कोष का बंटवारा प्रदर्शन संकेतकों के आधार पर हो

भाषा |  Apr 08, 2018 09:34 PM IST

नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने केंद्रीय राजस्व में राज्यों की हिस्सेदारी तय करने के लिए उनके प्रदर्शन संकेतकों को आधार बनाए जाने की आज वकालत की। कुमार ने यह भी कहा कि राजकोषीय मामलों में गैर -जिम्मेदाराना रुख अपनाना बुरा है। वहीं राजकोषीय मामले में अंधभक्ति रखना भी उचित नहीं है और दोनों में एक सही संतुलन बनाए रखने की जरूरत है।  सीआईआई के एक कार्यक्रम में नीति आयोग के उपाध्यक्ष ने कहा, 'मुझे लगता है कि यह बिल्कुल साफ है कि कोष बंटावरे के मानदंडों में कुछ प्रदर्शन आधारित मानदंड शामिल किए जाएं और इसीलिए जिन राज्यों ने कुछ मामलों में बेहतर प्रदर्शन किया है , उन्हें दंडित नहीं किया जाना चाहिए।
 
उन्होंने कहा , .... यह बेहतर होगा कि कोष के बंटवारे में कुछ प्रदर्शन से जुड़े संकेतकों को शामिल करने की प्रक्रिया शुरू की जाए और चरणबद्ध तरीके से इसे बढ़ाया जाए। कुमार की यह टिप्पणी ऐसे समय आई है जब कुछ राज्यों ने केंद्र एवं राज्यों के बीच कर संसाधनों के बंटवारे के बारे में निर्णय को लेकर 15वें वित्त आयोग के लिए तय नियम शर्तों को लेकर चिंता जताई है। नीति आयोग, 15 वें वित्त आयोग को यह सिफारिश करने के पक्ष में था कि विभिन्न राज्यों को कोष आवंटन करते समय एक छोटा हिस्सा उनके सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) के क्षेत्र में किए गए प्रदर्शन पर आधारित होना चाहिए।  
 
कीवर्ड fiscal deficit, GDP, budget, CII,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक