बुनियादी ढांचे में निवेश से बढ़ेगा रोजगार

मेघा मनचंदा | नई दिल्ली Jan 29, 2018 09:51 PM IST

बाजार की धारणा में बदलाव, बुनियादी ढांचे में विकास को बल मिलने से रियल एस्टेट क्षेत्र में ज्यादा प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) आने की संभावना है। आर्थिक समीक्षा मेंं कहा गया है कि रियल एस्टेट क्षेत्र का कारोबार अभी 5 साल के निचले स्तर पर है और सबके लिए आवास जैसी पहल से नौकरियों के सृजन को बढ़ावा मिलेगा। 
 
राजमार्ग से रोजगार तक का सफर
 
सड़क एवं परिवहन मंत्रालय के काम से प्रभावित होकर समीक्षा में कहा गया है कि दूर दराज के इलाकों में राजमार्गों के निर्माण से नौकरियों का सृजन होगा। इसमें कहा गया है कि जिला स्तर की सड़कें बनाकर अंतिम छोर तक संपर्क स्थापित करने से लोगों की पहुंच बढ़ेगी और आर्थिक गतिविधियां तेज होंगी। इसमें कहा गया है, 'जिला स्तर की सड़कों सहित अन्य सार्वजनिक निर्माण विभाग (ओपीडब्ल्यूडी) के विकास की जरूरत है, जिससे बेहतर संपर्क मुहैया कराया जा सके और आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा मिल सके।'  सितंबर 2017 तक राष्ट्रीय राजमार्गों की कुल लंबाई 1,15,530 किलोमीटर है, जो सड़कों की कुल लंबाई का 2.06 प्रतिशत है। वहीं दूसरी तरफ 2015-16 तक के आंकड़ों के मुताबिक राज्य राजमार्गों की लंबाई 1,76,166 कि लोमीटर है। 
 
लॉजिस्टिक्स को मिलेगा बढ़ावा
 
समीक्षा के मुताबिक भारत का लॉजिस्टिक्स उद्योग करीब 160 अरब डॉलर का है, जिसमें 2.2 करोड़ से ज्यादा लोगों को रोजगार मिला हुआ है। ई कॉमर्स भारत में उभरता हुआ क्षेत्र है जो लॉजिस्टिक्स क्षेत्र पर बहुत ज्यादा निर्भर है और नौकरियों के सृजन में इसकी अहम भूमिका है।  डेलॉयट टचे तोमात्सू इंडिया एलएलपी के पार्टनर विश्वास उद्गीरकर ने कहा, 'अंतिम छोर तक संपर्क से न सिर्फ बुनियादी ढांचा परियोजनाओं को लाभ मिलेगा बल्कि इससे लॉजिस्टिक्स क्षेत्र में सुधार होगा। इस समय जल्द खराब होने वाले सामान के लिए देश में कोई कोल्ड चेन नेटवर्क नहीं है।' लॉजिस्टिक्स को बढ़ावा देने से कृषि क्षेत्र में खाद्यान्न व अन्य खराब होने वाले सामान की बर्बादी रुकेगी और किसानों की आमदनी बढ़ेगी। केंद्रीय मंत्रिमंडल ने पिछले साल नवंबर में लॉजिस्टिक्स क्षेत्र को बुनियादी ढांचा क्षेत्र का दर्जा दिया था। 
कीवर्ड economic survey, Arvind Subramanian, budget, arun jaitley,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक