फरवरी में विनिर्माण क्षेत्र की वृद्धि दर गिरी : पीएमआई

भाषा | नई दिल्ली Feb 28, 2018 12:58 PM IST

फरवरी में भारतीय विनिर्माण क्षेत्र की वृद्धि दर में जनवरी के मुकाबले मामूली गिरावट देखी गई। इसकी प्रमुख वजह कारखानों में उत्पादन धीमा रहना और नए कारोबारी ऑर्डरों का कम होना है। कंपनियों के परचेजिंग मैनेजरों के बीच किए जाने वाले मासिक सर्वेक्षण निक्की इंडिया विनिर्माण परचेजिंग मैनेजर इंडेक्स (पीएमआई) फरवरी में 52.1 रहा जो जनवरी में 52.4 था। यह परिचालन हालात में बेहतरी को दिखाता है।

यह लगातार सातवां महीना है, जब पीएमआई सूचकांक 50 से ऊपर रहा है। पीएमआई का 50 से ऊपर रहना क्षेत्र में विस्तार अथवा वृद्धि को दर्शाता है। वहीं, इसका 50 के स्तर से नीचे रहना क्षेत्र में संकुचन को दिखाता है। आईएचएस मार्किट में अर्थशास्त्री और इस रपट की लेखिका आशना डोढिया ने कहा, यह बेहद अच्छा है कि भारतीय विनिर्माण क्षेत्र वृद्धि के दायरे में रहा है, जबकि वस्‍तु एवं सेवाकर (जीएसटी) का प्रभाव नकारात्मक रहा था। विनिर्माण क्षेत्र में इस वृद्धि की प्रमुख वजह विनिर्माण उत्पादन का बढऩा है, वहीं घरेलू और विदेशी बाजारों से मांग बढऩे की रपटें हैं, जिससे नया कारोबार हुआ है।  हालांकि जनवरी के मुकाबले यह वृद्धि कम है।

कीवर्ड विनिर्माण, पीएमआई, परिचालन, ऑर्डर, निक्की इंडिया, सर्वेक्षण, उपभोक्‍ता,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक