राज्यों की कारोबार सुगमता रैंकिंग जनवरी में संभव

भाषा | नई दिल्‍ली Nov 06, 2017 05:58 PM IST

वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय कारोबार सुगमता पर राज्यों की रैंकिंग जनवरी में जारी सकता है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने आज यह जानकारी दी। वर्ष 2016 में अखिल भारतीय स्तर पर राज्य-संघ शासित प्रदेशों की कारोबार सुगमता रैंकिंग में आंध्र प्रदेश और तेलंगाना संयुक्त रूप से पहले स्थान पर रहे थे। इस कदम का उद्देश्य निवेश आकर्षित करने और कारोबारी माहौल सुधारने के लिए राज्यों के बीच प्रतिस्पर्धा बढ़ाना है। राज्यों को सुधारों के बारे में प्रमाण अपलोड करने की समयसीमा कल तक के लिए बढ़ा दी गई है।

मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि हम जनवरी या फरवरी तक रैंकिंग जारी करने का प्रयास कर रहे हैं। अधिकारी ने कहा कि राज्य सरकारें कारोबार सुगमता की स्थिति को बेहतर करने के लिए कई कदम उठा रही हैं। वे मंजूरियों के लिए एकल खिड़की प्रणाली स्थापित कर रही हैं। पिछले साल की रैंकिंग 340 सूत्री कारोबार सुधार कार्रवाई योजना और राज्यों द्वारा उनके क्रियान्वयन पर आधारित थी। विश्व बैंक की ताजा रिपोर्ट के अनुसार कारोबार सुगमता रैंकिंग में 30 अंक की छलांग के साथ भारत 100वें स्थान पर आ गया है। औद्योगिक नीति एवं संवर्द्धन विभाग (डीआईपीपी) विश्व बैंक के साथ 200 से अधिक सुधारों की मान्यता पर काम कर रहा है। इससे भारत को कारोबार सुगमता की सूची में शीर्ष 50 देशों में आने में मदद मिलेगी।

कीवर्ड राज्य, कारोबार सुगमता, रैंकिंग, तेलंगाना, सुधार, रिपोर्ट, डीआईपीपी, विश्व बैंक,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक