ऊंचाहार दुर्घटना की जांच के लिए समिति गठित, रिपोर्ट एक महीने में

भाषा |  Nov 03, 2017 03:10 PM IST

सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी एनटीपीसी के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक गुरदीप सिंह ने आज कहा कि ऊंचाहार बिजली संयंत्र में दुर्घटना के कारणों की जांच के लिए कार्यकारी निदेशक एसके राय की अध्यक्षता में समिति गठित की गई है और यह एक महीने में रिपोर्ट देगी। उन्होंने यहां संवाददातओं को बताया कि ऊंचाहार बिजली संयंत्र विस्फोट में मरने वालों की संख्या 32 हो गई है। उत्तर प्रदेश के रायबरेली जिले में स्थित कंपनी की 1,550 मेगावाट क्षमता की फिरोज गांधी ऊंचाहार ताप विद्युत संयंत्र में 1 नवंबर को बायलर फटने की घटना में कई लोग हताहत हुए। सिंह ने कहा, ऊंचाहार बिजली संयंत्र में दुर्घटना में मरने वालों की संख्या 32 पहुंच गई है। दुर्घटना के कारणों की जांच के लिए कार्यकारी निदेशक एसके राय की अध्यक्षता में समिति गठित की गई है। समिति एक महीने में रिपोर्ट देगी।

उन्होंने यह भी कहा कि एनटीपीसी संयंत्र विस्फोट अपनी तरह की दुर्लभ घटना है, इकाई का प्रबंधन काफी अनुभवी लोगों के हाथों में था। एनटपीसी के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक ने कहा कि इकाई को फिर से चालू करने में लगभग तीन से छह महीने का समय लगेगा। उल्लेखनीय है कि विस्फोट की घटना के बाद संयंत्र की 500 मेगावाट क्षमता की छठी इकाई बंद है। कुल 1,550 मेगावाट क्षमता के इस संयंत्र में 1,050 मेगावाट क्षमता की इकाइयां परिचालन में हैं। इस संयंत्र से नौ राज्यों को बिजली की आपूर्ति की जाती है। बिजली और नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री आरके सिंह ने उत्तर प्रदेश के बिजली मंत्री श्रीकांत शर्मा के साथ कल ऊंचाहार बिजली संयंत्र का दौरा किया। उन्होंने घटना में मारे गए लोगों के परिवार को 20 लाख रुपये, गंभीर रूप से घायलों को 10 लाख रुपये तथा अन्य जख्मी को 2 लाख रुपये के अनुग्रह राशि देने की घोषणा की।

कीवर्ड ऊंचाहार दुर्घटना, रिपोर्ट, सार्वजनिक क्षेत्र, एनटीपीसी, बिजली संयंत्र, विस्फोट, नवीकरणीय ऊर्जा,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक