होगी बिजली की रिकॉर्ड मांग, सरकार पूर्ति के लिए तैयार

बीएस संवाददाता | नई दिल्ली Mar 08, 2018 10:22 PM IST

दिल्ली सरकार ने राजधानीवासियों को गर्मियों में बिजली की निर्बाध आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए कार्ययोजना तैयार कर ली है। सरकार का अनुमान है कि इस साल बिजली की मांग 7,000 मेगावाट के रिकॉर्ड स्तर तक जाएगी। पिछले साल अधिकतम मांग 6,526 मेगावाट थी। सरकार ने बिजली कटौती की समस्या से निपटने के लिए मांग से ज्यादा आपूर्ति का इंतजाम करने का दावा किया है।

दिल्ली के बिजली मंत्री सत्येंद्र जैन ने बताया कि बिजली की ग्रीष्मकालीन कार्ययोजना लागू कर दी गई है। इस बार सरकार ने हर महीने बिजली की अधिकतम संभावित मांग के हिसाब से बिजली आपूर्ति का इंतजाम किया है। अप्रैल में बिजली की अधिकतम मांग 6,000 मेगावाट, मई में 6,450 मेगावाट और जून में 7,000 मेगावाट तक जाने का अनुमान है। जुलाई में अधिकतम मांग 6,500 मेगावाट, अगस्त में 6,400 और सितंबर में 6,000 मेगावाट तक जा सकती है।

जैन ने दावा किया कि पिछले साल दिल्ली में महज 0.06 फीसदी बिजली कटौती हुई थी, वह भी स्थानीय तकनीकी गड़बड़ी के कारण। सरकार ने इस साल भी बिजली की निर्बाध आपूर्ति सुनिश्चित करने और घोषित व अघोषित बिजली कटौती से बचने के लिए मांग से ज्यादा बिजली का इंतजाम किया है। जरूरत पडऩे पर बदरपुर बिजली संयंत्र को तीन महीने तक चलाया जाएगा। इसके अतिरिक्त गैस से चलने वाले बवाना संयंत्र में 525 मेगावाट तक बिजली पैदा करने का इंतजाम किया गया है। जरूरत पडऩे पर इससे 1,000 मेगावाट बिजली पैदा की जा सकती है।

कीवर्ड दिल्ली, सरकार, बिजली, सत्येंद्र जैन,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक