारात्मक पहलू भी सामने आया है। कंपनियों ने सितंबर की तरह अक्‍टूबर में भी नई भर्तियां की हैं। जहां तक लागत की बात है तो मई के बाद लागत का दबाव सबसे अधिक रहा है। इसकी वजह से कंपनियों ने बढ़ी कीमत का बोझ ग्राहकों पर डाला है। दोधिया ने कहा कि इसके अलावा कारोबारी भरोसा भी फरवरी के बाद सबसे निचले स्तर पर रहा है। अक्‍टूबर के विनिर्माण पीएमआई आंकड़े कारोबार सुगमता पर विश्व बैंक की रैंकिंग के उलट हैं। कारोबार सुगमता रैंकिंग में भारत 30 अंक की छलांग के साथ 100वें स्थान पर आ गया है।

कीवर्ड विनिर्माण गतिविधि, ऑर्डर, उत्पादन, सर्वेक्षण, पीएमआई, जीएसटी, रोजगार, निर्यात,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक