अप्रत्यक्ष करदाताओं की संख्या में 50 प्रतिशत बढ़ोतरी- समीक्षा

भाषा | नई दिल्ली Jan 29, 2018 03:12 PM IST

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने आज कहा कि माल एवं सेवाकर (जीएसटी) के आरंभिक विश्लेषण बताते हैं कि अप्रत्यक्ष करदाताओं की संख्या में 50 प्रतिशत बढ़ोतरी हुई है। कर के लिए खुद ही पंजीकरण कराने वालों की संख्या बढ़ी है। केंद्रीय वित्त एवं कारपोरेट मामलों के मंत्री अरुण जेटली ने आज संसद में 2017-18 की आर्थिक समीक्षा पेश की। इसमें कहा गया है कि देश के निर्यात में महाराष्ट्र, गुजरात, कर्नाटक, तमिलनाडू और तेलंगाना की 70 प्रतिशत तक हिस्सेदारी है। विशेषतौर से जो छोटे उद्यमी हैं और जो बड़े उद्योगों से खरीदारी करते हैं वह स्वयं कर जमा कराना चाहते हैं। इसमें कहा गया है कि दिसंबर 2017 तक 98 लाख जीएसटी पंजीकरण हुए हैं। जीएसटी के अनेक लाभों में से एक लाभ यह है कि इसका स्वैच्छिक अनुपालन किया जाता है। यह बात इससे स्पष्ट हो जाती है कि 17 लाख ऐसे कारोबारियों ने पंजीकरण कराया है।

कीवर्ड अप्रत्यक्ष करदाता, समीक्षा, वित्त मंत्री, अरुण जेटली, माल एवं सेवाकर, जीएसटी, आर्थिक समीक्षा पेश,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक