'अभी हमारे पास है पर्याप्त पूंजी'

सुब्रत पांडा |  Sep 15, 2017 10:04 PM IST

एसबीआई लाइफ के आरंभिक सार्वजनिक निर्गम से पहले कंपनी के प्रबंध निदेशक व मुख्य कार्याधिकारी अरिजित बसु ने सुब्रत पांडा को दिए साक्षात्कार में कंपनी की मौजूदा स्थिति और भविष्य की संभावनाओं पर बात की। पेश हैं मुख्य अंश...

 
एसबीआई लाइफ का मूल्यांकन 46,000 करोड़ रुपये था जब केकेआर व टीमासेक ने दिसंबर 2016 में 1.95 फीसदी हिस्सेदारी खरीदी थी। अब इसका मूल्यांकन करीब 70,000 करोड़ रुपये है। नौ महीने में मूल्यांकन में तीव्र बढ़ोतरी की क्या वजह है?
 
जब दिसंबर 2016 में एसबीआई लाइफ की हिस्सेदारी बेची गई थी तब जिस एम्बेडेड वैल्यू पर विचार किया गया था वह मार्च 2016 का था। उस समय यह 12,299 करोड़ रुपये था और इसके ऊपर 3.54 गुना था। ऐसे में मूल्यांकन 46,000 करोड़ रुपये का था। तब से एम्बेडेड वैल्यू 32 फीसदी बढ़कर 16,358 करोड़ रुपये हो गई है। अन्य चीज जिस पर विचार हुआ वह था बाजार पूंजीकरण और समकक्ष सूचीबद्ध कंपनियों का मूल्यांकन।
 
आपकी सूचीबद्धता में सिर्फ शेयर बिक्री शामिल है। क्या एसबीआई लाइफ भविष्य में नए शेयर जारी कर रकम जुटाने पर विचार करेगी?
 
हमारे आकलन के हिसाब से अभी हमें पूंजी की दरकार नहीं है क्योंकि हमारा सॉल्वेंसी मार्जिन दो से ज्यादा है और यह उद्योग के मानक से काफी ऊपर है। भविष्य में यानी तीन साल बाद जब हम बाजार में उतरना चाहेंगे तो हमें शायद और पूंजी की दरकार होगी।
 
कई बीमा कंपनियां सूचीबद्धता की ओर बढ़ रही हैं, ऐसे में क्या निवेशकों में पर्याप्त तौर पर स्वाभाविक इच्छा होगी? कौन सी चीजें आपको सूचीबद्धता की ओर बढ़ा रहा है?
 
संस्थागत निवेशकों की तरफ से फीडबैक यह है कि हमारे इश्यू की काफी अच्छी मांग है। बीमा अपेक्षाकृत नया क्षेत्र है। पहले सिर्फ एलआईसी थी। यह क्षेत्र 16 साल पहले खुला और ये कंपनियां 12 से 15 साल परिपक्व होने में लगाती हैं। ऐसे में यह ऐसा चरण है जब सभी अग्रणी कंपनियां परिपक्व हो चुकी हैं। इसी वजह से हम आईपीओ बाजार की ओर बढ़ रहे हैं। दूसरा, बाजार में बीमा कंपनियां नहीं हैं। वित्तीय क्षेत्र में सिर्फ बैंक व एनबीएफसी एक्सचेंज पर सूचीबद्ध हैं। ऐसे में निवेशक विभिन्न बीमा कंपनियों की सूचीबद्धता का स्वागत कर रहे हैं। सूचीबद्धता के साथ प्रदर्शन का आकलन बेहतर हो सकता है और यह निश्चित स्तर की नकदी उपलब्ध कराता है।
 
वित्त वर्ष 2018 के लिए आप कैसा परिदृश्य देख रहे हैं?
 
पहली तिमाही के नतीजे उत्साहजनक रहे हैं। नए बिजनेस प्रीमियम में हमने अपने ग्रुप का कारोबार घटाया है। वैयक्तिक प्लेटफॉर्म पर हमने 48 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की है। 
कीवर्ड SBI life, arijit basu,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक