होम » Investments
«वापस

आईईएक्स: दीर्घावधि लाभ के लिए अच्छा दांव

उज्ज्वल जौहरी |  Oct 08, 2017 10:11 PM IST

भारत की सबसे बड़ी बिजली व्यापार एक्सचेंज कंपनी इंडियन एनर्जी एक्सचेंज (आईईएक्स) मौजूदा शेयरधारकों को निकलने (पूरा आईपीओ ऑफर-फॉर-सेल है) का अवसर देने के लिए आईपीओ ला रही है। हालांकि आईईएक्स को इस आईपीओ के जरिये जुटाई जाने वाली कोई रकम नहीं मिलेगी। लगातार शानदार वित्तीय रिकॉर्ड और पूंजी पर अच्छे प्रतिफल (लगभग 40 फीसदी) के साथ साथ बाजार भागीदारी पर दबदबे आदि की वजह से यह निर्गम मजबूत दिख रहा है। वित्त वर्ष 2017 में 498 करोड़ रुपये की नकदी के साथ आईईएक्स अच्छी स्थिति में है। इसके अलावा आईईएक्स के परिदृश्य को भारत के विद्युत क्षेत्र में सुधार के प्रति सरकारी नीतियों से मजबूती मिली है।
बिजली की मांग दीर्घावधि में मजबूत रहने का अनुमान है। इसके अलावा कंपनी को बेहतर पारेषण और वितरण ढांचे से आपूर्ति संबंधी समस्याओं में कमी लाने में मदद मिली है। उज्ज्वल डिस्कॉम एश्योरेंस योजना (उदय) के क्रियान्वयन के बाद राज्य विद्युत बोर्डों (एसईबी) की वित्तीय सेहत में सुधार और इससे एसईबी की खरीदारी क्षमता बेहतर होने, और सभी के लिए बिजली ऐसी पहलें हैं जिनसे बिजली की मांग मजबूत होगी। क्रिसिल ने भारत में वित्त वर्ष 2017-22 के दौरान बिजली निर्माण और व्यस्त समय में इसकी मांग में सालाना 29.6 फीसदी और 7.3 फीसदी तक का इजाफा होने का अनुमान व्यक्त किया है। आईईएक्स इसकी मुख्य लाभार्थी होगी। वित्त वर्ष 2017 की बिक्री के आधार पर डे-अहेड-मार्केट (डीएएम) में बिजली अनुबंधों (15 मिनट्ïस के ब्लॉक में) की 99.4 फीसदी, टर्म-अहेड मार्केट (टीएएम) में 67.9 फीसदी और रिन्यूएबल एनर्जी सर्टिफिकेट्ïस (आरईसी) 71.2 फीसदी की बाजार भागीदारी के साथ कंपनी का मजबूत दबदबा बना हुआ है। कीमत सुधार को सक्षम बनाए जाने से भी आईईएक्स को राजस्व बढ़ाने में बड़ी मदद मिली है। वायदा (इंट्रा-डे, अगले दिन और 11 दिन तक) में निर्धारित अवधि के लिए अनुबंधों को टीएएम के तौर पर करार दिया गया है। आईईएक्स ने 26 सितंबर 2017 से एनर्जी सेविंग सर्टिफिकेट्ïस (ईएससट्ïर्स) की ट्रेडिंग शुरू की है। इन सकारात्मक बदलावों को ध्यान में रखते हुए विश्लेषकों का मानना है कि यह निर्गम खरीदने लायक है।

कीवर्ड IEX, Shareholders, offer for sale,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक