होम » Investments
«वापस

तेज प्रतिस्पर्धा से कैडिला के मुनाफे पर दबाव

राम प्रसाद साहू |  Nov 12, 2017 07:40 PM IST

कैडिला हेल्थकेयर का शेयर दो कारोबारी सत्रों में लगभग 7 फीसदी टूट गया था। एक प्रमुख दवा के लिए एक्सक्लूसिव विपणन अधिकार खोने की चिंता से ब्रोकरों ने कंपनी का आय अनुमान घटा दिया और शेयर की रेटिंग कम कर दी। इससे इस शेयर में बड़ी गिरावट देखने को मिली। लियाल्डा दवा का इस्तेमाल अल्सरेटिव कोलाइटिस के उपचार में किया जाता है और 2017-18 में कैडिला हेल्थकेयर के अनुमानित लाभ में इसका 30-40 फीसदी योगदान रहने का अनुमान है। कंपनी को अनिवार्य मंजूरी लिए बगैर हाइरपरटेंशन के उपचार की दवा लॉन्च करने के लिए केंद्रीय दवा मानक नियंत्रण संगठन की जांच का भी सामना करना पड़ा रहा है। इससे धारणा प्रभावित हुई है, लेकिन निवेशक अमेरिकी बाजार और कंपनी के मध्यावधि परिदृश्य पर अधिक ध्यान देंगे।

 
अमेरिकी खाद्य एवं दवा प्रशासन (यूएसएफडीए) द्वारा मोरैया में कंपनी के संयंत्र के लिए मंजूरी के अलावा लियाल्डा का योगदान 2017-18 के बाद भी बरकरार रहने से भी कैडिला हेल्थकेयर के शेयर को बड़ी मदद मिली है। लियाल्डा को लेकर 6 महीने की एक्सक्लूसिविटी अवधि के दौरान कंपनी इसकी एकमात्र निर्माता रही है।  हालांकि जहां एक्सक्लूसिविटी अवधि के अंदर कैडिला हेल्थकेयर के राजस्व के लिए कोई खबरा नहीं है, वहीं निवेशक इस अवधि की समाप्ति के बाद सीमित प्रतिस्पर्धा के दौर की उम्मीद कर रहे हैं। हालांकि टेवा के लिए मंजूरी का मतलब है कि कैडिला हेल्थकेयर को पूर्व की तुलना में अब लियाल्डा को लेकर अधिक प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ेगा।
 
70 करोड़ डॉलर के सकल लाभ वाली दवा लियाल्डा की बिक्री पर इसका प्रभाव 2018-19 और 2019-20 में कैडिला हेल्थकेयर पर व्यापक होगा। 2018-19 के शुरू में इस दवा का जेनेरिक वर्सन लॉन्च करने वाली अन्य प्रतिस्पर्धी कंपनियां हैं ल्यूपिन, एनमील और ओस्मोटिका।  क्रेडिट सुइस के विश्लेषकों का मानना है कि लियाल्डा को चार जेनेरिक दवा निर्माताओं द्वारा बेचा जाएगा और इस दवा से कैडिला हेल्थकेयर की आय 2018-19 में घटकर आधी रह जाएगी। ब्रोकरों ने अगले दो वित्त वर्षों के लिए कैडिला हेल्थकेयर के लिए अपने आय अनुमान को 4-10 प्रतिशत तक घटा दिया है और शेयर के लिए लक्ष्य को 540 रुपये से घटाकर 465 रुपये कर दिया है। 
 
कैडिला हेल्थकेयर को एंटी-इन्फ्लेमेटरी एसाकोल एचडी जैसी अन्य प्रमुख दवाओं से राजस्व पर भी दबाव का सामना करना पड़ रहा है। इस दवा से राजस्व जहां एक तिमाही में 5 करोड़ डॉलर था वहीं अब यह 50 प्रतिशत तक घट गया है। आईआईएफएल के विश्लेषकों का कहना है कि इस दवा के लिए बाजार आकार घटेगा क्योंकि अभी अधिकृत जेनेरिक की बिक्री कर रही कैडिला हेल्थकेयर अगली तिमाही में अपने स्वयं के जेनेरिक वर्सन को लॉन्च करने के लिए तैयार है। कैडिला हेल्थकेयर अब एसाकोल एचडी के अधिकृत जेनेरिक वर्सन की बिक्री के लिए एक्टाविस को रॉयल्टी चुकाती है।
 
महंगे मूल्यांकन और लियाल्डा के लिए बढ़ती प्रतिस्पर्धा की वजह से सितंबर में कैडिला हेल्थकेयर के शेयर की रेटिंग घटा चुके आईआईएफएल के अभिषेक शर्मा और राहुल जीवानी ने शुक्रवार की रिपोर्ट में भी अपनी उस रेटिंग को बरकरार रखा है। इन विश्लेषकों ने इसके लिए कंपनी की अमेरिकी बाजार पर अत्यधिक निर्भरता को जिम्मेदार बताया है। उन्होंने कैडिला की 2018-19 की प्रति शेयर आय (ईपीएस) का अपना अनुमान 5 प्रतिशत तक घटा दिया है और इस शेयर के लिए 390 रुपये का कीमत लक्ष्य रखा है जो उसकी मौजूदा कीमत की तुलना में 16 फीसदी कम है।
 
हालांकि यह कैडिला हेल्थकेयर के लिए एक झटका है, लेकिन अमेरिका में कंपनी का मुख्य व्यवसाय मददगार साबित हो सकता है। जेपी मॉर्गन की नेहा मनपुरिया का कहना है कि अमेरिका में कैडिला हेल्थकेयर की व्यावसायिक वृद्घि मोरैया संयंत्र के लिए एफडीए की मंजूरी के बाद कंपनी की दवाओं की बिक्री में सुधार से 15 प्रतिशत तक बढ़ेगी। इस संयंत्र का कैडिला हेल्थकेयर की लंबित दवाओं में एफडीए की मंजूरी प्राप्त होने से पहले 40 फीसदी का योगदान था। 
 
अन्य सकारात्मक बदलाव होगा कंपनी की सितंबर तिमाही का वित्तीय परिणाम, जो इसी सप्ताह आना है। विश्लेषकों को इसके प्रतिस्पर्धियों के विपरीत, कैडिला हेल्थकेयर द्वारा राजस्व में 20 फीसदी वृद्घि दर्ज किए जाने और शानदार परिचालन एवं शुद्घ लाभ दर्ज किए जाने का अनुमान है। कंपनी को यह मजबूती लियाल्डा के लॉन्च, माइग्रेन दवा एलेट्रिप्टन के लिए प्रतिस्पर्धा धीमी पडऩे और ब्लड प्रेशर की दवा एटेनोलोल से मिलने की संभावना है। ज्यादातर विश्लेषकों का मानना है कि प्रमुख उत्पाद अवसरों पर प्रतिस्पर्धा का प्रभाव गहराने से पहले दिसंबर तिमाही की आय कैडिला हेल्थकेयर के लिए मददगार होगी। 
 
मौजूदा भाव पर, कैडिला हेल्थकेयर का शेयर अपनी 2018-19 के आय अनुमानों के 30 गुना पर कारोबार कर रहा है। विश्लेषकों का कहना है कि मोरैया संयंत्र को एफडीए की मंजूरी मिलने के बाद से शेयर की रेटिंग में बदलाव और लियाल्डा से पैदा हुए अवसर का असर शेयर में तेजी के रूप में दिखा है। इस शेयर का मूल्यांकन उसके प्रतिस्पर्धियों की तुलना में महंगा है जिसे तर्कसंगत नहीं ठहराया जा सकता। 
कीवर्ड cadila, share, कैडिला हेल्थकेयर,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक