'दिसंबर की मौद्रिक समीक्षा में नीतिगत दरों में कटौती कर सकता है रिजर्व बैंक'

भाषा | नई दिल्‍ली Oct 30, 2017 03:18 PM IST

भारतीय रिजर्व बैंक 6 दिसंबर को अपनी द्विमासिक मौद्रिक समीक्षा में नीतिगत दरों में कटौती कर सकता है। बैंक ऑफ अमेरिका मेरिल लिंच (बोफा-एमएल) की एक रिपोर्ट में यह निष्कर्ष निकाला गया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि खुदरा मुद्रास्फीति अभी स्थिर है और अक्‍टूबर में इसके 3.3 प्रतिशत रहने का अनुमान है। बोफा-एमएल के शोध नोट में कहा गया है, हमारा मानना है कि रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) 6 दिसंबर को ब्याज दरों में 0.25 प्रतिशत की कटौती करेगी। इसमें कहा गया है कि मुख्य उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति को सातवें वेतन आयोग के बाद आवास किराया भत्ते (एचआरए) के लिए समायोजित किया गया था। अब यह नीचे आ रहा है और एचआरए का प्रभाव काफी हद तक सांख्यिकी की दृष्टि से ही रह गया है।

वैश्विक ब्रोकरेज ने कहा कि हमारा अनुमान है कि अक्‍टूबर में उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति सितंबर के 3.3 प्रतिशत पर ही कायम रहेगी। रपट में कहा गया है कि वृद्धि के नरम आंकड़ों से ब्याज दरों में कटौती की गुंजाइश बनती है। रिपोर्ट में कहा गया है कि दिसंबर में नीतिगत दरों में कटौती से व्यस्त औद्योगिक सत्र से पहले कर्ज की ब्याज दरों में कमी का संकेत मिलेगा। विशेषरूप से यह देखते हुए कि सरकार ऋण की आपूर्ति बढ़ाने के लिए बैंकों में पूंजी डालने जा रही है।

कीवर्ड मौद्रिक समीक्षा, नीतिगत दर, रिजर्व बैंक, बोफा-एमएल, रिपोर्ट, मुद्रास्फीति, एचआरए,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक