सेवा क्षेत्र की वृद्धि दर तीन महीने के उच्च स्तर पर : पीएमआई

भाषा | नई दिल्ली Feb 05, 2018 02:04 PM IST

देश में सेवा क्षेत्र की गतिविधियों में साल के पहले महीने यानी जनवरी में तेजी बनी रही। एक मासिक सर्वेक्षण में कहा गया है कि नए कारोबारी ऑर्डरों में वृद्धि के चलते सेवा क्षेत्र की गतिविधियां तीन महीने में सबसे तेज रही। हालाकि दिसंबर से गतिविधियों और रोजगार में तेजी रहने के बावजूद यह संबंधित दीर्घावधि के सर्वे के औसत से कम है। सर्वेक्षण के मुताबिक, निक्की सेवा कारोबार गतिविधि सूचकांक जनवरी में सुधरकर 51.7 रहा है, जो दिसंबर में 50.9 था। जनवरी में सूचकांक लगातार दूसरे महीने 50 के स्तर से ऊपर रहा। नवंबर में सूचकांक 48.5 पर था। सर्वेक्षण करने वाली फर्म आईएचएस मार्किट की अर्थशास्त्री और इस रपट की लेखिका आशना दोढि़या ने कहा, जनवरी में देश के सेवा क्षेत्र में सुधार देखा गया है। जून 2017 के बाद यह सबसे मजबूत है। साथ ही मांग में भी सुधार देखा गया है।

भारतीय सेवा प्रदाताओं ने जनवरी में लगातार पांचवें महीने पिछले लंबित कार्यों तथा नए कारोबारी ऑर्डरों के मद्देनजर कार्यबल में विस्तार किया है। इसके अलावा, सितंबर के बाद से रोजगार सृजन की दर सबसे ज्यादा रही। कीमत के मोर्चे पर दोढि़या ने कहा कि सेवा क्षेत्र में इनपुट लागत मुद्रास्फीति ऐतिहासिक मानकों से कमजोर रही। हालांकि, सेवा प्रदाता लागत के बोझ का अधिक से अधिक अनुपात ग्राहकों पर डालने में सक्षम थे। उन्‍होंने कहा, रोजगार सृजन साढ़े छह साल में दूसरी बार सबसे ज्यादा मजबूत रहा, लेकिन कंपनियों को समय पर भुगतान के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है। वस्‍तु एवं सेवा कर (जीएसटी) कारोबार के लिए प्रमुख बाधा बना हुआ है और वहीं विनिर्माण क्षेत्र की तुलना में सेवा क्षेत्र पिछड़ा रहा। देश की सेवा क्षेत्र की कंपनियां अगले 12 माह के दौरान गतिविधियों को लेकर आशान्वित हैं। इसके अलावा, विनिर्माण उत्पादन की वृद्धि दर दिसंबर के 60 महीने के उच्च स्तर से नीचे रही। निक्की कंपोजिट इंडेक्स दिसंबर के 53 से गिरकर जनवरी में 52.5 पर रहा।

कीवर्ड सेवा क्षेत्र, भारत, सर्वेक्षण, ऑर्डर, रिपोर्ट, पीएमआई, आईएचएस मार्किट, विनिर्माण, रोजगार,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक