निवेश लाने के लिए सुधार करने जरूरी

भाषा |  Nov 01, 2017 09:57 PM IST

आर्थिक मामलों के पूर्व सचिव शक्तिकांत दास ने आज कहा कि कारोबार सुगमता में सुधार निवेश के लिए जरूरी है और इससे निजी निवेश, आर्थिक वृद्घि और रोजगार सृजन को बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने कहा कि सरकार जो सुधार कर रही है, उनसे भविष्य में भारत की रैंकिंग में और सुधार होगा। कारोबारी सुगमता के बारे में विश्व बैंक की ताजा रिपोर्ट में भारत 30 स्थान की छलांग लगाते हुए 100वें स्थान पर पहुंच गया है। कर, लाइसेंस, निवेशकों के हितों के संरक्षण और दिवालिया समाधान के लिए किए गए उपायों से भारत की रैंकिंग में जबर्दस्त सुधार हुआ है। 
 
इस बीच मंगलवार को वित्त सचिव के पद से सेवानिवृत्त हुए अशोक लवासा ने ट्वीट किया कि केंद्र और राज्यों के सामूहिक प्रयासों से ही भारत की रैंकिंग में सुधार आया है। विश्व बैंक की इस रिपोर्ट में जीएसटी को शामिल नहीं किया गया है क्योंकि इसे 1 जुलाई से लागू किया गया था जबकि रिपोर्ट तैयार करने के लिए कट ऑफ डेट 1 जून थी। जिन सुधारों से भारत की रैंकिंग में सुधार आया है उनमें से अधिकांश दास और लवासा के कार्यकाल में लागू किए गए थे। भारत में पिछले साढ़े तीन साल में 170 अरब डॉलर का विदेशी प्रत्यक्ष निवेश हासिल हुआ है। भारत कारोबार सुगमता के मामले में सबसे बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले शीर्ष दस देशों में शामिल है।                                           
कीवर्ड world bank, business, ranking,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक