2018 में ब्रिटेन-फ्रांस को पीछे छोड़ सकता है भारत

रॉयटर्स | लंदन Dec 26, 2017 09:57 PM IST

भारत अगले साल ब्रिटेन व फ्रांस को पीछे छोड़ते हुुए डॉलर के हिसाब से विश्व की पांचवींं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाला देश बन सकता है। सेंटर फॉर इकोनॉमिक ऐंंड बिजनेस रिसर्च (सीईबीआर) कंसल्टेंसी की 2018 के लिए वल्र्ड इकनॉमिक लीग की तालिका में वैश्विक अर्थव्यवस्था में तेजी रहने का अनुमान लगाया गया है, जिसे सस्ती ऊर्जा व तकनीक से बल मिलेगा।

 
भारत के अग्रणी देश बनने का अनुमान उस धारणा का हिस्सा है, जिसके तहत अगले 15 साल तक प्रमुख 10 बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में एशिया की अर्थव्यवस्थाओं का दबदबा रहने का अनुमान लगाया गया है।  सीईबीआर के डिप्टी चेयरमैन डगलस मैकविलियम्स ने कहा, 'अस्थायी झटकों के बावजूद भी भारत की अर्थव्यवस्था फ्रांस व ब्रिटेन को 2018 में पीछे छोड़ देगी और डॉलर के हिसाब से दुनिया की पांचवीं बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगी।'
 
मैकविलियम्स ने कहा कि भारत की वृद्धि दर नोटबंदी और नए बिक्री कर की वजह से सुस्त हुई है। यह रॉयटर्स की ओर से अर्थशास्त्रियों के बीच कराए गए सर्वे से सामने आया है।  सीईबीआर ने कहा है कि चीन 2032 तक विश्व की सबसे बड़ी अमेरिका की अर्थव्यवस्था को पीछे छोड़कर पहले पायदान पर पहुंच सकता है।  रिपोर्ट में कहा गया है, 'कारोबार पर राष्ट्रपति ट्रंप का असर अनुमान की तुलना में कम गंभीर रहा है। ऐसे में अमेरिका वैश्विक अगुआई फिलहाल कायम रखेगा।'
 
ब्रिटेन की अर्थव्यवस्था अगले 2 साल में फ्रांस से पीछे छूट जाएगी वहीं सीईबीआर का अनुमान है कि जितना डर था, उसकी तुलना में ब्रिटेन पर ब्रेक्जिट का असर कम रहेगा, जिसकी वजह से 2020 में ही फ्रांस की अर्थव्यवस्था के  आगे निकलने की संभावना है।  कच्चे तेल की कीमतेंं कम होने की वजह से रूस की स्थिति में उतार चढ़ाव की संभावना बनी हुई है और यह माना जा रहा है कि 2032 तक रूस बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में 17वें स्थान पर पहुंच सकता है, जबकि अभी 11वें स्थान पर है। 
कीवर्ड india, britain, dollar, economy,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक