इस बार भी एक अंक में वेतन वृद्धि

साहिल मक्कड़ | नई दिल्ली Feb 27, 2018 10:17 PM IST

एऑन की 22वीं वार्षिक सर्वेक्षण रिपोर्ट

तनख्वाह में भारी बढ़ोतरी की उम्मीद कर रहे निजी क्षेत्र के कर्मचारियों को इस बार निराशा हाथ लग सकती है। कंसल्टिंग फर्म एऑन के मुताबिक 2018-19 में औसत वेतन वद्धि के 9.4 फीसदी रहने का अनुमान है। यह अनुमान 2017-18 में हुई 9.3 फीसदी की वास्तविक वेतन वद्धि के करीब है।

एऑन ने अपनी 22वीं वार्षिक सर्वेक्षण रिपोर्ट में कहा है कि भारतीय कंपनियों ने 2017 के दौरान औसतन 9.3 फीसदी की वेतन वद्धि की जबकि पिछले वर्षों के दौरान यह 10 फीसदी से अधिक रही थी। कंपनियां जिस तरह अपने वेतन बजट को अंतिम रूप दे रही हैं उससे 2018 में भी औसत वेतन वद्धि के 9.4 फीसदी रहने का अनुमान है।

साल 2009 को छोड़ दिया जाए तो देश में पिछले 10 वर्षों से कंपनियां दो अंकों में अपने कर्मचारियों का वेतन बढ़ा रही थीं। वैश्विक मंदी के कारण वर्ष 2009 में यह बढ़ोतरी केवल 6.6 फीसदी थी। 2007 में औसत वेतन वद्धि 15.7 फीसदी, 2008 में 13.3 फीसदी, 2010 में 11.7 फीसदी और 2011 में 12.6 फीसदी रही थी। वर्ष 2012 से 2016 के दौरान यह 10 फीसदी से कुछ ज्यादा रही। अलबत्ता 2017 में पहली बार यह 10 फीसदी से कम रही।

रिपोर्ट में कहा गया है कि वेतन वद्धि में आ रही गिरावट इस बात का प्रमाण है कि भारतीय उद्योग जगत अब परिपक्व हो रहा है। एऑन इंडिया कंसल्टिंग में पार्टनर आनंदरूप घोष ने कहा कि नई नौकरियों के सृजन और आर्थिक विकास की सुस्त रफ्तार के कारण वेतन वद्धि में कमी आई है। उन्होंने कहा, 'जब देश की अर्थव्यवस्था तेजी से बढ़ रही थी तो वेतन दो अंकों में बढ़ रहा था। लेकिन रोजगार सृजन की रफ्तार घटने, नौकरी छोडऩे की दर कम होने और सुस्त अर्थव्यवस्था के कारण औसत वेतन वद्धि कम रहने का अनुमान है।'

सर्वेक्षण के मुताबिक पिछले साल 7 क्षेत्रों ई-वाणिज्य कंपनियों, रसायन, उपभोक्ता उत्पाद, पेशेवर सेवाएं, लाइफ साइंसेज, मनोरंजन और वाहन उद्योग विनिर्माण क्षेत्र में 10 फीसदी से अधिक वेतन वद्धि हुई। लेकिन इस बार रसायन और मनोरंजन क्षेत्र के दो अंकों में तनख्वाह बढ़ाने की संभावना नहीं है। दोहरे अंकों में तनख्वाह बढ़ाने वाले क्षेत्रों की सूची इस साल और सिकुड़ गई है और इसमें केवल 5 सदस्य रह गए हैं। साथ ही ई-वाणिज्य और लाइफ साइंसेज क्षेत्र की कंपनियों में भी वेतन वद्धि में कमी आने का अनुमान है। ई-कॉमर्स कंपनियों में 10.4 फीसदी वेतन बढ़ाने की उम्मीद है जबकि पिछले साल यह बढ़ोतरी 12.4 फीसदी थी। इसी तरह लाइफ साइंसेज कंपनियों की वेतन वद्धि 10.3 फीसदी रहने का अनुमान है जबकि पिछले साल उनकी औसत बढ़ोतरी 11.3 फीसदी रही थी।
कीवर्ड रोजगार, नौकरी, एऑन, सर्वेक्षण, रिपोर्ट, तनख्वाह, आय, वेतन, बजट, रसायन, मनोरंजन,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक