योजनाओं का नाम बदलने पर बिड़ला सन लाइफ एमएफ की खिंचाई

ऐश्ली कुटिन्हो | मुंबई Sep 15, 2017 10:05 PM IST

भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) ने ऋण योजनाओं का नाम बदलने पर बिड़ला सन लाइफ म्युचुअल फंड को आड़े हाथों लिया है। मई में फंड हाउस ने तीन मासिक आय योजनाओं (एमआईपी) का नाम बदला था और इसके तहत बिड़ला सन लाइफ एमआईपी से बिड़ला सन लाइफ लॉन्ग टर्म एक्रुअल फंड, बिड़ला सन लाइफ एमआईपी-2 सेविंग्स 5 प्लान से बिड़ला सन लाइफ क्रेडिट ऑपरच्युनिटीज फंड और बिड़ला सन लाइफ मंथली इनकम से बिड़ला सन लाइफ लो ड्यूरेशन फंड कर दिया था।
 
सूत्रों ने कहा, एमआईपी हाइब्रिड योजनाएं होती हैं, जो तय आय वाली प्रतिभूतियों में मुख्य रूप से निवेश करती है और मोटे तौर पर 10 से 30 फीसदी इक्विटी में निवेश होता है। मई में नाम बदले जाने से पहले इन योजनाओं के पोर्टफोलियो का ढांचा बदलकर मुख्यतया इसे ऋण योजना बना दिया गया था। सूत्रों ने कहा, नियामक ने कुछ हफ्ते पहले फंड हाउस से कहा कि वह योजनाओं को मूल नाम पर वापस लौट जाए। फंड हाउस वापस मूल नाम पर लौट आया है, लेकिन उनका पोर्टफोलियो मुख्यरूप से ऋण योजनाओं का ही है। एक व्यक्ति ने कहा, उन्होंने जो कुछ किया उस पर सवाल उठाए जा सकते हैं। क्या उन्होंने यह बदलाव निवेशकों के बड़े समूह को लक्षित करने और नया निवेश हासिल करने के लिए किया था? क्या यह कदम मौजूदा व नए निवेशकों के लिए उचित है? इस बारे में जानकारी के लिए बिड़ला सन लाइफ को भेजे गए ईमेल का जवाब नहीं मिला।
 
बिड़ला सन लाइफ एमआईपी ने ऋण पर 98.25 फीसदी आवंटन किया है जबकि बाकी नकद व नकद समकक्ष है। बिड़ला सन लाइफ एमआईपी 2 -सेविंग्स 5 प्लान के तहत 96.77 फीसदी डेट में, 1.22 फीसदी नकद और 2 फीसदी इक्विटी में निवेश है। बिड़ला सन लाइफ मंथली इनकम का 96.87 फीसदी डेट में, 2.08 फीसदी नकद और 1.05 फीसदी इक्विटी में है। यह जानकारी वैल्यू रिसर्च के आंकड़ों से मिली।
कीवर्ड sebi, भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी),

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक