इक्विटी फंडों में निवेश मार्च में 59 फीसदी घटा

बीएस संवाददाता | मुंबई Apr 05, 2018 11:06 PM IST

इक्विटी म्युचुअल फंडों में शुद्ध निवेश मार्च में एक महीने पहले के मुकाबले आधा से ज्यादा घट गया। निवेशकों ने मार्च में 66.6 अरब रुपये झोके जबकि फरवरी में इनकी तरफ से 162.7 अरब रुपये का निवेश हुआ था। यह रकम मार्च 2017 के मुकाबले भी कम है। एसोसिएशन ऑफ म्युचुअल फंड्स इन इंडिया यानी एम्फी के आंकड़ों के मुताबिक तब 82.16 अरब रुपये का निवेश हुआ था। इन आंकड़ों में इक्विटी फंडों में निवेश और इकिक्वटी लिंक्ड सेविंग स्कीम्स (ईएलएसएस) फंड शामिल हैं। 

रिलायंस निप्पॉन लाइफ ऐसेट मैनेजमेंट लिमिटेड के कार्यकारी निदेशक व मुख्य कार्याधिकारी ने कहा, इसकी आंशिक वजह यह है कि लंबी अवधि के पूंजीगत लाभ कर लागू होने से पहले निवेशकों ने मुनाफावसूली पर विचार किया। मार्च में जिन निवेशकों ने मुनाफावसूली की उन्हें अपनी कमाई पर 10 फीसदी कर देने की जरूरत नहीं है, हालांकि यह सिर्फ उन फायदों पर लागू होगा जो 31 जनवरी के उच्च स्तर से ज्यादा होगा। यह तारीख सरकार ने ग्रैंडफादरिंग के लिए तय की थी। तब से बाजार में उतारचढ़ाव रहा है और अध्ययन बताता है कि इस अवधि में निवेश पर नकारात्मक प्रभाव पड़ा है। सिक्का के मुताबिक, स्थायी निवेश मसलन एसआईपी के जरिए होने वाला निवेश प्रभावित नहीं हुआ है। उन्होंंने कहा, एसआईपी निवेश में मजबूती बनी हुई है।

ईएलएसएस में अन्य इक्विटी योजनाओंं के मुकाबले ज्यादा निवेश हुआ। इन योजनाओं में का इस्तेमाल कर बचाने में होता है और सामान्य तौर पर वित्त वर्ष के आखिर में इनमें निवेश बढ़ता है। उनका शुद्ध निवेश इस साल मार्च में 37 अरब रुपये था। गैर-कर बचत वाले इक्विटी फंडों में महज 29.54 अरब रुपये का निवेश हुआ जबकि फरवरी में यह रकम 176 अरब रुपये रही थी।
कीवर्ड इक्विटी म्युचुअल, फंड, निवेश,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक