होम » Investments
«वापस

शुद्ध मुनाफा लुढ़का लेकिन प्रदर्शन से चौंकाया

अमृता पिल्लै और उज्ज्वल जौहरी |  Apr 29, 2018 10:07 PM IST

देश की सबसे बड़ी सीमेंट कंपनी अल्ट्राटेक का शुद्ध मुनाफा सालाना आधार पर मार्च तिमाही में 39 प्रतिशत फिसल गया। खरीदी गई परिसंपत्तियों पर स्टांप ड्यूटी के लिए हुए प्रावधान और पश्चिम एशिया और ओमान में परिसंपत्तियों को हुए 3.15 अरब रुपये के नुकसान से शुद्ध मुनाफा 7.24 अरब रुपये रहा, जो एक साल पहले की समान अवधि के 7.26 अरब रुपये के करीब रहा।  एकल स्तर पर (घरेलू परिचालन के लिए) समायोजित शुद्ध मुनाफा 6.77 अरब रुपये रहा, जो एक साल पहले के 6.88 अरब रुपये के इर्द-गिर्द ही रहा। ये आंकड़े ब्लूमबर्ग के 5.37 अरब रुपये अनुमान से कहीं अधिक रहे। मोटे तौर पर कंपनी का प्रदर्शन उम्मीद से बेहतर रहा। सालाना आधार पर प्राप्तियों में 5 प्रतिशत सुधार हुआ और ये अनुमान से बेहतर रहीं, साथ ही अधिग्रहीत जयप्रकाश एसोसिएट्स सीमेंट परिसंपत्तियों में औसत संयंत्र की उपयोगिता (यूटिलाइजेशन) 75 प्रतिशत रही। मोतीलाल ओसवाल सिक्योरिटीज के विश्लेषकों ने अधिग्रहीत परिसंपत्ति उपयोगिता स्तर 70 प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया था। 

 
विश्लेषकों ने तिमाही के दौरान ब्लेंडेड रियलाइजेशन में सालाना आधार पर 2.3 प्रतिशत बढ़ोतरी होने का अनुमान लगाया था। लिहाजा, ईंधन एवं परिवहन खर्च में तेजी के बाद भी अल्ट्राटेक की ब्याज, कराधान, मूल्य ह्रïास (ईबीआईटीडीए) पूर्व आय 18.09 अरब रुपये रही। यह आंकड़ा निवेशकों के 14.78 अरब रुपये अनुमान से कहीं अधिक रहा। मार्जिन भी पिछली तिमाही के 17 प्रतिशत से बढ़कर 20 प्रतिशत के स्तर पर पहुंच गया। हालांकि अधिग्रहण पूर्व एक साल पहले की तिमाही के 23 प्रतिशत के मुकाबले मार्जिन कम रहा। जेपी की परिसंपत्तियों ने कम मार्जिन दिया, इसलिए सालाना आधार पर मार्जिन में कमी से आश्चर्य नहीं होना चाहिए।
 
अल्ट्राटेक की बिक्री घरेलू बाजार में 1.76 करोड़ टन रही, जो सालाना आधार पर 32 प्रतिशत अधिक रही। कुल मिलाकर बिक्री का आंकड़ा सालाना आधार पर 31 प्रतिशत सुधरकर 1.84 करोड़ टन रहा। बिक्री और प्राप्तियों में मजबूत वृद्धि से कंपनी का राजस्व एकल आधार पर 88.81 अरब रुपये रहा, यानी इसमें सालाना आधार पर 37 प्रतिशत तेजी आई। यह एक बार फिर 85.43 अरब रुपये के अनुमान से अधिक रहा। समेकित राजस्व भी सालाना आधार पर 34 प्रतिशत बढ़कर 92.98 अरब रुपये रहा। विश्लेषकों के अनुसार अल्ट्राटेक का प्रदर्शन पूरे सीमेंट क्षेत्र के लिए संभावनाएं मजबूत कर सकता है।  आगे चलकर सभी की निगाहें प्राप्तियों में सुधार पर होगी, क्योंकि मांग की हालत बेहतर चल रही है। आवास की मांग भी बढ़ रही है, जबकि अधोसंरचना क्षेत्र में मांग में तेजी सीमेंट की बिक्री बढ़ाने में मददगार साबित हो रही है। मांग बेहतर रहने से लागत का दबाव संभालने के लिए प्राप्तियों में सुधार होना जरूरी है। मार्च तिमाही में सालाना आधार पर पेट कोक की कीमतें 20 प्रतिशत बढ़कर 104 डॉलर प्रति टन हो गई हैं। अल्ट्राटेक के लिए प्रति टन ईंधन खर्च 17.5 प्रतिशत बढ़ गया, वहीं लॉजिस्टिक खर्च तिमाही के दौरान सालाना आधार पर 6 प्रतिशत अधिक रहा। कंपनी भी खर्च कम करने पर काम कर रही है और ज्यादातर संयंत्रों में पेट कोक की जगह कोयले का इस्तेमाल करना चाहती है। 
 
अल्ट्राटेक को भरोसा है कि अधिग्रहीत सीमेंट परिसंपत्तियां कर पूर्व मुनाफे के स्तर पर जून 2019 से पहले नफा न नुकसान की स्थिति में आ जाएगी। निवेशकों को कंपनी ने कहा कि वह इन परिसंपत्तियों के लिए लागत कम करने पर विचार करेगी, साथ ही डीलर और खुदरा नेटवर्क में विस्तार पर ध्यान देगी। कंपनी ने यह भी कहा कि वह नए बाजार में अल्ट्राटेक का कारोबार फैलाएगी और मौजूदा और अधिग्रहीत परिसंपत्तियों के बीच तालमेल स्थापित करेगी। अल्ट्राटेक ने 2017 में जेपी और जेपी सीमेंट कॉर्पोरेशन की सीमेंट परिसंपत्तियां खरीदने के लिए देश में सीमेंट क्षेत्र में सबसे बड़ा सौदा किया, जिस पर इसने161.89 अरब रुपये खर्च किए। कंपनी अधिग्रहीत परिसंपत्तियों के लिए नकदी के लिहाज से नफा न नुकसान की हाल में आ गई है, साथ ही क्षमता के इस्तेमाल का स्तर 75 प्रतिशत तक रहा। अल्ट्राटेक ने कहा कि मार्च तिमाही में कुल क्षमता उपयोगिता 80 प्रतिशत रही। 
 
मार्च तिमाही की समाप्ति पर जेपी परिसंपत्तियों का क्षमता इस्तेमाल 80 प्रतिशत से अधिक रहा, इसलिए परिसंपत्तियों की औसत उपयोगिता जून तिमाही में भी सुधरने के आसार है। मार्च तिमाही में कंपनी ने अपने ऊपर कर्ज बोझ 10.50 अरब रुपये कम कर लिया। रिलायंस सिक्योरिटीज के विनोद मोदी सहित दूसरे विश्लेषकों का कहना है कि चौथी तिमाही में ईबीआईटीडीए प्रति टन 857 रुपये के साथ जरूर सुधरा है, लेकिन यह अब भी कम है और प्राप्तियों में सुधार और अधिग्रहीत परिसंपत्तियों की उपयोगिता तेजी से बढऩे से आने वाली तिमाहियों में इसमें और सुधार की उम्मीद है। मोदी ने कहा कि हाल में प्राप्तियों में सुधार से आगामी तिमाहियों में अल्ट्राटेक का परिचालन प्रदर्शन और सुधरने की उम्मीद है।
 
बिक्री में मजबूत वृद्धि के अनुमान और कम पूंजीगत व्यय के साथ विस्तार, साथ ही अधिग्रहीत परिसंपत्तियों के मुनाफे में सुधार के मद्देनजर शेयरखान के विश्लेषकों ने भी कंपनी के लिए अपनी रेटिंग 'बाई' कर दी है। बिनानी समूह के अधिग्रहण की अल्ट्राटेक की पहल से जुड़ी कोई सकारात्मक खबर आने से निवेशकों का उत्साह और बढऩा चाहिए।   
कीवर्ड ultratec, profit,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक