ट्रंप और किम की जुबानी जंग का कड़वा अतीत

बीएस संवाददाता | नई दिल्ली Jun 13, 2018 12:25 PM IST

कुछ महीने पहले तक एक दूसरे को भला-बुरा कहने और अपमानजनक टिप्पणी करने वाले अमेरिका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप और उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग उन ने सिंगापुर में शिखर बैठक कर पूरी दुनिया को हैरत में डाल दिया है। परमाणु युद्ध तक की धमकी दे चुके दोनों नेताओं के रिश्ते इतिहास में शायद सबसे असाधारण माने जाएंगे। ट्रंप और किम के सनकी रवैये से कोरिया प्रायद्वीप में परमाणु युद्ध का खतरा पैदा हो गया था। अब परिस्थितियां पूरी तरह बदली लग रही हैं और दोनों नेता आपसी मतभेद दूर करने के लिए एक दूसरे के साथ बातचीत कर रहे हैं। इस आश्चर्यजनक बदलाव के बीच एक नजर उनके पिछले संबंधों पर:

'मानसिक रूप से विकृत व्यक्ति'
अपने विरोधियों के लिए भारी भरकम और अपमानजनक शब्दों का इस्तेमाल करने की छवि रखने वाले किम ने पिछले साल सितंबर में ट्रंप को 'मानसिक रूप से विकृत व्यक्ति' तक करार दिया था। किम ने ट्रंप के लिए 'डोटर्ड' शब्द का इस्तेमाल किया था, जिसके बाद कई लोग इस शब्द का मतलब समझने के लिए शब्दकोश पलटने लगे थे। ऑक्सफर्ड डिक्सशनरी में 'डोटर्ड' शब्द का मतलब मानसिक संतुलन खो चुके व्यक्ति से है। ट्विटर पर यह शब्द सुर्खियों में रहा। इंटरनैशनल सोशल मीडिया एनालिटिक्स कंपनी टॉकवॉकर के अनुसार ट्विटर पर एक दिन में ही करीब 180,000 बार इस शब्द का जिक्र हुआ।

'लिटल रॉकेट मैन'

अपने लिए 'डोटर्ड' शब्द का इस्तेमाल होने के बाद एक दिन बाद ट्रंप ने भी उत्तर कोरिया के शासक को 'लिटल रॉकेट मैन' के नाम से नवाजा। 22 सितंबर को ट्रंप ने एक रैली में कहा कि पूर्व अमेरिकी प्रशासकों को 'लिटल रॉकेट मैन' से निपटना चाहिए था। ट्रंप ने कहा कि अब यह काम वह पूरा करेंगे। ट्रंप ने कहा था, 'हम उसे सबक सिखाने जा रहे हैं। अब हमारे पास वाकई कोई विकल्प नहीं बचा है।' ट्रंप पहले भी किम को 'रॉकेट मैन' कह चुके थे, लेकिन यह पहला मौका था जब उन्होंने 'लिटल रॉकेट मैन' (किम के छोटे कद को देखते हुए) का इस्तेमाल किया था।

'मैडमैन'

उसी दिन ट्रंप ने उत्तर कोरिया के शासक को 'पागल व्यक्ति' करार दे दिया। ट्रंप ने अपने एक ट्वीट में कहा, 'किम ऐसे व्यक्ति हैं, जिन्हें अपने अपने लोगों को भूखा मारने से भी गुरेज नहीं है। किम के साथ अब बरताव होगा, जिसकी उन्होनें कभी उम्मीद नहीं की होगी'

'छोटा एवं मोटा'
'डोटर्ड' शब्द के जवाब में ट्रंप ने किम के शारीरिक बनावट पर व्यंग्य किया। उन्होंने अपने ट्वीट में कहा था, 'किम वृद्ध व्यक्ति कह कर मेरा मजाक क्यों उड़ाएंगे जब मैं उन्हें कभी बौना और मोटा व्यक्ति नहीं कहूंगा।' ट्रंप के इस ट्वीट के जवाब में उत्तर कोरिया की सत्ताधारी पार्टी के अखबार रोडॉन्ग सिनमुन ने तीखी प्रतिक्रिया दिखाई। अखबार ने कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति ने उत्तर कोरिया के शीर्ष नेतृत्व की गरिमा का हनन किया है। अखबार ने ट्रंप के इस बयान को एक 'जघन्य अपराध' बताया।

'भयभीत श्वान'

ट्रंप ने सितंबर 2017 में संयुक्त राष्ट्र महासभा में संबोधन के दौरान किम को रॉकेट मैन कहा था। इसके जवाब में किम ने भी ट्रंप पर जुबानी तीर चलाए। उत्तर कोरिया के सरकार नियंत्रित समाचार संगठन ने एक बयान में कहा, 'एक भयभीत श्वान जोर-जोर से भौंकता है।'

'परमाणु बटन' दबाने की धमकी

एक दूसरे के खिलाफ अपशब्दों का इस्तेमाल करने के बाद दोनों नेताओं ने परमाणु बटन दबाने तक की धमकी दे डाली। इसकी शुरुआत किम ने की जब 1 जनवरी को उन्होंने कहा था कि उनके टेबल पर परमाणु बटन है, जो वह कभी भी दबा सकते हैं। इसके जवाब में ट्रंप ने ट्विटर पर कहा कि कोई किम को यह बताए कि उनके टेबल पर भी परमाणु बटन है, जो काफी बड़ा है और काम भी करता है। 

कीवर्ड north korea, america, trump, उत्तर कोरिया, किम जोंग उन, डॉनल्ड ट्रंप, अपमानजनक टिप्पणी,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक