होम » Investments
«वापस

झमाझम मॉनसून से इन शेयरों में आएगा दम

राम प्रसाद साहू |  Apr 08, 2018 09:41 PM IST

इस साल मॉनसून सामान्य रहने की उम्मीद जताई जा रही है। ऐसे में ग्रामीण क्षेत्रों में मोटी बिक्री करने वाली कंपनियां कारोबार में अधिक तेजी की उम्मीद कर सकती हैं। मौसम का पूर्वानुमान लगाने वाली दो निजी संस्थाओं स्काईमेट और वेदर रिस्क मैनेजमेंट सर्विसेस का कहना है कि जून से सितंबर की अवधि में बारिश सामान्य रह सकती है। क्रिसिल में मुख्य अर्थशास्त्री डी के जोशी का कहना है कि मॉनसून को लेकर शुरुआती अनुमान सकारात्मक तो हैं, लेकिन वर्षा का वितरण भी बराबर होना चाहिए। जोशी ने कहा कि इस पर जून में स्थिति साफ हो पाएगी। मॉनसून सामान्य रहने से संपूर्ण अर्थव्यवस्था और ग्रामीण क्षेत्रों में खपत को बढ़ावा मिलेगा। इक्रा में वरिष्ठï उपाध्यक्ष सुब्रत रे का कहना है कि सामान्य मॉनसून से एफएमसीजी कंपनियों, कंज्यूमर ड्यरेबल्स और वाहन और इनके अलावा बीज एवं कृक्षि कार्यों से जुड़ी कंपनियों को लाभ होगा। ग्रामीण क्षेत्रों में मांग की स्थिति सुधरने से घरेलू खपत को भी बढ़ावा मिलेगा। 

 
बारिश अच्छी रहने से वाहनों की मांग बढ़ेगी, जिससे वाहन क्षेत्र को फायदा होगा। रे ने कहा कि वाहन क्षेत्र में दोपहिया और ट्रैक्टर (महिंद्रा ऐंड महिंद्रा और एस्कॉट्र्स) खंडों का अच्छे मॉनसून से सीधा संबंध है। यात्री वाहन खंड में 30 प्रतिशत मांग ग्रामीण क्षेत्रों से प्राप्त होती है। मोटरसाइकल की कुल मांग में 40 प्रतिशत हिस्सेदारी ग्रामीण क्षेत्रों की है। मारुति सुजूकी और हीरो मोटोकॉर्प सबसे अधिक फायदे में रह सकती हैं।  मोतीलाल ओसवाल सिक्योरिटीज के शोध प्रमुख गौतम दुग्गड के अनुसार ग्रामीण क्षेत्रों पर केंद्रित गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (एनबीएफसी) को भी लाभ मिलेगा। उनका मानना है कि कंपनियों पर अच्छे मॉनसून का प्रभाव थोड़ी देर से दिखेगा। एनबीएफसी खंड में एमऐंडएम  फाइनैंशियल और भारत फाइनैंशियल ग्रामीण क्षेत्रों में अधिक खपत और खर्च से फायदे में रह सकती हैं। शेयरखान में शोध प्रमुख गौरव दुआ कहते हैं, 'कुछ कंपनियों के शेयरों में सुधार हो सकता है। हालांकि सूचकांक के स्तर पर आय पर कोई खास प्रभाव नहीं पड़ेगा।'
 
सामान्य मॉनसून की उम्मीद और कृषि आय बढ़ाने के सरकारी प्रयासों को देखते हुए ज्यादातर ब्रोकरेज कंपनियां ग्रामीण क्षेत्रों पर केंद्रित शेयरों को लेकर उत्साहित हैं। कोटक सिक्योरिटीज में उपाध्यक्ष संजीव जरबाडे ने कहा कि फसल बीमा, सूक्ष्म सिंचाई, ऊंचे न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) और कृषि ऋण माफी जैसी पहल को देखते हुए उन शेयरों को लाभ मिलेगा, जो कृषि उत्पादन, खपत और मशीनीकरण बढऩे से लाभान्वित होते हैं। वह एस्कॉट्र्स, इन्सेक्टीसाइड्स इंडिया और हिंदुस्तान यूनिलीवर को लेकर खासे उत्साहित हैं।
 
एफएमसीजी शेयरों में इमामी, डाबर और बजाज कॉर्प फायदे में रह सकती हैं। कृषि क्षेत्र से जुड़ी कंपनियों के अच्छे कारोबार के लिए सामान्य मॉनसून सबसे बड़ा कारक होता है, लेकिन हाल में वित्त वर्ष 2019 के लिए पोषक तत्त्व आधारित सब्सिडी दर की घोषणा से भी खासी मदद मिलनी चाहिए। एडलवाइस सिक्योरिटीज के रोहन गुप्ता और निहाल महेश झाम का कहना है कि इस कदम से उर्वरकों की कीमतों में तेजी से किसानों को सुरक्षा मिलेगी और मांग में वृद्धि में भी यह सहायक होगा। इनका कहना है कि मिश्रित उर्वरक कंपनियों जैसे कोरोमंडल इंटरनैशनल, जुआरी एग्रोकेम और दीपक फर्टिलाइजर का कारोबार फायदे में रह सकता है। 
कीवर्ड share, market, sensex, बीएसई, कंपनी, शेयर,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक