होम » Investments
«वापस

क्या वाकई काम के हैं पांच सितारा ब्रांडेड अपार्टमेंट?

तिनेश भसीन |  Nov 19, 2017 09:35 PM IST

हाई-एंड यानी लक्जरी आवासों का बाजार भारत में सुस्त चल रहा है, लेकिन अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप के बड़े बेटे डॉनल्ड जूनियर यहां ट्रंप ब्रांड की दो रिहायशी परियोजनाएं शुरू कर सकते हैं। इनमें से एक परियोजना कोलकाता में और दूसरी गुरुग्राम में होगी। यह बात अलग है कि ब्रांडेड मकान उसी इलाके में उसी तरह के मकानों की तुलना में 15 से 20 फीसदी ऊंची कीमत पर बेचे जाते हैं, लेकिन उद्योग के विशेषज्ञ मानते हैं कि उनकी मांग बनी हुई है। कोलियर्स इंटरनैशनल इंडिया के राष्ट्रीय निदेशक - नॉलेज सिस्टम्स अमित ओबेरॉय कहते हैं, 'ये आम बाजार में खूब बिकने वाले मकान नहीं हैं। ये बेहद खास और रईस खरीदारों के लिए होते हैं, जो संपत्ति पसंद आने पर उसे फौरन खरीद लेते हैं, चाहे उसके लिए अधिक कीमत ही क्यों न देनी पड़े।'

 
लेकिन जिस वक्त मकानों की बिक्री में जबरदस्त मंदी आई है, उस वक्त इतनी ऊंची कीमत वसूलना जायज कहलाएगा? रियल एस्टेट विश्लेषक इसका जवाब हां में देते हैं, खासकर उन परियेाजनाओं के लिए, जिनमें ब्रांड नींव खुदने से फिनिशिंग होने तक जुड़े रहते हैं। एनारॉक प्रॉपर्टी कंसल्टेंट्ïस के चयेरमैन अनुज पुरी कहते हैं, 'कुछ ब्रांड संपत्ति में केवल अपना नाम जोड़ देते हैं और उसके एवज में रॉयल्टी वसूल लेते हैं। उस मामले में डेवलपर को केवल करार की शर्तों और नियमों का पाबंद रहना पड़ता है। लेकिन पांच सितारा होटल शृंखलाओं या ट्रंप से जुड़े ब्रांडेड अपार्टमेंट में हरेक बारीकी और छोटी से छोटी बात का पूरा ध्यान रखा जाता है।'
 
जो ब्रांड मकानों के निर्माण कार्य में जुड़े रहते हैं, वे यह सुनिश्चित करते हैं कि बाहरी हिस्सा हो या आंतरिक सज्जा, हाउसकीपिंग सेवाएं हों या थिएटर, स्विमिंग पूल हो या जिम्नेजियम, हर मामले में रियल्टर उनके अंतरराष्ट्रीय पैमानों का पूरा ध्यान रखे। भारत में मिलने वाला उनका मकान दुनिया के किसी दूसरे हिस्से में मौजूद मकान से बहुत अलग नहीं होगा। उदाहरण के लिए ऐसे कई अपार्टमेंट में दरबान और हाउसकीपिंग की सेवाएं भी साथ में मिलती हैं। पांच सितारा ब्रांडेड मकान आम तौर पर होटलों के बिल्कुल बगल में ही बनाए जाते हैं और उनमें ये सभी सेवाएं होटल के कर्मचारी ही देते हैं। पुरी कहते हैं, 'उस सूरत में प्रीमियम यानी अधिक कीमत जायज है क्योंकि इन अपार्टमेंटों के साथ गुणवत्ता भरी सेवा मिलती है। खरीदार भी ब्रांड के नाम पर ध्यान देते हैं और उन्हें पता होता है कि मकान में क्या मिलेगा।' इन मकानों को खरीदना बिल्कुल वैसा ही है, जैसे अच्छी साख वाले किसी डेवलपर से मकान खरीदना। हीरानंदानी या मुंबई में ओबेरॉय रियल्टी जैसे डेवलपर अपनी संपत्ति की अधिक कीमत वसूलते हैं क्योंकि उनके निर्माण ब्रांड की गुणवत्ता बहुत अच्छी है और वे अपनी परियोजनाएं तय समयसीमा के भीतर ही पूरी भी कर लेते हैं।
 
ब्रांडेड अपार्टमेंट को आकर्षक निवेश भी माना जा सकता है। कई खरीदार इन्हें अपने प्राथमिक आवास के तौर पर इस्तेमाल नहीं करते यानी हमेशा उनमें ही नहीं रहते। उदाहरण के लिए कुछ नामी कारोबारियों और अभिनेताओं ने पुणे में एक ब्रांडेड परियोजना में मकान खरीदे हैं। उन मकानों का इस्तेमाल वे तभी करते हैं, जब उस शहर में जाते हैं। इन मकानों को खास बनाए रखने के लिए अक्सर उन्हें चुनिंदा लोगों को न्योता देकर भी बेचा जाता है। ओबेरॉय कहते हैं, 'इस समय देश में कुछ ही ब्रांडेड अपार्टमेंट तैयार हुए हैं। लेकिन उनके अनूठेपन को देखते हुए रीसेल में भी उनकी अच्छी कीमत मिलने की पूरी संभावना है।'
 
ज्यादातर ब्रांडेड मकान अल्ट्रा-लक्जरी श्रेणी में आते हैं। उससे निचली श्रेणियों में उनकी संख्या बहुत कम है। मिसाल के तौर पर डिज्नी ने कुछ डेवलपरों के साथ समझौता किया है। उन परियोजनाओं में मकान खरीदने वालों को डिज्नी के ब्रांड वाले एक्सेसरीज जैसे अलमारी, किचनवेयर, फर्नीचर, बिस्तर, कालीन, सजावट का सामान, पंखे आदि मिलते हैं। इसलिए उन परियोजनाओं में केवल ब्रांड का नाम देखकर ही खरीदारी नहीं की जाती। यह भी हो सकता है कि डेवलपर ऐसी परियोजनाओं में कोई प्रीमियम ही न वसूलें।
कीवर्ड real estate, property,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक