होम » Investments
«वापस

केवल ब्याज दर ही तय नहीं करेंगी भुगतान बैंकों की सफलता

प्रिया नायर |  May 28, 2017 09:51 PM IST

जिस व्यक्ति का सामान्य बैंक में बचत खाता है, वह नए-नवेले भुगतान बैंकों में खाता क्यों खुलवाएगा? सामान्य बैंक यूं भी भुगतान बैंक की तुलना में ज्यादा उत्पाद एवं सेवा मुहैया करा रहे हैं। लेकिन भुगतान बैंक की खासियत यह होगी कि उनमें लेनदेन बेहद आसान होगा। ग्राहक भुगतान बैंक के जरिये हर तरह के भुगतान कर सकेंगे। सच कहें तो आप सब्जीवाले को और पास की किराने की दुकान पर भी भुगतान बैंक के जरिये खरीदारी कर पाएंगे। पिछले सप्ताह के आरंभ में भुगतान बैंक शुरू करने वाली नामी कंपनी पेटीएम इसी पर दांव लगा रही है। पेटीएम के मुख्य वित्त अधिकारी मधुर देवड़ा कहते हैं, 'हम शून्य न्यूनतम राशि, डिजिटल लेनदेन पर शून्य शुल्क, प्रतिस्पर्धी ब्याज दर, भुगतान, ई-कॉमर्स और संपत्ति प्रबंधन (डिजिटल गोल्ड) जैसी सेवाओं को बिना झंझट मुहैया करा रहे हैं।'
इस समय इस बाजार में पेटीएम, एयरटेल और इंडिया पोस्ट काम कर रही हैं। जो व्यक्ति पेटीएम की भुगतान सेवाओं को नियमित रूप से इस्तेमाल नहीं करता है, उसे  पेटीएम में अपनी नकदी रखने पर सबसे कम 4 फीसदी ब्याज मिल रहा है। इस साल की शुरुआत में चालू हुआ एयरटेल भुगतान बैंक अपने बचत खाते पर 7.25 फीसदी ब्याज दे रहा है। इंडिया पोस्ट भुगतान बैंक 5.5 फीसदी ब्याज देता है।
पेटीएम की ब्याज दर भारतीय स्टेट बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, एचडीएफसी बैंक और अन्य वाणिज्यिक बैंकों के समान है। लेकिन उसे उम्मीद है कि लेनदेन पर कोई शुल्क नहीं लगाए जाने और अच्छी खासी पहुंच पहले से ही होने के कारण उसे बाकियों पर बढ़त हासिल हो जाएगी। एयरटेल अन्य बैंक खातों में धनराशि भेजने के लिए 0.5 फीसदी शुल्क लेता है। लेकिन उसी के किसी अन्य खाते में राशि भेजने पर कोई शुल्क नहीं लगेगा।
पेटीएम एनईएफटी/आईएमपीएस के मामले में सभी यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस लेनदेन शुल्क रहित हैं। देवड़ा कहते हैं, 'हम मानते हैं कि सभी डिजिटल लेनदेन मुक्त होने चाहिए। इससे खर्च हम पर ही पड़ेगा, लेकिन आगे चलकर यह ग्राहकों के लिए बेहतर साबित होगा।'
पेटीएम के अपने मोबाइल नेटवर्क से 5 लाख कारोबारी जुड़े हुए हैं। वे इस खाते से आगे भी भुगतान स्वीकार करते रहेंगे। हालांकि भुगतान करते समय ग्राहकों को यह चुनना होगा कि वे वॉलेट से भुगतान करना चाहते हैं या बैंक खाते से। इन कारोबारियों में से कुछ को कैश-इन/कैश आउट पॉइंट में तब्दील किया जाएगा और वे पेटीएम के लिए बैंकिंग टच पॉइंट के रूप में काम करेंगे।
इसकी तुलना में एयरटेल के 15 लाख पॉइंट हैं, जहां वह ऑफलाइन फोन रिचार्ज करती है। इसमें से शुरुआत में 60,000 को बैंकिंग पॉइंट के रूप में इस्तेमाल किया जाएगा।  अगर आपके पास केवाईसी वॉलेट है, लेकिन भुगतान बैंक खाता नहीं है तो भी आप पैसा भेज सकते हैं या भुगतान कर सकते हैं। हालांकि एनईएफटी या आईएमपीएस की सुविधा नहीं मिलेंगी क्योंकि ये केवल बैंकों में उपलब्ध हैं। वॉलेट यूजर को उसकी जमा राशि पर ब्याज नहीं मिलेगा और वह नकद जमा और निकासी नहीं कर सकेगा।
लैडर7 फाइनैंशियल एडवाइजर्स के संस्थापक सुरेश सदगोपन के मुताबिक इस बात की कम संभावना है कि भुगतान बैंक खातों मेंं बहुत ज्यादा पैसा रखा जाएगा क्योंकि इनका इस्तेमाल मुख्य रूप से लेनदेन में किया जाएगा। इसलिए व्यक्ति को ब्याज दर के अलावा यह भी देखना चाहिए कि उस भुगतान बैंक से लेनदेन कितना और कहां स्वीकार्य है और उस पर किस तरह के ऑफर पेश किए जा रहे हैं।
वह कहते हैं, 'स्वीकार्यता बहुत जरूरी है। ऑनलाइन लेनदेन के लिए मोबाइल वॉलेट बहुत सुविधाजनक हैं क्योंकि उनमें समय-समय पर ऑफर्स दिए जाते हैं और ग्राहक रिवार्ड पॉइंट अर्जित कर सकते हैं। वे यात्रा में भी उपयोगी हैं क्योंकि आपको डेबिट और क्रेडिट कार्ड इस्तेमाल करने की जरूरत नहीं होती है। इससे आपको अपने खाते के पूरे पैसे को नहीं दिखाना पड़ता, इसलिए व्यक्ति को भुगतान बैंक खातों में बहुत ज्यादा राशि की जरूरत नहीं होगी।'

कीवर्ड Payment bank, Airtel, Paytm,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक