होम » Investments
«वापस

आईसीआईसीआई लोम्बार्ड: वृद्घि का सुरक्षित विकल्प

हंसिनी कार्तिक |  Sep 10, 2017 09:02 PM IST

अपने जीवन बीमा व्यवसाय को सूचीबद्घ कराने के तकरीबन एक साल बाद अब आईसीआईसीआई बैंक अपनी सामान्य बीमा इकाई आईसीआईसीआई लोम्बार्ड जनरल इंश्योरेंस को सूचीबद्घ कराने की तैयारी कर रहा है। आईसीआईसीआई लोम्बार्ड जनरल इंश्योरेंस 2016-17 में सकल प्रत्यक्ष प्रीमियम आय (जीडीपीआई) पर आधारित निजी क्षेत्र की सबसे बड़ी गैर-जीवन बीमा कंपनी है। आरंभिक सार्वजनिक पेशकश (आईपीओ) में निवेशकों के लिए कई फायदे हैं, जिनमें सबसे ज्यादा आकर्षक लाभ निजी क्षेत्र की कंपनियों में इसे सबसे पहले बढ़त हासिल होना है। भारत में सामान्य बीमा की कम पैठ और सभी श्रेणियों में निजी कंपनियों के बीच बाजार दिग्गजों के साथ संपूर्ण उत्पाद पेशकश आईसीआईसीआई लोम्बार्ड जनरल इंश्योरेंस में निवेश के लिहाज से अनुकूल है। हालांकि 651-661 रुपये पर आईपीओ उस कीमत की तुलना में काफी ऊपर है जिस पर आईसीआईसीआई बैंक के संयुक्त उपक्रम भागीदार फेयरफैक्स ने मई 2017 में 12.18 फीसदी हिस्सेदारी बेची थी। फेयरफैक्स सौदे में बीमा कंपनी का मूल्यांकन लगभग 20,300 करोड़ रुपये पर किया गया था, जबकि आईपीओ से लगभग 30,000 करोड़ रुपये से मिलने का अनुमान है। फिर भी, विकास की संभावना और व्यवसाय में कंपनी की मजबूत हैसियत को देखते हुए दीर्घावधि निवेशक इस आईपीओ पर विचार कर सकते हैं।

परिचालन
आईसीआईसीआई बैंक द्वारा प्रवर्तित और कनाडाई निजी इक्विटी कंपनी फेयरफैक्स फाइनैंशियल होल्डिंग्स द्वारा समर्थित आईसीआईसीआई लोम्बार्ड वर्ष 2000-01 में परिचालन शुरू करने वाली पहली निजी गैर-जीवन बीमा कंपनी थी। पहल कंपनी होने की वजह से बीमा कंपनी मल्टीपल वितरण चैनलों के जरिये अपने उत्पादों की पेशकश वाहन, स्वास्थ्य, फसल/मौसम, आग, पर्सनल एक्सीडेंट, मैरिन, इंजीनियरिंग और लाइबिलिटी इंश्योरेंस जैसे विभिन्न सेगमेंटों के लिए भी करने में सक्षम रही। मौजूदा समय में, वाहन, स्वास्थ्य, आग और फसल बीमा का कंपनी की जीडीपीआई में 86 फीसदी का योगदान है।
वितरण नेटवर्क को भी जीडीपीआई के 43 प्रतिशत और 32 प्रतिशत के योगदान के साथ प्रत्यक्ष व्यवसायों के साथ डाइवर्सिफाइड किया गया है। आईसीआईसीआई लोम्बार्ड निजी कंपनियों में सभी श्रेणियों में बाजार दिग्गज है और वह अपनी इस हैसियत को हाल के वर्षों में हासिल करने और बरकरार रखने में सक्षम रही है। हालांकि फसल/मौसम बीमा योजनाओं में ताजा तेजी के बारे में बताना जरूरी है। फसल/मौसम बीमा योजनाओं में वृद्घि 2014-15 की कुल जीडीपीआई के 4 प्रतिशत से बढ़कर 30 जून 2017 तक 21.8 फीसदी पर पहुंच गई।

वित्तीय स्थिति
पिछले पांच वर्षों के दौरान पॉलिसीधारकों का फंड 2012-13 के 58 करोड़ रुपये से बढ़कर 2016-17 में 503 करोड़ रुपये पर पहुंच गया, और पॉलिसीधारकों का निवेश 6,511 करोड़ रुपये से बढ़कर 11,096 करोड़ रुपये हो गया। 2016-17 में एकत्रित कुल प्रीमियम 6,158 करोड़ रुपये पर रहा जो 2012-13 से 9 फीसदी की सालाना चक्रवृद्घि दर (सीएजीआर) से बढ़ा है, जबकि परिचालन मुनाफे में 2012-13 से 17.2 फीसदी की सीएजीआर दर्ज की गई और यह 2016-17 में बढ़कर 667 करोड़ रुपये हो गया। शुद्घ लाभ भी 2012-13 के 380 करोड़ रुपये से बढ़कर 2016-17 में 622 करोड़ रुपये पर पहुंच गया जो 10.4 फीसदी की सालाना वृद्घि है। आईसीआईसीआई लोम्बार्ड विकास के चरण में है जिसे देखते हुए विश्लेषक इस प्रदर्शन को प्रभावशाली मान रहे हैं। मैक्वेरी कैपिटल के विश्लेषकों का भी मानना है कि 104 फीसदी पर संयुक्त परिचालन अनुपात उसके सार्वजनिक क्षेत्र के प्रतिस्पर्धियों के 120 फीसदी के परिचालन अनुपात की तुलना में बेहतर स्थिति में है।

मूल्यांकन
आईपीओ के जरिये 5,600-5,700 करोड़ रुपये हासिल होने का अनुमान है। 'ऑफर फॉर सेल' (ओएफएस) होने की वजह से आईसीआईसीआई बैंक और फेयरफैक्स को बीमा कंपनी में अपनी 7 प्रतिशत और 12 प्रतिशत तक हिस्सेदारी घटानी होगी। वैश्विक रूप से सामान्य बीमा व्यवसाय का मूल्यांकन परिपक्व व्यवसायों के लिए प्राइस-टु-बुक और वृद्घि से संबंधित व्यवसायों के लिए प्राइस टु इक्विटी (पीई) पर आधारित है। विकास से संबंधित व्यवसायों के लिए पीई आईसीआईसीआई लोम्बार्ड के लिए बेहतर पैमाना होगा, क्योंकि इसमें तेजी आ रही है। मूल्यांकन निर्गम-पूर्व आधार पर 2016-17 के पीई के 45 गुना पर बैठता है। 30 जून 2017 के वित्तीय परिणाम पर नजर डालें तो यह निर्गम के बाद के आधार पर 2017-17 के पीई के 35 गुना पर है। जहां भारतीय सूचीबद्घता क्षेत्र में कोई प्रत्यक्ष तुलना नहीं है, वहीं गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियां (एनबीएफसी) की तुलना समान होगी। एनबीएफसी के शेयर 2016-17 के आधार पर 35-45 गुना के पीई और 2017-18 के आधार पर 30-35 गुना पर कारोबार कर रहे हैं। हालांकि आईपीओ में अल्पावधि परिदृश्य पर खास नजर रहने की संभावना है।

कीवर्ड General insurance, ICICI lombard, Bank,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक