होम » Investments
«वापस

आने वाले दिनों में चमकेगी सन टीवी

टी ई नरसिम्हन |  Mar 11, 2018 11:26 PM IST

इस साल जनवरी में 1,077 रुपये के सर्वोच्च स्तर पर पहुंचने के बाद सन टीवी नेटवर्क का शेयर नीचे आया है। हालांकि राजस्व आंकड़ों में सुधार के साथ तमिलनाडु में डिजिटलीकरण अभियान अगले दो सालों में कंपनी के कारोबार की रफ्तार मजबूत रहने की ओर इशारा कर रहे हैं। विश्लेषकों के अनुसार कारोबारी माहौल में सुधार और कलानिधि मारन सहित प्रवर्तकों के कानूनी पचड़े से निकलने से शेयर में आई मौजूदा गिरावट निवेशकों को निवेश का एक अच्छा अवसर प्रदान कर रहा है। 

 

उम्मीद से कम मुनाफा
कंपनी दिसंबर 2017 तिमाही में तेज गति से आगे बढ़ी। इस तिमाही में सन टीवी का शुद्ध मुनाफा 11 प्रतिशत बढ़कर एक साल पहले के 2.66 अरब रुपये के मुकाबले 2.40 अरब रुपये हो गया। ये आंकड़े विश्लेषकों के अनुमान से कम रहे। हां, ब्याज, कर, अवमूल्यन आदि पूर्व आय (एबिटा) अनुमानों के अनुरूप ही रही। प्रोग्रामिंग और कन्टेंट पर खर्च बढऩे से भी मुनाफा प्रभावित हुआ। स्लॉट-सेल के मुकाबले अधिक स्थिर कमीशन आधारित मॉडल के कारण लागत बढ़ गई। सन टीवी ने संकेत दिया था कि निजी प्रॉड्यूसर और कमीशंड प्रोग्रामिंग के मामले में विभाजन 50:50 अनुपात में होगा। कमीशंड प्रोग्रामिंग की हिस्सेदारी इस समय 20 प्रतिशत है। आय के आंकड़ों में तीन लगातार तिमाहियों तक  इकाई अंकों में तेजी के बाद तीसरी तिमाही में यह दहाई अंकों में आ गई। विज्ञापन से प्राप्त राजस्व में उम्मीद से कहीं अधिक तेजी से राजस्व सालाना आधार पर 15.9 प्रतिशत बढ़कर 6.83 अरब रुपये पर पहुंच गया। विज्ञापन एवं प्रसारण राजस्व में 19 प्रतिशत तेजी आई।  

विज्ञापन राजस्व से मदद
देश में टेलीविजन राजस्व का बाजार 188 अरब रुपये है, जिनमें दक्षिण क्षेत्र की हिस्सेदारी 40 अरब रुपये है। इनमें तमिलनाडु की हिस्सेदारी 56 प्रतिशत है और सन टीवी इनमें 45-50 प्रतिशत अर्जित करती है। आने वाली तिमाहियों में कंपनी राजस्व के बेहतर आंकड़े अर्जित करने की उम्मीद कर रही है। एक विश्लेषक ने कहा, 'दो अंक में वृद्धि दर तर्कसंगत है क्योंकि बड़ी विज्ञापन कंपनियां एक बार फिर वापस लौट आई हैं।' डीटीएच प्रणाली में तेजी और एचडी चैनलों के प्रति लोगों के बढ़ते रुझान और प्रति महीने औसत ग्राहक राजस्व बढऩे से विश्लेषकों को सन टीवी के सबस्क्रिप्शन राजस्व में 16 प्रतिशत की दर से बढ़ोतरी की उम्मीद है।  

प्रतिस्पर्धा हुई तेज
तमिलनाडु सहित परंपरागत दक्षिण भारतीय बाजार में कलर्स तमिल, जी और स्टार सहित दूसरे चैनलों से बढ़ती प्रतिस्पद्र्धा के बीच सन टीवी बाजार में अपनी हिस्सेदारी बनाए रखने और कारोबार विस्तार के उपाय कर रही है। सन नेटवर्क के फ्लैगशिप चैनल सन टीवी ने 2016 में 60 प्रतिशत दर्शक बटोरे थे। अब यह कम होकर 47-48 प्रतिशत रह गया है। प्रबंधन का कहना है कि सन रणनीतियों में बदलाव के जरिये अपनी बादशाहत कायम रखने के लिए काम करेगी, साथ ही अपने प्रतिस्पर्धियों के बाजार पर भी हमला बोलेगी।  

विषय-वस्तु में बदलाव के बाद सन जेमिनी टीवी (तेलगु) की रेटिंग पिछले कुछ महीनों में सुधरकर 24-25 प्रतिशत हो गई। कनार्टक में इसके मनोरंजन चैनल उदय टीवी की रेटिंग भी 11-12 प्रतिशत से बढ़कर 17-18 प्रतिशत हो गई। केवल मलयाली भाषा में सन के मूवी चैनल की रेटिंग कम हुई है। यह 20-22 प्रतिशत से कम होकर अब 17-18 प्रतिशत रह गई है। कलर्स तमिल और स्टार और जी द्वारा विषय-वस्तु को लेकर आक्रामक नीति अपनाने से चिंताएं जरूर पैदा हुई हैं। कंपनी अब कन्टेंट ओटीटी (ओवर द टॉप) और बाजार के विस्तार में निवेश करना चाहती है। प्रबंधन ने कहा कि कंपनी वित्त वर्ष 2019 में नए बाजारों में प्रवेश करने पर विचार कर रही है। 

आगे की राह
आने वाले समय में सन दो अंकों में तेजी दर्ज कर सकती है। आईसीआईसीआई के अनुसार कम आधार और गैर-तमिल भाषी बाजारों में बढ़ी रेटिंग से मिले लाभ के कारण कंपनी का विज्ञापन राजस्व वित्त वर्ष 2017 से 20 के दौरान 12.5 प्रतिशत चक्रवृद्धि दर से बढ़ेगा। इनके आलवा सन टीवी को वित्त वर्ष 2019 से एबिटा मार्जिन से फायदा मिलने की उम्मीद है। विश्लेषकों का मानना है कि वित्त वर्ष 2019 और 2020 में कंपनी की आय में 20-20 प्रतिशत इजाफा हो सकता है। 
कीवर्ड सन टीवी, नेटवर्क, कंपनी,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक