होम » Investments
«वापस

एचडीएफसी बैंक: शीर्ष 10 सूची के नजदीक

पवन बुरुगुला |  Oct 29, 2017 09:34 PM IST

एचडीएफसी बैंक 10 सर्वाधिक वैल्यू वाले वैश्विक बैंकों के लीग में प्रवेश करने के लिए तैयार है। इस साल डॉलर के संदर्भ में 55 प्रतिशत की शानदार तेजी से इस घरेलू ऋणदाता को अपनी स्थिति साल के शुरू के 22वें नंबर की तुलना में सुधार कर 12वें  पायदान पर पहुंचाने में मदद मिली है। मौजूदा समय में एचडीएफसी बैंक की वैल्यू 71.2 अरब डॉलर है जो नीदरलैंड के आईएनजी गु्रप (10वां सबसे मूल्यवान बैंक) से 1.3 फीसदी नीचे है। घरेलू ऋणदाता का बाजार पूंजीकरण बार्कलेज, जेपी मॉर्गन चेज और क्रेडिट सुइस जैसे प्रमुख वैश्विक बैंकों की तुलना में काफी अधिक है।

 
एचडीएफसी बैंक द्वारा इस साल दर्ज की गई वृद्घि सिर्फ चाइना मर्चेंट्ïस बैंक से ही पीछे है जिसने अपनी वैल्यू में 63 प्रतिशत की तेजी दर्ज की है। बाजार पर्यवेक्षकों के अनुसार एचडीएफसी बैंक के प्रदर्शन में मजबूती न सिर्फ उसके शानदार प्रदर्शन की वजह से आई है बल्कि कुछ वैश्विक (खासकर यूरोपीय) बैंकों की सेहत में आ रही कमजोरी को देखते हुए भी उसका प्रदर्शन अच्छा दिख रहा है। उदाहरण के लिए, डॉयचे बैंक की वैल्यू एचडीएफसी बैंक की तुलना में काफी अधिक थी, लेकिन अब उसका बाजार पूंजीकरण घटकर 34.5 अरब डॉलर रह गया है। इसी तरह रॉयल बैंक ऑफ स्कॉटलैंड (44 अरब डॉलर) और क्रेडिट सुइस (41 अरब डॉलर) भी एचडीएफसी बैंक की तुलना में छोटे हैं, भले ही उनकी पहुंच वैश्विक हो। हालांकि इन बैंकों की बैलेंस शीट का आकार एचडीएफसी बैंक के मुकाबले काफी ज्यादा है।
 
एचडीएफसी बैंक वैश्विक रूप से प्राइस-टु-बुक (पी/बी) और प्राइस-टु-अर्निंग्स (पी/ई) के संदर्भ में बेहद महंगे बैंकिंग शेयरों में से एक है। मौजूदा समय में, एचडीएफसी बैंक अपनी बुक वैल्यू के पांच गुना पर कारोबार कर रहा है, जबकि शीर्ष 15 लीग में उसके कई प्रतिस्पर्धी दो गुना से कम के पी/बी पर कारोबार कर रहे हैं। एचडीएफसी बैंक का एक वर्षीय पी/ई सूची में अब तक सबसे ज्यादा है।
 
दूसरे शब्दों में कहें तो बाजार पूंजीकरण लीग की तालिका में एचडीएफसी बैंक का दबदबा इस शेयर के लिए दिए गए प्रीमियम मूल्यांकन की वजह से ज्यादा मजबूत है।  इक्विनोमिक्स रिसर्च ऐंड एडवायजरी के संस्थापक जी चोकालिंगम कहते हैं, 'एचडीएफसी बैंक निवेशकों के लिए एक अच्छा दांव है। बैंक का मुनाफा पिछले कुछ वर्षों से 20 फीसदी से अधिक की दर से बढ़ रहा है। यह घरेलू के साथ साथ वैश्विक प्रतिस्पर्धियों की तुलना में भी अच्छी वृद्घि है। निवेशकों के लिए गिरावट अपेक्षाकृत सुरक्षित है क्योंकि बैंक न तो बाजार के लिए बड़े निवेश जोखिम से जुड़ा हुआ है और न ही बड़े कॉरपोरेट ऋणों के जोखिम से। मूल्यांकन के संदर्भ में भी, एचडीएफसी बैंक कई अन्य भारतीय बैंकों और वित्तीय संस्थानों के मुकाबले सस्ता है।'
 
बैंक गैर-निष्पादित परिसंपत्तियों (एनपीए) की समस्या से भी कम प्रभावित हुआ है, क्योंकि उसके ज्यादा ऋण छोटे निवेशकों से जुड़े हुए हैं। सितंबर में समाप्त तिमाही तक एचडीएफसी बैंक की ऋण बुक में छोटे ऋणों का योगदान 68 प्रतिशत था। कंपनी ने तिमाही में 7700 करोड़ रुपये की सकल एनपीए दर्ज कीं। जेफरीज इंडिया में विश्लेषक नीलांजन कारफा कहते हैं, 'बैंक का मुख्य मुनाफा अच्छी ऋण वृद्घि की वजह से मजबूत बना हुआ है। तिमाही के दौरान एनपीए में तेजी 'स्टैंडर्ड ऐसेट' के लिए एकमुश्त आकस्मिक प्रावधान की वजह से आई, जो नियामक के विचाराधीन है। कृषि ऋण माफी, जीएसटी क्रियान्वयन से संबंधित जोखिम और एनपीए के नियामकीय आकलन से जुड़ा जोखिम सबसे बड़ी चिंताएं बनी हुई हैं।' फिर भी सितंबर 2017 की तिमाही के लिए महज 0.43 फीसदी का बैंक का शुद्घ एनपीए अनुपात कई प्रतिस्पर्धियों की तुलना में नीचे है। मौजूदा समय में, प्रमुख 10 वैश्विक बैंकों की सूची में चीन के पांच बैंकों का दबदबा है, जिनका संयुक्त बाजार मूल्य लगभग एक लाख करोड़ डॉलर है। 
कीवर्ड bank, loan, debt, HDFC,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक