महाराष्ट्र में प्लास्टिक थैलियों पर लगा प्रतिबंध

बीएस संवाददाता | मुंबई Mar 16, 2018 10:38 PM IST

महाराष्ट्र सरकार ने राज्य में प्लास्टिक और थर्मोकोल पर प्रतिबंध के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। इनका उत्पादन और बिक्री पर करने वालों पर 25 हजार रुपये तक जुर्माने के साथ 3 महीने की सजा का भी प्रावधान किया गया है। प्रतिबंध में पीईटी बोतलें और कचरे के डब्बे में इस्तेमाल होने वाली थैलियों को शामिल नहीं किया गया है लेकिन डिस्पोजल प्लास्टिक कप, प्लेट, चम्मच और प्लास्टिक थैलियों को शामिल किया गया है। दोबारा उपयोग में आने वाले प्लास्टिक का उपयोग दूध और डेयरी उत्पादों की पैकिंग में किया जा सकेगा।

यह प्रतिबंध गुड़ी पड़वा यानी 18 मार्च से लागू होगा। हालांकि सरकार कारोबारियों को 31 मार्च तक की छूट देगी जिससे उन्हें तैयारी करने का समय मिल जाएगा। नए नियम महीने के अंत से पूरी तरह लागू हो जाएगे। पर्यावरण मंत्री रामदास कदम ने विधानसभा में बताया कि राज्य मंत्रिमंडल ने पर्यावरण विभाग के प्लास्टिक प्रतिबंध के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। इसके दायरे में प्लास्टिक की थैलियां, थर्माेकोल और प्लास्टिक के प्लेट, कप, कटोरे, ग्लास, चम्मच, स्ट्रा, कटलरी और प्लास्टिक पाउच आएंगे। राज्य में इनकी बिक्री, इस्तेमाल, वितरण, उत्पादन और आयात पर पूरी तरह पाबंदी लगाई गई है। प्रतिबंध का उल्लंघन करने वालों पर 25 हजार रुपये तक का जुर्माना और 3 महीने की जेल हो सकती है। 


विशेष आर्थिक क्षेत्र, कृषि उत्पादों और दवाओं में इस्तेमाल होने वाली प्लास्टिक थैलियां या दूसरे उत्पादों के लिए 50 माइक्रोन से ज्यादा मोटी प्लास्टिक का उपयोग करना होगा। इसके साथ इनकी पुनर्खरीदारी की व्यवस्था को अपनाना होगा। दूध या कृषि उत्पादों की पैकिंग के ऊपर पुनर्खरीदारी की कीमत लिखनी होगा। दूध वितरण करने वाली कंपनियों और डेयरी फर्मों को पुनर्खरीदारी की व्यवस्था करने का निर्देश दिया गया है।
कीवर्ड महाराष्ट्र, सरकार, राज्य, प्लास्टिक, थर्मोकोल,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक