होम » Investments
«वापस

किफायती आवास क्षेत्र के इन 6 शेयरों पर लगाएं दांव

हंसिनी कार्तिक |  Jan 21, 2018 09:11 PM IST

इस साल के लिए अफॉर्डेबल हाउसिंग यानी किफायती आवास खंड प्रमुख थीमों में शामिल है। इस थीम से जुडऩे के दो तरीके हैं- रियल एस्टेट शेयरों की खरीदारी करना या गृह सुधार और आवास वित्त जैसे सहायक क्षेत्रों पर दांव लगाना। जहां रियल एस्टेट शेयरों की खरीदारी से निवेशकों को प्रत्यक्ष रूप से इस सेक्टर में पहुंच बनाने में मदद मिल सकती है, वहीं गृह सुधार या आवास वित्त जैसे सहायक क्षेत्रों से पोर्टफोलियो को व्यापक बनाया जा सकता है, और थीम के उम्मीद के मुताबिक सफल नहीं होने की स्थिति में इसे अलग किया जा सकता है। दूसरा तरीका (गृह सुधार और आवास वित्त जैसे सहायक क्षेत्रों पर दांव लगाना) कुछ हद तक निवेशकों को आय के असमान वितरण और शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव के उस जोखिम से भी बचाता है, जो रियल्टी शेयरों में अक्सर देखा जाता है। 

कजारिया सिरैमिक्स, सेंचुरी प्लाईबोड्ïर्स और सिंफनी अपने संबद्घ सेगमेंटों में बाजार दिग्गज हैं और क्षमता वृद्घि का लाभ उठा रहे हैं। यही वजह है कि ये शेयर महत्वपूर्ण निवेश साबित हो सकते हैं। पसंद को लेकर असंगठित से संगठित क्षेत्र की कंपनियों के प्रति बढ़ता रुझान इन कंपनियों से जुड़ा एक अन्य सामान्य कारक है। हालांकि कुछ जोखिम भी हैं। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के ताजा आंकड़ों से पता चलता है कि 10 लाख रुपये से कम के आवास ऋण सेगमेंट में फंसे कर्ज में तेजी आई है। इसी तरह सरकारी सब्सिडी में किसी तरह की कमी से वृद्घि दर धीमी पड़ सकती है। 

ऑस्ट्रल पॉलि
भारत के प्लास्टिक पाइप व्यवसाय में 6 प्रतिशत की बाजार भागीदारी और व्यापक रूप से इस्तेमाल होने वाले सीपीवीसी (क्लोरिनेटेड पॉलिविनाइल क्लोराइड) पाइप सेगमेंट में 25 फीसदी भागीदारी के साथ ऑस्ट्रल पॉलि (ऑस्ट्रल पाइप्स नाम से लोकप्रिय) मजबूत प्रबंधन वाली मझोली कंपनियों में शामिल है और वह आवास, कृषि और औद्योगिक सेगमेंटों पर ध्यान केंद्रित करती है। हालांकि, चूंकि जोर आवासीय क्षेत्र पर है, इसलिए ऑस्ट्रल अन्य कंपनियों सुप्रीम इंडस्ट्रीज और फिनोलेक्स से आगे है, जो आय निरंतरता के संदर्भ में कृषि-खंड पर दबदबा रखती हैं। प्रौद्योगिकी, नए संयंत्रों की स्थापना, वितरण नेटवर्क और विपणन (अभिनेता सलमान खान ब्रांड ऐंबेसडर के तौर पर शामिल) में लगातार निवेश से ऑस्ट्रल को बिक्री और मुनाफे में सुधार के संदर्भ में आगे रहने में मदद मिली है।  

सेंचुरी प्लाईबोड्र्स
खासकर असंगठित सेगमेंट (बाजार का 75 प्रतिशत) पर केंद्रित उद्योग में दो सेगमेंटों के बीच मूल्य निर्धारण अंतर सीमित करना सेंचुरी प्लाईबोड्ïर्स की खासियत है। मीडियम डेंसिटी फाइबरबोर्ड (एमडीएफ), लैमिनेट्ïस और पार्टिकल बोर्ड जैसी सभी श्रेणियों में क्षमता वृद्घि से अगले दो साल में 8 अरब रुपये से ज्यादा बढ़ सकता है। संगठित प्लाईवुड उद्योग में 25 फीसदी की बाजार भागीदारी को देखते हुए ऐंजल ब्रोकिंग के विश्लेषकों ने अनुमान व्यक्त किया है कि सेंचुरी प्लाई मजबूत ब्रांडों और व्यापक वितरण नेटवर्क की मदद से अपनी बाजार भागीदारी तेजी से बढ़ाने में सफल रहेगी। कोटक सिक्योरिटीज ने क्षमता इस्तेमाल में सुधार की वजह से बेहतर राजस्व संभावनाओं को देखते हुए हाल में इस शेयर के लिए अपनी रेटिंग को बढ़ाकर 'खरीदारी' किया है। 

कजारिया सिरैमिक्स
टाइल्स उद्योग में बाजार दिग्गज होने के बावजूद रियल एस्टेट क्षेत्र में मंदी की वजह से कंपनी की बिक्री और प्राप्तियों पर दबाव पड़ा है। लेकिन दिसंबर 2017 की तिमाही से हालात में बदलाव आ रहा है, क्योंकि जीएसटी और रियल एस्टेट रेग्युलेशन ऐक्ट (रेरा) की चुनौती कम होने लगी है। रिलायंस सिक्योरिटीज के विश्लेषकों का कहना है कि वित्त वर्ष 2017 में दर्ज किया गया एक अंक की आय वृद्घि कर रुझान बदल सकता है। विश्लेषकों का कहना है, 'वृद्घि की प्रमुख कारक मजबूत हैं और निर्माण तथा मजबूत उपभोक्ता आधार बनाने में बड़े निवेश से ब्रांड को मदद मिलेगी।' इसके अलावा कर्ज कटौती के कदम भी सकारात्मक हैं।

कनसाई नेरोलैक 
औद्योगिक (मुख्य रूप से वाहन) और डेकोरेटिव पेंट्ïस (हाउसिंग) क्षेत्रों, दोनों में उपस्थिति होना कनसाई के लिए महत्त्वपूर्ण है। दोनों सेगमेंट में बेहतर बिक्री के संकेतों के साथ कनसाई मजबूत लाभ हासिल करने की स्थिति में बनी हुई है। हालांकि अधिक कर और कम अन्य आय की वजह से कंपनी की दिसंबर तिमाही के आंकड़े कुछ हद तक निराशाजनक रहे हैं, लेकिन परिचालन प्रदर्शन मजबूत रहा है क्योंकि राजस्व सालाना आधार पर 14 प्रतिशत तक बढ़ा है। आईआईएफएल के विश्लेषकों का कहना है, 'कनसाई पिछले वर्षों में किए गए निवेश के बाद डेकोरेटिव सेगमेंट में बाजार-केंद्रित वृद्घि बरकरार रखेगी। कंपनी को दक्षिणी बाजारों में अपनी स्थिति मजबूत बनाने में मदद मिलेगी।'

रेपको होम फाइनैंस
दक्षिण भारत में मजबूत पकड़, नोटबंदी और नकदी से जुड़ी चिताएं कम होने से रेपको को अपना खोया आधार लौटाने में मदद मिल सकती है। मोतीलाल ओसवाल फाइनैंशियल सर्विसेज के विश्लेषकों का मानना है कि चुनौतीपूर्ण समय के बावजूद रेपको के लिए 12 प्रतिशत की दर पर ऋण पर प्रतिफल फिन होम्स और गृह फाइनैंस जैसे प्रतिस्पर्धियों की तुलना में बेहतर है। 

सिंफनी
बेहद कीमत-संवेदी उद्योग में सिंफनी एयर-कूलर क्षेत्र में मजबूत बाजार हैसियत (50 प्रतिशत भागीदारी) बनाए हुए है और वह टियर-2 तथा टियर-3 शहरों में अपनी मजबूत पकड़ को बरकरार रखने की क्षमता से संपन्न है। नए उत्पादों की लगातार पेशकश से कंपनी को प्रतिस्पर्धियों से आगे रहने और लागत वृद्घि का सही ढंग से प्रबंधन करने में मदद मिली है। एडलवाइस के विश्लेषकों का कहना है कि परिचालन मुनाफा मार्जिन बढ़कर 35-38 फीसदी (मौजूदा 30 प्रतिशत से) हो सकता है।
कीवर्ड अफॉर्डेबल हाउसिंग, किफायती आवास खंड, रियल एस्टेट, निवेशक,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक