सुरक्षित रेल सफर के लिए अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी पर विचार

भाषा | नई दिल्‍ली Sep 28, 2017 03:25 PM IST

सरकार रेल सफर की सुरक्षा को चाकचौबंद बनाने के लिए अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल की संभावनाएं टटोलेगी। केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने आज यह जानकारी दी और कहा कि इस संबंध में देश के प्रमुख संगठन इसरो के साथ चर्चा की जा सकती है। वह यहां इंडिया मोबाइल कांग्रेस को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कार्यक्रम में मौजूद इसरो के चेयरमैन एएस किरण कुमार के साथ हाल ही में अपनी बैठक का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि रेलवे व इसरो इस दिशा में मिलकर काम कर सकते हैं और रेल यात्रा को सुरक्षित बनाने में अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल की संभावनाएं टटोल सकते हैं।

गोयल ने यह बात ऐसे समय में कही है कि जब हाल ही में रेल सफर की सुरक्षा को लेकर कई तरह के सवाल उठे हैं। रेलवे में कंप्यूटर प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल का जिक्र करते हुए गोयल ने कहा कि 60 के दशक में ही कंप्यूटरों का इस्तेमाल शुरू हो गया था लेकिन बाद में कंप्यूटरीकरण व प्रौद्योगिकी को अंगीकार करने की गति गुंजाइश के अनुरूप नहीं रही। उन्होंने कहा कि रेलवे के साथ गठजोड़ में गूगल ने देश के 400 से अधिक स्टेशनों पर वाईफाई हॉटस्पॉट स्थापित किए हैं। वे चाहते हैं कि यह संख्या ज्यादा से ज्यादा हो और इन वाईफाई हॉटस्पॉट का इस्तेमाल आस-पास के गांवों में लोगों को नि:शुल्क इंटरनेट उपलब्ध करवाने में किया जा सके।

कीवर्ड रेल, सफर, अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी, पीयूष गोयल, इसरो, मोबाइल कांग्रेस, रेलवे,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक