होम » Investments
«वापस

जुबिलैंट : शेयर में अभी भी दम

राम प्रसाद साहू और अर्णव दत्ता |  Jan 28, 2018 09:39 PM IST

दिसंबर तिमाही में मजबूत प्रदर्शन और आय वृद्धि के बेहतर अनुमानों के मद्देनर महज दो कारोबारी सत्रों में ही जुबिलैंट फूडवक्र्स में 19 प्रतिशत तेजी आई। शेयर चढऩे की सबसे बड़ी वजह सेम-स्टोर सेल्स ग्रोथ में 17.8 प्रतिशत तेजी रही, जो पिछले पांच सालों का सबसे ऊं ची वृद्धि दर है। ज्यादातर विश्लेषकों ने इसमें 10 प्रतिशत तेजी आने का अनुमान व्यक्त किया था लेकिन यह इससे भी ज्यादा बढ़ा है।  कंपनी ने उद्योग की वृद्धि दर सपाट रहने के संकेत दिए हैं। इसका मतलब यह हुआ कि वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) कर के बाद कंपनी असंगठित क्षेत्र की बाजार हिस्सेदारी अपने पाले में कर रही है। कंपनी के उत्पादों के साथ जुड़ी अच्छी संभावना को देखते हुए यह कहा जा सकता है कि  इससे भी मांग बढ़ाने में सहायता मिली है। कंपनी प्रबंधन ने संकेत दिया है कि उत्पादों की गुणवत्ता में सुधार से लोगों की सकारात्मक प्रतिक्रिया मिली है जिससे नए ग्राहक जोडऩे में मदद मिली है। साथ ही मौजूदा ग्राहकों ने भी उपभोग बढ़ाया है, जिससे सेम-स्टोर सेल्स में तेजी आई है।  मॉर्गन स्टैनली के विश्लेषकों का कहना है कि आने वाले समय में शहरी क्षेत्रों में खपत बढऩे से मांग में तेजी आनी चाहिए। उनके अनुसार इससे कंपनी को मौजूदा लागत नियंत्रण का लाभ उठाने और डंकिन से हुए नुकसान से निपटने में मदद मिलेगी। 

 
शेयर में बढ़त की गुंजाइश
 
राजस्व में मजबूत वृद्धि का असर परिचालन मुनाफा मार्जिन में दिखा, जिसमें एक साल पहले की समान अवधि के मुकाबले 750 आधार अंक की तेजी आई और यह 17.2 प्रतिशत के स्तर पर पहुंच गया। यह अपने सर्वकालिक 18.3 प्रतिशत मार्जिन के ऊंचे स्तर से 110 आधार अंक कम है। मार्जिन 14 प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया गया था, लेकिन अधिक कारोबार और लागत कम करने के कंपनी के मौजूदा प्रयासों से यह आकलन से भी ज्यादा रहा। कंपनी ने लागत कम करने के लिए नुकसान में चल रहे 9 डंकिन डोनट्स के स्टोर बंद कर दिए। कंपनी ने पिछले कुछ सालों में इस तरह के स्टोर की संख्या कम की है।   
 
इस महीने नोएडा केंद्र (बैक-एंड सप्लाई) की शुरुआत से जुबिलैंट को मुनाफे के मोर्चे पर मदद मिल सकती है। यह केंद्र 600 स्टोरों को सेवाएं मुहैया करा सकता है। उम्मीद है कि इससे ऑटोमेशन, कम माल भाड़े और दो मौजूदा छोटे केंद्रों के विलय के जरिये खर्च कम करने में मदद मिलेगी। कंपनी के मजबूत प्रदर्शन के मद्देनजर विश्लेषकों ने वित्त वर्षों 2019 और 2020 दोनों के लिए परिचालन मुनाफे का अनुमान 20 प्रतिशत बढ़ा दिया है। वैसे शेयर वित्त वर्ष 2019 के आय अनुमानों के 57 गुना स्तर पर कारोबार कर रहा है, ज्यादातर विश्लेषक दीर्घ अवधिकी संभावनाओं को लेकर उत्साहित हैं। उनका मानना है कि मौजूदा स्तर से 20 प्रतिशत और तेजी दिख सकती है। 
कीवर्ड jubilant, share, market, sensex, बीएसई, कंपनी, शेयर,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक