ए320 नियो विमानों की उड़ान पर रोक

अरिंदम मजूमदार | नई दिल्ली Mar 12, 2018 10:42 PM IST

प्रैट ऐंड व्हिटनी इंजन उड़ान के दौरान हो जाते थे ठप

इससे पहले यूरोपीय उड्डयन नियामक ने भी इन इंजनों पर जारी की थी चेतावनी
गो एयर और इंडिगो के पास हैं ऐसे विमान
डीजीसीए के आदेश के बाद 90 उड़ानें हो सकती हैं रद्द
विमानन कंपनियों को अल्प अवधि के पट्टे पर लेने पड़ सकते हैं विमान

भारतीय नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने इंजन में लगातार आ रही खामियों के बाद 11 एयरबस नियो विमानों का परिचालन रोकने का आदेश दिया है। डीजीएसीए का यह आदेश तत्काल प्रभाव से लागू हो गया है। इनमें 8 इंडिगो और 3 गोएयर के विमान हैं।  इन इंजनों का विनिर्माण प्रैट ऐंड व्हिटनी (पीडब्ल्यू) ने किया था। यह खामी इंजन के उस पुर्जे में आ रही है, जो किसी जोखिम का शुरुआती संकेत दे सकता है और यह उस हिस्से में लगा होता है, जो उच्च दबाव झेलने में सक्षम होता है। 

डीजीसीए ने कहा, 'विमान परिचालन में सुरक्षा के मद्देनजर प्रैट ऐंड व्हिटनी 1100 इंजनों से लैस ए320 नियो विमानों का परिचालन तत्काल प्रभाव से रोक दिया गया है। इंडिगो और गो एयर दोनों विमानन कंपनियों को इन इंजनों में दोबारा कल-पुर्जे लगाने के लिए कहा गया है।' यूरोप के उड्डयन सुरक्षा नियामक (ईएएसए) ने फरवरी में इस तरह के इंजन को लेकर आगाह किया था। ईएएसए ने अपने आदेश में कहा था कि उन सभी विमानों का परिचालन तत्काल प्रभाव से रोका जाना चाहिए, जिनमें दोनों इंजन इसी तरह के हैं। ईएएसए ने यह भी कहा था कि जिन विमानों में एक इंजन है, उन्हें लंबी दूरी की उड़ान भरने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए। 

इन दिशानिर्देशों के बाद इंडिगो ने अपने तीन विमानों का परिचालन रोक दिया था। डीजीसीए का निर्देश इसी पृष्ठभूमि में आया है। इस बीच, उड़ान के दौरन इंजन बंद होने की तीन घटनाओं की शिकायत डीजीसीए से की गई थी। इनमें एक घटना आज हुई जब 186 यात्रियों के साथ इंडिगो के एक विमान को उड़ान के बीच में इंजन ठप होने के बाद आपात स्थिति में उतारना पड़ा। 

नियामक ने कहा कि ईएएसए के निर्देश के बाद उनकी एयरबस और प्रैट ऐंड व्हिटनी के प्रतिनिधियों के साथ बैठक हुई थी। डीजीसीए के अनुसार इस बैठक में उन्हें समस्या का समाधान खोजने के लिए कहा गया, लेकिन इन कंपनियों ने कोई ठोस प्रस्ताव नहीं दिए। 14 विमानों का परिचालन रुकने के बाद इन दोनों विमानन कंपनियों को कुछ उड़ाने रद्द करनी होंगी। 

हालांकि इन कंपनियों ने कोई आंकड़ा नहीं दिया, लेकिन सूत्रों के अनुसार नियामक के आदेश के बाद करीब 90 उड़ानें रद्द होंगी। इंडिगो ने कहा कि वह अपने यात्रियों को दूसरे विमानों में स्थानांतरित करेंगे। इंडिगो के प्रवक्ता ने कहा, 'यात्रियों को हुई असुविधाओं के लिए हमें खेद है। उन्हें हम अपने दूसरे विमानों से गंतव्य तक पहुंचाएंगे।' गो एयर के प्रवक्ता ने कहा कि हमें कुछ उड़ानों के कार्यक्रम में फेरबदल करनी पड़ रही है और इनकी सूचना प्रभावित यात्रियों को भेज रहे हैं। विश्लेषकों का मानना है कि डीजीसीए के इस आदेश से इंडिगो की वित्तीय स्थिति प्रभावित हो सकती है। क्योंकि क्षमता बढ़ाने का लक्ष्य पूरा करने के लिए इसे अल्प अवधि के लिए विमान पट्टे पर लेने होंगे।
कीवर्ड प्रैट ऐंड व्हिटनी इंजन, उड़ान, गो एयर, इंडिगो, विमान, डीजीसीए, एयरबस, नियो विमान,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक