होम » Investments
«वापस

हिंडाल्को शेयर में गिरावट देगी निवेश का मौका

उज्ज्वल जौहरी |  May 20, 2018 09:56 PM IST

अमेरिका में सहायक इकाई नोवेलिस के मजबूत प्रदर्शन और मार्च तिमाहियों में एल्युमीनियम की ऊंची कीमतों के मद्देनजर हिंडाल्को के घरेलू प्रदर्शन को लेकर उम्मीदें काफी अधिक थीं। पिछले एक पखवाड़े में शेयर में 7 प्रतिशत तेजी आई थी। ऐसे में प्रदर्शन उम्मीद से कमजोर रहने से बुधवार को शेयर कारोबार के दौरान 2.3 प्रतिशत नीचे चला आया और बाद में 1.3 प्रतिशत फिसलकर 240 रुपये पर बंद हुआ। पूरे साल के लिए हिंडाल्को का प्रदर्शन मजबूत था। इतना ही नहीं, विश्लेषकों के अनुसार हिंडाल्को के लिए संभावनाएं मजबूत हैं, इसलिए शेयर में कोई भी गिरावट निवेश के लिए अच्छा मौका हो सकता है। 

 
चौथी तिमाही में एलएमई में सालाना आधार पर एल्युमीनियम कीमतों में 21 प्रतिशत तेजी आई। हालांकि लागत बढऩे और उत्पादन के एक हिस्से के लिए कीमतें पहले तय हो जाने से लाभ सीमित रह गया। एक फास्फोरिक एसिड संयंत्र के बंद होने से भी इसके तांबा खंड में बिक्री पर असर पड़ा, जबकि ट्रीटमेंट और रिफाइनिंग शुल्क से इस खंड का मुनाफा विश्लेषकों के अनुमान से कम रहा। कुल राजस्व में 53 प्रतिशत योगदान रखने वाले इस खंड का परिचालन मुनाफा पिछले साल के मुकाबले एक तिहाई कम होकर चौथी तिमाही में 3.3 अरब रुपये रहा। एल्युमीनियम खंड का परिचालन मुनाफा 11.5 प्रतिशत बढ़कर 12.65 अरब रुपये रहा। इससे कुल परिचालन मुनाफा एक साल पहले के 17.9 अरब रुपये से बढ़कर 18.1 अरब रुपये हो गया। इस तरह, एकल कारोबार के लिए शुद्ध मुनाफा करीब 3.8 अरब रुपये के साथ विश्लेषकों के 4.75 अरब रुपये अनुमान से कम रहा। 
 
मजबूत संभावनाएं
 
हालांकि इन बातों के बावजूद संभावनाएं मजबूत लग रही हैं। एलएमई में एल्युमीनियम कीमतों के लिए आगे का रुझान दुरुस्त लग रहा है और कारोबार पर लागत का दबाव भी कम हो रहा है। वित्त वर्ष 2018 में इसके 50 प्रतिशत एल्युमीनियम की हेजिंग 2,100 डॉलर प्रति टन कीमत पर हुई थी, लेकिन कंपनी ने इसे कम कर 35 प्रतिशत (7 से 8 प्रतिशत अधिक, 2,275 से 2,300 डॉलर प्रति टन) कर दिया है।  तांबा खंड की वृद्धि दर भी सामान्य स्तर पर पहुंच रही है, क्योंकि रखरखाव के लिए बंद रहने के बाद संयंत्र ने दोबारा काम करना शुरू कर दिया है। हालांकि टीसी/आरसी नरम रहा है, इसलिए एसिड की ऊंची कीमतें और डीएपी (डाई-अमोनियम फास्फोट) से जुड़ी प्राप्तियां कुछ भरपाई कर सकती है। ध्यान देने योग्य बात है कि चौथी तिमाही में नोवेलिस के रिकॉर्ड मुनाफे से अमेरिका और अन्य देशों के बीच व्यापार युद्ध जोर पकडऩे का कोई असर नहीं होगा। विश्लेषकों ने कहा कि ऑटोमोटिव उत्पादों में विविधता बढऩे, अधिक बिक्री और बेवरिज में मार्जिन सुधरने से परिचालन मुनाफा बढ़ सकता है। नोवेलिस मुख्य रूप से एल्युमीनियम को मूल्य-वद्र्धित उत्पादों जैसे बेवरिज केन, वाहन उपकरण आदि में बदलती है। 
 
इस बीच, वित्त वर्ष 2018 में हिंडाल्को ने अपने पूरे प्रदर्शन में खासा सुधार किया है। एल्युमीनियम और तांबा के रिकॉर्ड उत्पादन और नोवेलिस के योगदान से एल्युमीनियम से प्राप्त आंकड़े मजबूत रहे। हिंडाल्को अपने भारतीय कारोबार पर कर्ज बोझ करीब 80 अरब रुपये घटाने में सफल रही है, जिससे शुद्ध कर्ज और ईबीआईटीडीए अनुपात 2.67 हो गया है। नोवेलिस को नकदी प्रवाह में 12 प्रतिशत वृद्धि की उम्मीद है, वहीं अमेरिका कारोबार ने शुद्ध कर्ज एवं ईबीआईटीडीए अनुपात 3 रह गया, जो वित्त वर्ष 2017 में 3.9 था। हिंडाल्को के समेकित शुद्ध मुनाफे एवं ईबीआईटीडीए  का अनुपात कम होकर 2.92 रहा। कंपनी 2.5 से 3 अनुपात के साथ सहज है। कंपनी के प्रबंध निदेशक सतीश पाई का कहना है कि कारोबार बढ़ाने के लिए कंपनी नकदी प्रवाह का इस्तेमाल नहीं करेगी। पाई मौजूदा डाउनस्ट्रीम विस्तार से वित्त वर्ष 2019 में बिक्री में 10 से 12 प्रतिशत इजाफा होना चाहिए। उन्होंने कहा कि हरेक साल इससे कुछ मुनाफा होगा।
 
तांबा कारोबार में नए कास्टा रॉड प्लांट की शुरुआत चौथी तिमाही में हुई थी। उत्कल एल्युमीनियम क्षमता बढ़ाने पर काम शुरू हो गया है, जो अगले 30 महीने में पूरा होने की उम्मीद है और इस पर करीब 13 अरब रुपये खर्च होंगे। उत्पादन विविधता में इजाफा करने के लिए कंपनी एल्युमीनियम डाउनस्ट्रीम सुविधाओं में निवेश का मूल्यांकन कर रही है। नोवेलिस अमेरिका में 200,000 टन ऑटोमोटिव फिनिशिंग फैसिलिटी स्थापित कर रही है। इन सभी सकारात्मक बातों से कारोबार को और मजबूती मिलेगी। विश्लेषक कंपनी को लेकर उत्साहित हैं। प्रभुदास लीलाधर ने पिछले सप्ताह नोवेलिस के परिणाम के बाद कहा था कि इन सभी चीजों और भारत में स्थिर कारोबार के बीच हिंडाल्को आय के मजबूत आंकड़े दर्ज करती रहेगी। 
कीवर्ड aluminium, america, hindalco,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक