आईआईपी में उछाल, खुदरा महंगाई नीचे आई

बीएस संवाददाता | नई दिल्ली Mar 12, 2018 10:23 PM IST

औद्योगिक गतिविधियों में जनवरी के दौरान 7.5 फीसदी तेजी दर्ज की गई। दिसंबर में इसमें 7.1 फीसदी की वृद्घि देखी गई थी। यह लगातार तीसरा महीना है जब औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (आईआईपी) 7 फीसदी से ऊपर रहा है। इससे संकेत मिलता है कि विमुद्रीकरण और वस्तु एवं सेवा कर के दौरान आई नरमी के बाद अब औद्योगिक गतिविधियों में तेजी आ रही है। दूसरी ओर खुदरा मुद्रास्फीति भी फरवरी में घटकर चार माह के निचले स्तर 4.4 फीसदी पर आ गई। जनवरी में यह 5.07 फीसदी थी। 

 

जनवरी में औद्योगिक गतिविधियों में तेजी का रुख बरकार रहा। आईआईपी में 77.6 फीसदी योगदान देने वाले विनिर्माण क्षेत्र में जनवरी के दौरान 8.7 फीसदी की तेजी आई। 23 विनिर्माण उद्योगों में से 16 में सुधार आया है। सबसे ज्यादा तेजी परिवहन उपकरण श्रेणी में देखी गई। लेकिन खनन गतिविधियों में नरमी का रुख बना हुआ है। चालू वित्त वर्ष में अप्रैल-जनवरी के दौरान आईआईपी में 4.1 फीसदी की तेजी आई, जबकि पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में 5 फीसदी की तेजी आई थी। केयर के मुख्य अर्थशास्त्री मदन सबनवीस ने कहा, 'पूरे साल के लिए औसत 5 फीसदी की वृद्घि दर्ज करने के लिए अगले दो महीने में आईआईपी में 9 से 9.2 फीसदी की तेजी आनी चाहिए।'
कीवर्ड आईआईपी, विमुद्रीकरण, वस्तु एवं सेवा कर,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक