दूसरी छमाही में सात प्रतिशत रहेगी वृद्धि दर : कोचर

भाषा | दावोस Jan 22, 2018 02:49 PM IST

भारतीय अर्थव्यवस्था के सभी क्षेत्रों में व्यापक सुधार देखने को मिल रहा है। इससे चालू वित्त वर्ष की दूसरी छमाही में भारतीय अर्थव्यवस्था सात प्रतिशत की वृद्धि दर हासिल कर पाएगी। शीर्ष बैंकर चंदा कोचर ने यह राय जताई है। यहां विश्व आर्थिक मंच (डब्ल्यूईएफ) के सालाना शिखर सम्मेलन में भाग लेने आईं कोचर ने कहा कि 2017-18 के पूरे वित्त वर्ष में भारतीय अर्थव्यवस्था की रफ्तार 6.5 प्रतिशत से अधिक रहेगी। इस बैठक को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और दुनिया के गई शीर्ष नेता संबोधित करेंगे। दावोस में वह दुनिया को क्या संदेश देना चाहेंगी, इस सवाल पर कोचर ने कहा कि स्पष्ट तौर पर चीजों में सुधार हो रहा है और विभिन्न क्षेत्रों में व्यापक आधार पर सुधार देखा जा रहा है। कोचर ने अर्थव्यवस्था में सुस्ती की चिंता को खारिज करते हुए कहा कहा कि केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) का अनुमान है कि भारत की जीडीपी की वृद्धि दर 6.5 प्रतिशत तथा सकल मूल्य वर्धित (जीवीए) वृद्धि 6.1 प्रतिशत रहेगी। उन्होंने कहा कि चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही में वृद्धि दर छह प्रतिशत रही है जो दूसरी छमाही में सात प्रतिशत की वृद्धि के बारे में सकारात्मक संकेतक है। कोचर ने कहा कि उपभोग आधारित क्षेत्रों में औद्योगिक उत्पादन के उपभोक्ता गैर टिकाऊ क्षेत्र में अनुकूल रुख दिखाई दे रहा है। व्यक्तिगत ऋण के मोर्चे, यात्रियों की संख्या, कारों और दोपहिया की बिक्री में सकारात्मक संकेत दिख रहे हैं। कोचर ने औद्योगिक उत्पादन के मोर्चे पर विनिर्माण पीएमआई में हालिया महीनों में उल्लेखनीय सुधार दिख रहा है। 
 
कीवर्ड अर्थव्यवस्था, बैंकर, चंदा कोचर, विश्व आर्थिक मंच, डब्ल्यूईएफ, प्रधानमंत्री, नरेंद्र मोदी, दावोस,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक