होम » Investments
«वापस

पिछले साल जिन ने दिया रिटर्न शानदार, इस बार भी चमक रहेगी बरकरार

राम प्रसाद साहू |  Jan 07, 2018 09:40 PM IST

बाजारों के लिए 2017 अच्छा वर्ष रहा और बीएसई सेंसेक्स तथा निफ्टी 50 जैसे सूचकांकों में 28-29 फीसदी की तेजी दर्ज की गई। हालांकि यह अच्छी तेजी है, लेकिन वर्ष के स्टार प्रदर्शकों के मुकाबले इन शेयरों ने समान अवधि के दौरान निवेशकों की रकम दोगुनी की। हालांकि जहां बाजार के यह प्रदर्शन चालू वर्ष में बरकरार रखने की संभावना नहीं है, वहीं विश्लेषकों का मानना है कि 

शीर्ष प्रदर्शकों में अभी भी दमखम बचा हुआ है।
 
बजाज फाइनैंस
 
डाइवर्सिफाइड ऋण बुक, फंडों की कम लागत और मजबूत उपभोक्ता मांग की वजह से इस ऋण प्रदाता कंपनी को मजबूत ऋण वृद्घि और अच्छा मार्जिन दर्ज करने में मदद मिली है। सितंबर तिमाही में भी कंपनी ने धीमी आर्थिक वृद्घि और जीएसटी क्रियान्वयन के बावजूद 38 फीसदी की ऋण वृद्घि दर दर्ज की। जहां कंज्यूमर डï्ïयूरेबल्स और लोन अगेन्स्ट प्रॉपर्टी सेगमेंटों में भारी प्रतिस्पर्धा है वहीं विश्लेषकों का मानना है कि कंपनी बिक्री के बढ़ते अवसरों, प्रौद्योगिकी बढ़त और श्रेष्ठï अंडरराइटिंग क्षमता की वजह से ऋण वृद्घि के मोर्चे पर शानदार प्रदर्शन करेगी। जेएम फाइनैंशियल के विश्लेषकों का मानना है कि कंपनी 2017-20 के दौरान लाभ में 35 फीसदी की वृद्घि दर्ज करेगी क्योंकि उसे ऋण लागत में सुधार की वजह से मदद मिलेगी।
 
डीएलएफ
 
डीएलएफ की किराया इकाई में प्रवर्तक हिस्सेदारी की बिक्री और मालिकों द्वारा डीएलएफ में फिर से निवेश को लेकर इस शेयर पर लंबे समय से अनिश्चितता की स्थिति बनी रही है। रेंटल फर्म (किराया इकाई) में जीआईसी को हिस्सेदारी की बिक्री, रकम का डीएलएफ में निवेश और कंपनी में प्रवर्तक हिस्सेदारी 75 फीसदी पर बनाए रखने के लिए निजी नियोजन से डीएलएफ को 150 अरब रुपये की मदद मिलनी चाहिए। इससे कंपनी को अपना कुल कर्ज घटाने में मदद मिलेगी जो मौजूदा समय में 260 अरब रुपये पर अनुमानित है। बाजार अब मौजूदा रियल एस्टेट परिसंपत्तियों की बिक्री की रफ्तार पर ध्यान दे रहा है जिसे एक अन्य कारक माना जा सकता है। एचएसबीसी के विश्लेषकों का कहना है कि मुख्य व्यवसाय पर फिर से ध्यान दिए जाने और संयुक्त उपक्रमों के लिए दिलचस्पी दिखाने से कंपनी के भूमि बैंक की तेज बिक्री होने और शेयर मूल्यांकन में सुधार आने की संभावना है।
 
टाटा ग्लोबल बेवरिजेज
 
बड़े बदलाव या नुकसान में चल रही इकाइयां बेचने, लागत में बचत पर ध्यान केंद्रित करना और वृद्घि के नए अवसर तलाशना कंपनी को मजबूत वृद्घि की राह पर लाने में मददगार होंगे। वित्त वर्ष 2018 की पहली छमाही में आय वृद्घि 18 फीसदी थी। घरेलू चाय बाजार में कंपनी अग्रणी कंपनी है और उसकी भागीदारी तेजी से बढ़ रही है। इसके अलावा उत्पाद गुणवत्ता में सुधार लाने के प्रयासों से भी कंपनी को अपने मुनाफे में तेजी लाने में मदद मिल सकती है। वहीं नुकसान में चल रही इकाइयों के पुनर्गठन या बिक्री से भी मुनाफे पर दबाव को नियंत्रित करने और पूंजी के बेहतर इस्तेमाल को बढ़ावा देने में मदद मिलेगी। कई नए इलाकों में प्रवेश, क्षमता विस्तार और विदेशी बाजारों में ब्रांड पेशकश से वृद्घि में तेजी सुनिश्चित करने में मदद मिलेगी। इसके अलावा स्टारबक्स जैसे आकर्षक ब्रांडों के साथ भागीदारी और उचित शेयर मूल्यांकन से अभी और ज्यादा तेजी की गुंजाइश दिख रही है। 
 
टाइटन
 
कंपनी के ताजा अपडेट से त्योहारी सीजन में खुदरा बिक्री में दो अंक की वृद्घि का संकेत मिलता है और बाजार भागीदारी में तेजी की वजह से इस शेयर में दलाल पथ का भरोसा बढ़ा है। कंपनी को यह बिक्री वृद्घि ऊंचे आधार और उद्योग के लिए सख्त मानकों (जैसे प्रीवेंशन ऑफ मनी लाउंडरिंग ऐक्ट) के बावजूद दर्ज करने में मदद मिली है। इस सेगमेंट को नियंत्रित करने वाले नियमों की वजह से 2 लाख करोड़ रुपये के भारतीय आभूषण बाजार में टाइटन जैसी संगठित कंपनियों के पक्ष में हालात अनुकूल दिख रहे हैं। इन नियमों में 2 लाख रुपये से अधिक के लेनदेन के लिए पहचान का सबूत, जीएसटी क्रियान्वयन और कालेधन पर सख्ती जैसे प्रयास मुख्य रूप से शामिल हैं। प्रमुख अवसरों के दायरे और घडिय़ों के साथ साथ चश्मों की बिक्री में तेजी को देखते हुए मोतीलाल ओसवाल सिक्योरिटीज के विश्लेषकों ने उम्मीद जताई हे कि कंपनी वित्त वर्ष 2017-20 के दौरान 36 फीसदी की आय वृद्घि दर्ज करेगी। 
 
टीवीएस मोटर
 
टीवीएस मोटर के लिए मजबूत बिक्री वृद्घि का रुझान बरकरार है। कंपनी ने दिसंबर में सालाना आधार पर 38 फीसदी की वृद्घि दर्ज की। नाइजीरिया जैसे प्रमुख निर्यात बाजारों से तेजी से कंपनी को निर्यात बिक्री बनाए रखने में मदद मिलनी चाहिए। ये बाजार कच्चे तेल कीमतों में तेजी की वजह से सुधार दर्ज कर रहे हैं। विश्लेषकों का मानना है कि नए लॉन्च और ताजा पेशकशों से मिल रही मदद को देखते हुए घरेलू बाजार में मजबूत बिक्री का रुझान बरकरार रहेगा। तेजी से बढ़ रहे स्कूटर सेगमेंट पर कंपनी द्वारा ध्यान दिया जा रहा है और उसके द्वारा इस साल डैज स्कूटर लॉन्च किए जाने की संभावना है जिससे कुल बिक्री वृद्घि में सुधार आएगा। ज्यादातर विश्लेषक भविष्य में कंपनी द्वारा वाहनों को लॉन्च किए जाने की मजबूत संभावना को देखते हुए इस शेयर पर सकारात्मक बने हुए हैं। 
 
वक्रांगी
 
यह शेयर इस सूची में सबसे ज्यादा चढऩे वाला शेयर रहा है। निवेशक इस कंपनी ने अपनी निवेश पूंजी पिछले साल तीन गुना करने में कामयाब रहे। यही वजह है कि शेयर बाजार भी इस कंपनी पर सकारात्मक बना हुआ है। कंपनी नागरिक सेवाएं, रियल टाइम-बैंकिंग और फ्रेंचाइजी के जरिये सहायक ई-कॉमर्स सेवाएं मुहैया कराती है और उसके स्टोरों या केंद्रों की राजस्व वृद्घि की संभावना मजबूत बनी हुई है। विदेशी ब्रोकरेज फर्म मेबैंक किम एंग का मानना है कि कंपनी का परिचालन मुनाफा वित्त वर्ष 2017-20 के दौरान तिगुना हो जाएगा। कंपनी के केंद्रों की संख्या दोगुनी होकर 75,000 हो जाएगी। राजस्व वृद्घि के कारकों में लीड जेनरेशन फॉर लोन्स, वीजा सेवाएं और रिवर्स लॉजिस्टिक्स जैसी नई पेशकशें शामिल हैं। विश्लेषकों का मानना है कि वक्रांगी द्वारा दर्ज की गई शुरुआती बढ़त को देखते हुए कंपनी के लिए पारंपरिक फ्रेंचाइजी मॉडल को अपनाना और अपनी उपस्थिति बढ़ाना आसान नहीं होगा। सेवाओं में विस्तार की गुंजाइश को देखते हुए राजस्व वृद्घि की राह मजबूत बनी हुई है। 
कीवर्ड share, market, sensex, बीएसई, कंपनी, शेयर,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक