खुल गया 11,000 करोड़ रुपये का ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे

भाषा | बागपत May 27, 2018 10:57 PM IST

राजमार्ग जैसी बुनियादी सुविधाओं के निर्माण को अपनी सरकार की प्राथमिकता बताते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कहा कि उनकी सरकार ने तीन लाख करोड़ रुपये की लागत से देश में 28,000 किलोमीटर लंबे राजमार्गों का नेटवर्क खड़ा करने का काम किया है। प्रधानमंत्री ने आज यहां 11,000 करोड़ रुपये की लागत से तैयार 135 किलोमीटर लंबे ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे को राष्ट्र को समर्पित करने के अवसर पर यह जानकारी दी। यह राजमार्ग 500 दिन के भीतर तैयार किया गया है। 

उन्होंने कहा कि सरकार राजमार्गों, रेलवे परियोजनाओं, हवाईमार्गों और सूचना नेटवर्क विस्तार पर सबसे ज्यादा ध्यान दे रही है। देश में राजमार्गों का अब 27 किलोमीटर प्रति दिन निर्माण हो रहा है जबकि कांग्रेस के शासन में प्रतिदिन केवल 12 किलोमीटर सड़क निर्माण हो रहा था।  हरियाणा के कुंडली से उत्तर प्रदेश में बागपत, गाजियाबाद, नोएडा होते हुए फरीदाबाद, पलवल को जोडऩे वाले इस राजमार्ग से भारी माल वाहन दिल्ली में प्रवेश किए बिना आसानी से अपने गंतव्य तक जा सकेंगे। इससे दिल्ली में भारी वाहनों के प्रदूषण और जाम की समस्या से निपटने में भी मदद मिलेगी। प्रधानमंत्री ने कहा कि राजमार्गों के लिए भारतमाला परियोजना के तहत 5 लाख करोड़ रुपये का आवंटन किया गया है।  

ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेसवे देश का पहला सौर-बिजली से प्रकाशित राजमार्ग है। इस पर हर 500 मीटर पर दोनों तरफ वर्षा जल संचयन प्रणाली को लगाया गया है। राजमार्ग के सौंदर्यीकरण के लिए इस पर 36 राष्ट्रीय स्मारकों की प्रतिकृति और 40 फव्वारे भी लगाए गए हैं। राजमार्ग पर आठ सौर ऊ र्जा संयंत्र हैं जिनकी कुल क्षमता 4 मेगावॉट है।  इस राजमार्ग पर निर्धारित से अधिक गति पर स्वत: चालान काटने वाले कैमरा इत्यादि की प्रणाली है। वहीं राजमार्ग पर टोल वसूली के लिए नई व्यवस्था की गई है कि जितनी दूरी आप तय करेंगे उतना ही टोल का भुगतान करना होगा। इस राजमार्ग पर राजमार्ग यातायात प्रबंधन प्रणाली भी लगाई गई है। साथ ही वीडियो इंसिडेंट डिटेक्शन प्रणाली अन्य आधुनिक सुरक्षा व्यवस्थाएं की गई हैं।
कीवर्ड राजमार्ग, प्रधानमंत्री, नरेंद्र मोदी, ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक