होम » Investments
«वापस

मुफ्त स्वास्थ्य जांच में भी जुड़ी होती हैं शर्तें

प्रियदर्शिनी माजी |  May 06, 2018 08:18 PM IST

सेहत में निवेश

कुछ पॉलिसी में दी जाने वाली राशि काफी कम होती है या देरी से मिलती है
सबसे ज्यादा ध्यान स्वास्थ्य बीमा कंपनी द्वारा मुहैया कराए जाने वाले बुनियादी कवर पर देना चाहिए, जबकि मुफ्त स्वास्थ्य जांच जैसे अतिरिक्त लाभों को गौण मानना चाहिए

इन दिनों बहुत सी बीमा कंपनियां मुफ्त स्वास्थ्य जांच को अपनी पॉलिसी की खूबी के रूप में पेश कर रही हैं। नियमित जांच से बीमारी का जल्दी पता लगाने में मदद मिल सकती है। ये जांच विशेष रूप भारत जैसे देश में ज्यादा उपयोगी होती हैं, जहां लोग अपना पैसा खर्च कर नियमित स्वास्थ्य जांच नहीं कराते हैं। हालांकि आपको मुफ्त स्वास्थ्य जांच की खूबी वाली कोई पॉलिसी खरीदने से पहले इसके ब्योरे का ठीक से पता लगाना चाहिए।  स्वास्थ्य खर्च तेजी से बढ़ रहा है और उतनी ही तेजी से जीवनशैली से जुड़ी बीमारियां बढ़ रही हैं। किसी भी बीमारी का देरी से इलाज कराने पर लागत काफी बढ़ जाती है। अगर किसी बीमारी का शुरुआत में जांच से पता चल जाए तो खर्च काफी कम आता है।

रेलिगेयर हेल्थ इंश्योरेंस के एमडी और सीईओ अनुज गुलाटी कहते हैं, 'जीवनशैली से जुड़ी बीमारियां तेजी से बढ़ रही हैं, इसलिए साल में कम से कम एक बार स्वास्थ्य जांच जरूर करानी चाहिए।' पॉलिसीएक्स डॉट कॉम के सीईओ नवल गोयल कहते हैं, 'ऐसी जांच से आप स्वास्थ्य की हालत के बारे में ज्यादा जागरूक हो जाते हैं।' वे कहते हैं, 'वे आपको यह समझने में मदद करते हैं कि उम्र बढऩे के साथ आपकी स्वास्थ्य जरूरतें कैसे बदल रही हैं और इनकी मदद से आप सही समय पर अपनी वर्तमान स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी में बदलाव कर सकते हैं।' उदाहरण के लिए आप उम्र बढ़ने के साथ अपनी बीमित राशि बढ़ा सकते हैं। 

भारतीय बीमा विनियामक एवं विकास प्राधिकरण (इरडा) के मुताबिक इस समय देश में महज 3.49 फीसदी लोगों के पास स्वास्थ्य बीमा है। उद्योग के एक विशेषज्ञ ने कहा कि 10 फीसदी से भी कम पॉलिसी धारकों को अपनी बीमा कंपनियों से मुफ्त स्वास्थ्य जांच का लाभ मिलता है। आमतौर पर किसी क्लीनिक या अस्पताल से पूरे शरीर की जांच की लागत 1,600 रुपये से 3,000 रुपये तक आती है। पॉलिसी धारकों को साल में एक बार या नवीनीकरण के समय अपनी बीमा कंपनियों से इस लाभ के बारे में पूछताछ करनी चाहिए। 

जितनी राशि की मुफ्त जांच की पेशकश की जाती है, वह व्यक्तिगत और फैमिली फ्लॉटर पॉलिसी में अलग-अलग होती है। इस लिहाज से बीमा कंपनियों के बीच भी फर्क होता है। आमतौर पर यह लाभ पॉलिसी लेने के एक निश्चित समय के बाद ही मिलता है। उदाहरण के लिए एचडीएफसी एर्गो जनरल इंश्योरेंस यह लाभ पॉलिसी लेने के चार साल बाद मुहैया कराती है। दूसरी ओर रेलिगेयर हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी लेने के साथ ही यह लाभ मुहैया कराना शुरू कर देती है।  कई बार जितनी राशि की मुफ्त जांच मुहैया कराई जाती हैं, वह परिवार के सभी बीमित लोगों के लिए नाकाफी होती है। तीन लाख रुपये की बीमित राशि वाली स्टार हेल्थ इंश्योरेंस की एक फैमिली फ्लोटर पॉलिसी परिवार के सभी सदस्यों के लिए महज 750 रुपये मुहैया कराती है। एक अन्य दिक्कत यह है कि मुफ्त स्वास्थ्य जांच के लिए बीमा कंपनी जो राशि मुहैया कराती है, वह आपकी शुरुआती बीमित राशि पर निर्भर करती है। अगर नो क्लेम बोनस के कारण बीमित राशि बढ़ती है तो मुफ्त स्वास्थ्य जांच की राशि में उसी अनुपात में बढ़ोतरी नहीं होती है। 

कुछ पॉलिसी में यह लाभ हर साल नहीं मुहैया कराया जाता है बल्कि हर दो साल में दिया जाता है। उदाहरण के लिए अपोलो म्यूनिख बीमित राशि के एक फीसदी तक मुफ्त स्वास्थ्य जांच मुहैया कराती है, जिसकी अधिकतम सीमा प्रत्येक व्यक्ति के लिए 5,000 रुपये है। यह लाभ हर दो साल में मिलता है। विशेषज्ञ सुझाव देते हैं कि पॉलिसी की इस खूबी से स्वास्थ्य जांच मुफ्त मिलती है, लेकिन केवल इसके आधार पर ही कोई स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी न लें। पॉलिसी लेते समय पहले की बीमारियों को शामिल न करने, दावा प्रक्रिया, इंतजार अवधि, अस्पताल नेटवर्क, अस्पताल में भर्ती होने से पहले और बाद का कवर और आजीवन नवीनीकरण जैसी चीजों पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए। 

पॉलिसीबाजार डॉट कॉम के प्रमुख (उत्पाद एवं नवप्रवर्तन) वैद्यनाथन रमानी ने कहा, 'यह युवा परिवारों और नियमित जांच की जरूरत वाले उम्रदराज लोगों के लिए आवश्यक खूबी हो सकती है। अन्य के लिए यह बिना पैसे खर्च किए जांच के लिए प्रोत्साहित करने का जरिया है।' रमानी ने कहा कि सबसे ज्यादा ध्यान स्वास्थ्य बीमा कंपनी द्वारा मुहैया कराए जाने वाले बुनियादी कवर पर देना चाहिए, जबकि मुफ्त स्वास्थ्य जांच जैसे अतिरिक्त लाभों को गौण मानना चाहिए। 
कीवर्ड health insurance, NHPS, modi care,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक