होम » Investments
«वापस

एचयूएल ने ग्रामीण तेजी पर लगाया दांव

राम प्रसाद साहू |  Oct 29, 2017 09:37 PM IST

हिंदुस्तान यूनिलीवर (एचयूएल) की सितंबर तिमाही का परिणाम उम्मीद से बेहतर रहा है। वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) की वजह से तुलनात्मक आधार पर राजस्व 10 प्रतिशत तक बढ़कर सितंबर तिमाही में 8,309 करोड़ रुपये दर्ज किया गया। इसे घरेलू बिक्री में विश्लेषकों के 3 फीसदी के अनुमान की तुलना में 4 फीसदी की वृद्घि से मदद मिली। पूर्ववर्ती तिमाहियों में कीमत वृद्घि से भी कंपनी को मदद मिली।

 
जीएसटी के क्रियान्वयन की वजह से पैदा हुए दबाव के बाद माल के पुन: भंडारण के साथ तिमाही के बाद के हिस्से में वृद्घि की रफ्तार में सुधार दर्ज किया गया। कंपनी के व्यवसायों में होम केयर सेगमेंट कुल राजस्व वृद्घि को बढ़ावा देने में अहम रहा और सालाना आधार पर राजस्व में 13 प्रतिशत तक का इजाफा दर्ज किया गया। लीवर आयुष के लॉन्च के साथ एचयूएल पर्सनल केयर सेगमेंट में सुधार की उम्मीद कर रही है जो 8 फीसदी पर रही है। वहीं फूड्ïस सेगमेंट में 11 फीसदी की वृद्घि को किसान प्रोडक्ट लाइन से मदद मिली है। हालांकि बिक्री वृद्घि मजबूत हुई है, लेकिन इसे तिमाही आधार (जून तिमाही में सपाट वृद्घि) और एक साल पहले की तिमाही में 1 फीसदी की गिरावट दोनों के आधार पर लो बेस से मदद मिली। जीएसटी से पैदा हुए दबाव को देखते हुए यह अहम है।
 
प्रबंधन ने संकेत दिया है कि बिक्री वृद्घि में तेजी धीरे धीरे आएगी और इसे ग्रामीण अर्थव्यवस्था में आ रहे सुधार से मदद मिलेगी। अच्छे मॉनसून, मजबूत न्यूनतम समर्थन मूल्य और ग्रामीण क्षेत्र में निवेश की वजह से मांग बढऩे की उम्मीद है। शेयरखान में वरिष्ठï शोध विश्लेषक कौस्तुभ पावस्कर का मानना है कि बिक्री वृद्घि ग्रामीण मांग पर निर्भर करेगी। इसके अलावा मौजूदा बचत कार्यक्रमों का असर भी परिचालन प्रदर्शन पर दिखने का अनुमान है जैसा कि सितंबर तिमाही में देखने को मिला है। ब्रांड लीवर आयुष के शानदार विज्ञापन और प्रोत्साहन के बीच परिचालन मुनाफा मार्जिन 180 आधार अंक तक बढ़कर 20.2 फीसदी पर रहा। 
कीवर्ड HUL, FMCG, rural,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक